Home » साइंस-टेक » Jaguar Land Rover cars are drive like a hoover
 

दिल्ली की हवा जगुआर लैंड रोवर कारों से निकलने वाले धुएं से ज्यादा गंदी

कैच ब्यूरो | Updated on: 9 February 2016, 15:37 IST

टाटा कंपनी के स्वामित्व वाली जगुआर लैंड रोवर के मुताबिक उनकी कारें दिल्ली के प्रदूषण स्तर में कमी ला सकती हैं क्योंकि ये कारें यूरो-6 मानकों का पालन करती हैं.

ब्रिटेन स्थित जगुआर लैंड रोवर के सीईओ राल्फ स्पेठ ने बताया कि नवीनतम तकनीकी से लैस उनकी कारें दिल्ली में जो हवा सोखती हैं वो इनसे उत्सर्जित किए जाने वाले धुएं से ज्यादा गंदी होती है. 

उन्होंने कहा, "नवीनतम यूरो-6 मानक के अंतर्गत कुछ ऐसे तकनीकी फीचर्स हैं जो दिल्ली की हवा को साफ कर सकते हैं. इस तरह के वाहन एक  हूवर यानी वैक्यूम क्लीनर की तरह हवा को स्वच्छ करने वाले उपकरण की तरह सड़कों पर चलते हैं. जो हवा यह वाहन सोखते हैं वह इनसे निकलने वाली हवा से कहीं ज्यादा गंदी होती है."

नवीनतम यूरो-6 मानक के अंतर्गत कुछ ऐसे तकनीकी फीचर्स हैं जो दिल्ली के वायु प्रदूषण को कम कर सकते हैं

गौरतलब है कि जगुआर लैंड रोवर उन ऑटोमोबाइल कंपनियों में से है जो सुप्रीम कोर्ट के दिसंबर 2015 के निर्णय से प्रभावित हुईं. इस आदेश में कोर्ट ने पूरे एनसीआर में 2000 सीसी से ज्यादा इंजन क्षमता वाली एसयूवी-कारों के पंजीकरण पर 31 मार्च 2016 तक प्रतिबंध लगा दिया गया था. 

इस प्रतिबंध पर स्पेठ ने कहा, "यदि आप इस तरह के वाहनों पर प्रतिबंधन लगाते हैं तो यह मेरी समझ से बाहर की बात हैै. अगर प्रदूषण कम करना और हवा की गुणवत्ता में सुधार लाना ही आपका उद्देश्य है तो इसके लिए व्यापक उपाय किए जाने चाहिए. पुरानी कारों पर रोक लगे और प्रदूषण फैलाने वाले दूसरे स्रोतों पर नियंत्रण होने चाहिए."

First published: 9 February 2016, 15:37 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी