Home » साइंस-टेक » Kaspersky reveals that malware under cleaner app steal personal data of user
 

सावधान: 250 करोड़ स्मार्टफोन्स पर मंडराया बड़ा खतरा, नहीं चेते तो आपका भी हो सकता है भारी नुकसान

कैच ब्यूरो | Updated on: 13 April 2020, 14:25 IST

Smartphone Hacking: अगर आप भी स्मार्टफोन रखते हैं तो ये खबर आपको सावधान करने वाली है. दरअसल, एक साइबर सिक्योरिटी कंपनी ने स्मार्टफोन यूजर्स को सावधान रहने को कहा है. Kaspersky लैब्स नामक साइबर सिक्योरिटी कंपनी ने एक वायरस का पता लगाया है, बताया जा रहा है कि इस वायरस को आसानी से डिलीट नहीं किया जा सकता.

इस वायरस से अब दुनियाभर में करीब 250 करोड़ स्मार्टफोन पर खतरा मंडराने लगा है. कंपनी ने बताया कि यह मैलवेयर स्मार्टफोन्स में हमेशा मौजूद रह सकता है. इसके द्वारा हैकर्स आपका पर्सनल डाटा चोरी कर सकते हैं. हैकर्स की इस शातिर चाल से पूरी दुनिया के 250 करोड़ से ज्यादा ऐंड्रॉयड स्मार्टफोन्स पर खतरा मंडराने लगा है.

Kaspersky लैब्स कंपनी ने अनऑफिशल ऐप मार्केटप्लेस पर xHelper नामक इस मैलवेयर को खोजा है. कंपनी ने बताया कि हैकर्स इस मैलवेयर को बड़ी चालाकी से यूजर्स के डाटा चोरी करने के लिए इस्तेमाल करते हैं. यह लोगों के मोबाइल में फर्जी Cleaner ऐप के जरिए पहुंचाया जा रहा है. 

सबसे ज्यादा चिंता की बात यह है कि यह ऐप फोन में इंस्टॉल होने के बाद छिप जाता है. आप इसे न तो होम स्क्रीन पर देख सकते हैं और न ही प्रोग्राम मेन्यू में. इस खतरनाक ऐप को सिर्फ आप ऐंड्रॉयड सिस्टम सेटिंग्स में जाकर ही इंस्टॉल्ड ऐप की सूची में देख सकते हैं.

कंपनी ने एक पोस्ट में बताया कि इस मैलवेयर खतरे के बारे में उसे Trojan-Dropper.AndroidOS.Helper.h सैंपल को चेक करने के बाद पता चला. यह मैलवेयर इतना खतरनाक है कि यह बैकडोर के इंस्टॉल होने के बाद यूजर के सारे डेटा को ऐक्सेस कर लेता है. यूजर जब ऐप को या मैलवेयर को अनइंस्टॉल करने की कोशिश करता है, तो यह फिर से ऑटेमेटिकली इंस्टॉल हो जाता है.

एक्सपर्ट्स के अनुसार, इस मैलवेयर के साथ आपके फोन में एक और मलीशस प्रोग्राम इंस्टॉल हो जाता है, इसे डिलीट करने के बाद भी xHelper को रीइंस्टॉल कर देता है. हालांकि साइबर सिक्यॉरिटी एक्सपर्ट्स ने इसे फोन से हटाने का एक तरीका जरूर बताया है. आपको अपने एंड्रॉयड फोन में रिकवरी मोड सेटअप करना होगा. इसके बाद ऑरिजिनल फर्मवेयर से libc.so फाइल को बाहर निकालकर इंफेक्टेड फाइल से रिप्लेस कर सकते है.

lockdown: कई केंद्रीय मंत्री और अधिकारी अपने मंत्रालयों में लौटे - रिपोर्ट

Ambedkar Jayanti 2020: ज्ञानी के साथ बेहद ईमानदार भी थे बाबासाहेब भीमराव अंबेडकर

First published: 13 April 2020, 14:16 IST
 
अगली कहानी