Home » साइंस-टेक » Know 5 expectation on which Google Pixel smartphone isn't proved worthy enough: Pixel Phone Review in Hindi
 

5 उम्मीदें जिन पर खरा नहीं उतरा गूगल पिक्सल स्मार्टफोन

अमित कुमार बाजपेयी | Updated on: 6 October 2016, 14:43 IST

कॉर्निंग कंपनी ने इस अपने बहुप्रतीक्षित प्रोटेक्शन गोरिल्ला ग्लास 5 को लॉन्च किया था. स्क्रीन ग्लास प्रोटेक्शन के सबसे लेटेस्ट अपग्रेड को सैमसंग ने अपने फ्लैगशिप मॉडल गैलेक्सी नोट 7 में शामिल किया. नोट 7 पहला ऐसा स्मार्टफोन बना जिसने गोरिल्ला ग्लास 5 का प्रोटेक्शन ग्राहकों को मुहैया कराया.

उम्मीद की जा रही थी कि गूगल भी प्रीमियम सेगमेंट का हैंडसेट ला रहा है इसलिए स्क्रीन प्रोटेक्शन के लिए यह भी गोरिल्ला ग्लास 5 का इस्तेमाल करेगा. लेकिन यूजर्स की फोन स्क्रीन प्रोटेक्शन वाली इस उम्मीद पर गूगल खरा नहीं उतरा. जबकि नोट 7 और गूगल के दाम काफी हद तक एक समान हैं. 

यूं तो बताया जा रहा है कि गूगल का यह फोन आईफोन 7 और नोट 7 को टक्कर देने के लिए उतारा गया है. लेकिन एप्पल ने भी दुनिया के तमाम प्रमुख फोनों को देखने के बाद अपने आईफोन 7 प्लस में ड्युअल कैमरा फीचर दिया.

माना जा रहा था कि गूगल भी इन मौजूदा ड्युअल कैमरा फीचर वाले फोनों से अपडेटेड स्मार्टफोन पेश करेगा. साथ ही सैमसंग नोट 7 और आईफोन 7 से ज्यादा मेगापिक्सल वाला कैमरा लाएगा. लेकिन पिक्सल ने इस मामले में भी निराशा ही दी.

जानिए कैसे कंप्यूटर से करें टूटे हुए स्मार्टफोन को इस्तेमाल

गूगल ने सोनी के सेंसर वाले केवल 12.3 मेगापिक्सल रीयर कैमरा को ही पेश किया. जबकि सोनी अपनी मौजूदा फ्लैगशिप डिवाइस एक्सपीरिया XZ में ही 23 मेगापिक्सल का कैमरा दे रहा है. इसकी कीमत भी पिक्सल से कम है.

तमाम दिग्गज कंपनियों के मौजूदा फ्लैगशिप फोनों पर नजर डालें तो आईफोन 7 को छोड़कर बाकी ज्यादातर ड्युअल सिम हैं. आज ज्यादातर स्मार्टफोन यूजर्स दो सिम इस्तेमाल करते हैं ताकि इमरजेंसी में उनके पास दूसरे नंबर का बैकअप रहे. इसके साथ ही प्रीमियम हैंडसेट इस्तेमाल करने वाले ज्यादातर लोग दो सिम रखते हैं.

ऐसे में माना जा रहा था कि गूगल भी अपने पिक्सल फोन को ड्युअल सिम फीचर के साथ पेश करेगा. जहां सोनी XZ, सैमसंग नोट 7 समेत अन्य कई कंपनियों के फ्लैगशिप फोन ड्युअल सिम हैं, गूगल पिक्सल ने अपने फोन को केवल सिंगल सिम ही बनाया है.

आईफोन 7 और 7 प्लस को छोड़ दे तो अन्य प्रमुख कंपनियां आजकल यूजर्स को ज्यादा बैटरी पॉवर वाले फोन पेश कर रही हैं. इसके पीछे की वजह यह कि 4जी डाटा, वाई-फाई कनेक्टिविटी और मल्टीमीडिया फीचर्स का इस्तेमाल करने वाले प्रीमियम हैंडसेट यूजर्स की बैटरी तेजी से खत्म होती है.

ऐसे में सोचा गया था कि गूगल कुछ नया इन्नोवेशन करने के साथ ही ज्यादा एमएएच वाली बैटरी के साथ अपने पिक्सल और पिक्सल XL स्मार्टफोन को पेश करेगा. लेकिन गूगल ने यहां पर भी यूजर्स की उम्मीदों पर पानी फेर दिया और पिक्सल में 2,770 एमएएच की जबकि पिक्सल XL में 3,450 एमएएच पॉवर की बैटरी ही दी.

दिसंबर 2017 तक रिलायंस जियो वेलकम ऑफर बढ़ाने का तरीका है गैरकानूनी

हालांकि क्विक चार्ज फीचर को सपोर्ट करने वाला यह फोन केवल 15 मिनट की चार्जिंग में ही 7 घंटे की पॉवर देता है, लेकिन प्रीमियम ग्राहकों को हमेशा यह ध्यान देने की जरूरत पड़ जाती है कि कब उनकी बैटरी खत्म हो रही है.

यूं तो गूगल अपने इन्नोवेशन के लिए जाना जाता है. ऐसे में यह भी सोचा गया कि गूगल अपने पिक्सल और पिक्सल XL फोन में हाई सिक्योरिटी फीचर्स देकर ग्राहकों के डाटा और फोन को सुरक्षित रखने के कई फीचर्स देगा. 

जैसे सैमसंग गैलेक्सी नोट 7 ने इन्नोवेटिव एप्रोच दिखाते हुए फिंगरप्रिंट सेंसर के साथ ही आइरिश स्कैनर भी दिया, गूगल ने सिक्योरिटी के लिए केवल फिंगरप्रिंट सेंसर देकर ही काम चला लिया. ऐसे में गूगल से हाई सिक्योरिटी डिवाइस की उम्मीदें लगाकर बैठे यूजर्स इस बात से भी निराश दिखे.

रिलायंस जियो यूजर्स की सबसे बड़ी परेशानी

इसके अलावा भी गूगल ने स्टीरियो साउंड के लिए ड्युअल स्पीकर न देकर सिंगल स्पीकर ही लगाया है. जबकि आज जब हर ओर ऑक्टाकोर प्रोसेसर की धूम मची है, गूगल ने क्वॉडकोर प्रोसेसर दिया है. इसके अलावा इतनी कीमत में 6 जीबी रैम दी जा सकती थी लेकिन गूगल ने केवल 4 जीबी रैम ही मुहैया कराई है. 

First published: 6 October 2016, 14:43 IST
 
अमित कुमार बाजपेयी @amit_bajpai2000

पत्रकारिता में एक दशक से ज्यादा का अनुभव. ऑनलाइन और ऑफलाइन कारोबार, गैज़ेट वर्ल्ड, डिजिटल टेक्नोलॉजी, ऑटोमोबाइल, एजुकेशन पर पैनी नज़र रखते हैं. ग्रेटर नोएडा में हुई फार्मूला वन रेसिंग को लगातार दो साल कवर किया. एक्सपो मार्ट की शुरुआत से लेकर वहां होने वाली अंतरराष्ट्रीय प्रदर्शनियों-संगोष्ठियों की रिपोर्टिंग.

पिछली कहानी
अगली कहानी