Home » साइंस-टेक » Know 8 important features of Google's latest Android OS 'OREO 8'
 

जानिए Google के लेटेस्ट एंड्रॉयड ऑपरेटिंग सिस्टम 'Oreo 8.0' के 8 अनूठे फीचर्स

अमित कुमार बाजपेयी | Updated on: 23 August 2017, 20:07 IST

आखिरकार Google ने अपने लेटेस्ट एंड्रॉयड ऑपरेटिंग सिस्टम 'Oreo 8.0' को पेश कर दिया है. इसके साथ ही दुनिया भर के एंड्रॉयड यूजर्स में इस नए OS अपडेट को पाने की तारीख और इसके फीचर्स पता करने की चिंता बढ़ गई है.

Google ने अपने इस लेटेस्ट ऑपरेटिंग सिस्टम को एंड्रॉयड नूगा 7.0 से काफी बेहतर, तेज और दमदार बताया है. Google की आधिकारिक वेबसाइट www.android.com के मुताबिक Oreo 8.0 अब तक का सबसे स्मार्ट, तेज, ज्यादा दमदार और मीठा है. दुनिया की पसंदीदा कुकी अब आपके पसंदीदा एंड्रॉयड रिलीज के साथ आ गई है.

लेकिन यह सिर्फ तेज, दमदार और स्मार्ट है, बताना ही काफी नहीं है. यूजर्स के लिए यह जानना सबसे ज्यादा जरूरी है कि आखिर यह किन मायनों में पिछले एंड्रॉयड ऑपरेटिंग सिस्टम से अलग है और इसमें ऐसी कौन सी खूबियां हैं जो इससे पहले कभी नहीं मिली थीं.

तो जानिए Android Oreo 8.0 की आठ अनोखी खासियतें. 

1. तेज बूटिंग
कोई ऑपरेटिंग सिस्टम तेज है यह सिर्फ देखने से नहीं बताया जा सकता. इसके लिए बूटिंग काफी मायने रखती है. Android Oreo 8.0 बूटिंग के मामले में Google के फ्लैगशिप स्मार्टफोन Pixel से दोगुना (2x) तेज है. यानी Pixel फोन की तुलना में यह फोन तेजी से पॉवर ऑन (चालू या रीस्टार्ट) होता है और यूजर के पास जल्द से वापस कनेक्टिविटी में आने का मौका होता है.

2. कम से कम बैकग्राउंड प्रॉसेस

इसके अलावा फोन के बैकग्राउंड प्रॉसेस को सीमित में रखने में भी Android Oreo 8.0 काफी दमदार है. Oreo फोन के बैकग्राउंड में चलने वाले उन ऐप्स के प्रॉसेस और एक्टिविटी को बिल्कुल सीमित रखता है, जिन्हें आप बहुत कम इस्तेमाल करते हैं और इससे आपके फोन को काफी ताकत मिलती है. भले ही यह ताकत आपको सामने न दिखे लेकिन फोन के इस्तेमाल की सहूलियत आपको इससे रूबरू कराती है.

3. ऑटोफिल यानी भूलने की परेशानी नहीं
Android Oreo 8.0 में एक Autofil का फीचर दिया गया है जो यूजर की परमिशन से उसके पसंदीदा ऐप्स की लॉगिन डिटेल्स (मसलन यूजर आईडी, पासवर्ड) याद रखता है और दोबारा लॉगिन करते वक्त यूजर के ओके कहने पर खुद से भर देता है. इससे ऐप्स में लॉगिन की स्पीड जबर्दस्त तेज हो जाती है.

4. एक साथ दो काम
इस लेटेस्ट ऑपरेटिंग सिस्टम Android Oreo 8.0 में एक ऐसी सुविधा दी गई है, जिसके चलते यूजर्स एक साथ दो काम आसानी से कर सकते हैं और इसके लिए उन्हें एक ऐप को मिनीमाइज और दूसरे को मैक्सीमाइज करने की जरूरत नहीं पड़ेगी. एक ही स्क्रीन पर एक साथ दो ऐप्स को यूजर एक्सेस और यूज कर सकेंगे.

इसके लिए फोन का पिक्चर इन पिक्चर मोड काम आता है, जो एक साथ दो ऐप्स पर काम करने का मौका देता है. मसलन आप किसी से वीडियो चैटिंग भी कर सकते हैं और उसी वक्त दूसरे से टेक्स्ट चैट. या फिर वीडियो देखते हुए ईमेल कर सकते हैं.

5. कम टैप्स में ज्यादा ऐप्स एक्सेस
इस एंड्रॉयड वर्जन में ज्यादा उलझाऊ सिस्टम नहीं बनाया गया है. इसके नोटिफिकेशंस डॉट्स को दबाते ही क्या नया है, क्या ताजा जानकारी है आदि सामने आ जाते हैं और इन्हें स्वाइप करके आसानी से हटाया जा सकता है.

वहीं, फोन के ब्राउजर से ही यूजर सीधे किसी भी ऐप में पहुंच सकते हैं, इसके लिए पहले ऐप को प्ले स्टोर में ढूंढकर उन्हें डाउनलोड-इंस्टॉल करने की जरूरत नहीं पड़ेगी. यूजर सीधे ब्राउजर से ही ऐप्स में टेलीपोर्ट हो जाएंगे.

6. आपकी हथेली में ही फोन का सुरक्षा तंत्र
Android Oreo 8.0 में Google Play Protect फीचर दिया गया है जो आपके फोन और डाटा को सुरक्षित रखता है. यह फीचर आपके फोन और डाटा को रोजाना 5 करोड़ ऐप्स की स्कैनिंग करके सुरक्षित रखता है, फिर चाहें आपने फोन में कोई बेकार ऐप इंस्टॉल किया हो या नहीं.

7. बैटरी लाइफ को बढ़ाए और आपको सुकून दिलाए
यह ऑपरेटिंग सिस्टम न केवल फोन, डाटा, प्रॉसेस आदि को तेज करता है, बल्कि सबसे ज्यादा जरूरी बैटरी लाइफ पर भी ध्यान देता है. इसका इन्नोवेटिव बैटरी फीचर उस वक्त भी आपकी बैटरी को बचाने में लगा रहता है, जब आप कॉलिंग, गेमिंग, मेलिंग, वीडियो स्ट्रीमिंग जैसा कुछ भी कर रहे होते हैं.

8. खुद को बेहतर से एक्सप्रेस करें
Android Oreo 8.0 में गूगल ने ढेरों नए इमोजी जोड़ दिए हैं. इस ऑपरेटिंग सिस्टम को इंस्टॉल करने के साथ ही यूजर्स को 60 से ज्यादा नए इमोजी मिलते हैं, जो हर प्रकार की भावनाएं व्यक्त करने में काम आते हैं.

इससे पहले के ऑपरेटिंग सिस्टम्स में इमोजी की एक सीमा थी, लेकिन इस नए ओएस में कंपनी ने यूजर्स की भावनाओं के बीच इमोजी आड़े न आए, इसका पूरा ध्यान रखा है.

First published: 23 August 2017, 20:07 IST
 
अमित कुमार बाजपेयी @amit_bajpai2000

पत्रकारिता में एक दशक से ज्यादा का अनुभव. ऑनलाइन और ऑफलाइन कारोबार, गैज़ेट वर्ल्ड, डिजिटल टेक्नोलॉजी, ऑटोमोबाइल, एजुकेशन पर पैनी नज़र रखते हैं. ग्रेटर नोएडा में हुई फार्मूला वन रेसिंग को लगातार दो साल कवर किया. एक्सपो मार्ट की शुरुआत से लेकर वहां होने वाली अंतरराष्ट्रीय प्रदर्शनियों-संगोष्ठियों की रिपोर्टिंग.

पिछली कहानी
अगली कहानी