Home » साइंस-टेक » Know why Facebook is purchasing users password from black market & hackers
 

जानिए क्यों फेसबुक ब्लैकमार्केट से खरीद रहा यूजर्स के पासवर्ड

कैच ब्यूरो | Updated on: 7 February 2017, 8:23 IST

कभी-कभी आपको भी झल्लाहट होती होगी जब सालों से इस्तेमाल किया जाने वाला पासवर्ड डालने पर फेसबुक आपके इसे फिर से डालने के लिए कहता है. हालांकि फेसबुक की इस प्रक्रिया के पीछे की वजह आपको परेशान करना नहीं बल्कि अकाउंट को सुरक्षित रखकर भविष्य में होने वाली परेशानी से बचाना है.

बृहस्पतिवार को टेक वेबसाइट सीनेट ने लिखा कि फेसबुक के चीफ सिक्योरिटी ऑफिसर एलेक्स स्टैमॉस के मुताबिक कंपनी ब्लैक मार्केट में हैकर्स द्वारा बेचे जा रहे पासवर्ड को खरीद रही है और इन्हें अपने प्लेटफॉर्म पर एन्क्रिप्टेड पासवर्ड के जरिये क्रॉस-रिफरेंस कर रही है.

इंटरनेट पर खुद को सुरक्षित रखना चाहतें हैं तो कभी मत करें यह 7 काम

इसके परिणामस्वरूप फेसबुक यूजर्स के अकाउंट किसी तरह के खतरे से सुरक्षित रहेंगे. लिस्बन में आयोजित एक वेब समिट में एलेक्स ने कहा था, "फेसबुक को सुरक्षित (सेफ) रखना और इसे मजबूत (सिक्योर) रखना दो अलग-अलग बातें हैं."

उन्होंने आगे कहा, "सिक्योरिटी का मतलब कुछ यूं होता है कि खतरों से बचने और सुरक्षा के लिए दीवारें बनाना. लेकिन सेफ्टी इससे ज्यादा बड़ी है."

अच्छी जॉब चाहिए तो लिंक्डइन नहीं फेसबुक पर समय बिताइए

सीनेट के मुताबिक जब बड़े स्तर पर पासवर्ड चुराए जाते हैं और उनकी ब्लैक मार्केट में खरीद-फरोख्त की जाती है तो यह देखना जरूरी हो जाता है कि उनमें से कितने '123456' जैसे क्रमिक संख्या वाले और एक जैसे हैं. ताकि पता चल सके कि कितने यूजर्स के अकाउंट खतरे में हैं. 

और जो भी यूजर इस तरह के एक क्रम वाले पासवर्ड इस्तेमाल कर रहे हैं वो स्वतः अपने अकाउंट को खतरे में डाल देते हैं. हालांकि फेसबुक अपने यूजर्स को सुरक्षित रखने के तमाम विकल्प मुहैया कराता है लेकिन इसे इस्तेमाल करना यूजर का काम होता है.

First published: 11 November 2016, 1:19 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी