Home » साइंस-टेक » Know why flight attendants dim the cabin lights of plane before take-off and landing, Pilot revealed shocking reason
 

जानिए टेकऑफ-लैंडिंग के वक्त विमान के भीतर रोशनी कम किए जाने का कारण

कैच ब्यूरो | Updated on: 23 December 2016, 17:43 IST

विमान यात्रियों ने अक्सर एक बात पर ध्यान दिया होगा कि उड़ान (टेकऑफ) भरते या उतरते (लैंडिंग) वक्त, केबिन के अंदर की रोशनी को धीमा कर दिया जाता है. हालांकि लोग इसका कारण नहीं जानते. लेकिन एक ब्रिटिश पायलट ने इस बात का खुलासा किया है.

ब्रिटेन के पायलट पैट्रिक स्मिथ के मुताबिक केबिन की रोशनी को कम करने की मुख्य वजह दुर्घटना की स्थिति होने से पूर्व सावधानी बरतना है. कॉकपिट कॉन्फीडेंशियल के लेखक पैट्रिक कहते हैं, "रोशनी धीमी करने से आपकी आंखें अंधेरे के प्रति पहले से ही तैयार हो जाती हैं."

द टेलीग्राफ को पैट्रिक ने बताया, "तो अगर एकदम से कुछ अप्रिय घटना हो जाती है या बिजली चली जाती है और आप अंधेरे या धुएं में दरवाजों की तरफ भागते हैं तो आप अचानक से अंधे (आंखों की देखने की क्षमता प्रभावित) नहीं हो जाएंगे."

क्या होगा अगर विमान में मोबाइल को फ्लाइट मोड पर नहीं रखा

उन्होंने कहा कि इसकी वजह से आपातकाल के रास्ते, रोशनी और चिन्ह ज्यादा विजिबल (देखने योग्य) होंगे और इससे यात्री खुद को माहौल के हिसाब से ढाल पाएंगे.

मानव आंख को अंधेरे के हिसाब से खुद को एडजस्ट करने में करीब 10 मिनट का वक्त लगता है, इसलिए रोशनी कम करने से इमरजेंसी की स्थिति में लगने वाला महत्वपूर्ण वक्त बच जाता है.

एक अन्य पायलट क्रिस कुक ने भी इस बात का समर्थन किया कि केबिन की लाइटें धीमी करने की वजह आंखों को परिस्थितियों के मुताबिक ढालना होता है.

द सन को उन्होंने बताया, "कल्पना कीजिए कि आप तेज रोशनी से भरे एक अंजान कमरे में हैं जहां तमाम अवरोध हैं और अचानक कोई वहां की रोशनी बंद करके आपसे कहता है कि तुरंत बाहर निकलिए."

टेक ऑफ और लैंडिंग के दौरान क्यों खुली रखनी पड़ती है विमान की खिड़की?

एविएशन एक्सपर्ट्स के मुताबिक टेकऑफ और लैंडिंग के वक्त विमान सबसे ज्यादा संवेदनशील होता है और इस वक्त किसी खराबी आने या अन्य वजह से दुर्घटना की संभावनाएं ज्यादा होती हैं. विमान में बैठे अधिकांश यात्री दरवाजे से आकर अपनी सीट पर बैठ चुके होते हैं और वो केबिन और वहां के अवरोधों से परिचित नहीं होते.

रोशनी धीमी करने से उनकी आंखें खुद को माहौल के हिसाब से ढाल लेती हैं और यदि कोई दुर्घटना हो जाती है, केबिन की बत्तियां बुझ जाती हैं, धुआं भर जाता है तो यात्रियों की आंखें कम रोशनी में आसानी से देख सकेंगी और यात्री आपातकालीन निकासद्वार तक पहुंच जाएंगे.

First published: 23 December 2016, 17:43 IST
 
अगली कहानी