Home » साइंस-टेक » mobile radiation or mobile phone cause of cancer or other health problems
 

मोबाइल के इस तरह इस्तेमाल से हो सकती है आपको ये जानलेवा बीमारी

कैच ब्यूरो | Updated on: 23 February 2018, 15:29 IST

मोबाइल के ज्यादा इस्तेमाल से होने वाले खतरों के बारे में आपने कई बार पढ़ा और सुना होगा, लेकिन क्या आप जानते हैं कि मोबाइल का हद से ज्यादा इस्तेमाल आपको ट्यूमर जैसी खतरनाक बीमारी दे सकता है. वैज्ञानिक भी कई साल से इस बारे में खोज कर रहे हैं कि क्या वाकई मोबाइल के इस्तेमाल से ट्यूमर हो सकता हैआज हम आपको इसी बारे में बताएंगे, कि किस तरह से मोबाइल आपको ट्यूमर जैसी खतरनाक बीमारी दे सकता है.

कौन से फोन से निकलता है सबसे अधिक रेडिएशन

फोन से निकलने वाले रेडिएशन को रेट करने के लिए वैज्ञानिकों ने स्पेस्फिक एबसॉर्पशन रेट यानि कि एसएआर एक पैमाना बनाया गया है. इससे हमें ये पता चलता है कि किस तरह के रेडिएशन का असर मानव शरीर में रह जाता है. एसएआर लेवर उस दौरान निकलता है जब आपका मोबाइल सबसे अधिक पावर का इस्तेमाल कर रहा होता है. मोबाइल बनाने वाली कंपनियों को इसकी जानकारी देश के रेग्यूलेटरी संस्था को देनी होती है. लेकिन ज्यादातर लोग फोन खरीदते वक्त इस बात पर ध्यान नहीं देते.

इन फोन से निकलता है सबसे अधिक रेडिएशन

सबसे अधिक रेडिएशन निकलने वाले मोबाइल की जर्मन फेडरल ऑफिस फॉर डेटा प्रोटेक्शन ने एक लिस्ट बनाई है. इसमें नए और पुराने स्मार्टफोन से निकलने वाले रेडिएशन की जानकारी दी गई है. लिस्ट में बताया गया है कि सबसे ज्यादा रेडिएशन वन प्लस, हूआवी और नोकिया लूमिया से निकलता है. इस लिस्ट में आईफोन 7 दसवें, आई फोन 8 बारहवें और आई फोन7 प्लस पंद्रहवें नंबर पर है. सोनी एक्सपीरिया एक्स जेड कॉम्पैक्ट 11वें, जेड टी ई एक्सॉन 7, मिनी 13 और ब्लैकबेरी डीटीईके 60,14वें नंबर पर आता है

रेडिएशन से होने वाले नुकसान की गाइडलाइन

बतादें कि मोबाइल रेडिएशन को लेकर कोई भी ऐसी गाइडलाईन नहीं बनाई गई जो बता सके कि, कितने रेडिएशन को सुरक्षित माना जा सकता है. वहीं जर्मनी की एक एजेंसी केवल उन्हीं मोबाइल को मान्यता देती है जिनका एब्सार्पशन लेवल 0.60 से कम होता है. इस लिस्ट में जितने भी फोन हैं उनका लेवल इससे दोगुना है.

किन मोबाइल से निकलता है सबसे कम रेडिएशन

सबसे कम रेडिएशन वाले फोन की बात करें तो, इस लिस्ट में सोनी एस्पीरिया एम 5 (0.14) सबसे ऊपर है. इसके बाद सैमसंग गैलेक्सी नोट 8 (0.17) एस सिक्स एज प्लस (0.22) गूगल प्लस एकसेल (0.25), और सैमसंग गैलेक्ली एस 8 (0.26) और एस 7 एज (0.26) हैं.

मोटोरोला के कुछ फ़ोन में भी कम में रेडिएशन कम पाए गए. अगर आप अपने फोन का रेडिएशन चेक करना चाहते हैं, तो अपने मॉडल का मैनुअल चेक कर सकते हैं, फोन की वेबसाइट पर, या फेडरल कम्यूनिकेशन्स कमिशन ऑफ यूनाइटेड स्टेट्स की वेबसाइट भी देख सकते हैं.

ये भी पढ़ें- खुशखबरीः अगले सप्ताह Google लॉन्च करेगा 3,000 रुपये वाले एंड्रॉयड Go स्मार्टफोन

रेडियोफ्रीक्वेंसी से बचने के उपाय

रेडियो फ्रीक्वेंसी सबसे अधिक आपके फोन के अंदर के एंटीना के पास होता है. अगर आप फोन को अपने पास रखते हैं तो नुकसान की अधिक संभावनी रहती है. हालांकि फोन का इस्तेमाल करने का समय भी नुकसान को निर्धारित करता है. रेडियोफ्रीक्वेंसी से बचने का सबसे अच्छा उपाय ये हैं कि आप अपने फोन को कान पर ना लगाकर हैंड्सफ्री मोड में बात करें. वहीं जितना हो सके कॉल करने से बचें और एसएमएस का अधिक प्रयोग करें. वहीं कम एमएआर लेवल वाला फोन भी सेहत के लिए ठीक रहता है.

First published: 23 February 2018, 15:29 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी