Home » साइंस-टेक » NASA invites entries to develop a robot for the next journey to Mars & win USD 1 million prize
 

नासा का रोबोट बनाओ, 6.70 करोड़ रुपये पाओ

कैच ब्यूरो | Updated on: 19 August 2016, 16:38 IST

नासा ने एक नई प्रतियोगिता शुरू की है. इसके अंतर्गत मंगल ग्रह की यात्रा में अंतरिक्षयात्रियों की मदद करने वाले रोबोट बनाने के लिए दुनिया भर से आवेदन मांगे गए हैं. जिसका रोबोट नासा को सबसे ज्यादा पसंद आएगा, उसे इनाम के तौर पर 1 मिलियन अमेरिकी डॉलर (करीब 6 करोड़ 70 लाख रुपये) मिलेंगे.

नासा ने इस प्रतियोगिता का नाम द स्पेस रोबोटिक्स चैलेंज कंपटीशन रखा है. इसे रोबोटिक्स की सीमाओं को और ढकेलते हुए कुछ नया ईजाद करने के लक्ष्य से तैयार किया गया है. 

नासा चाहता है कि इस चैलेंज में हिस्सा लेने वाले लोग एक ऐसा रोबोट तैयार करें जो निर्धारित स्थानों पर जाने के लिए तैयार हो, अंतरिक्षयात्रियों के पहुंचने से पहले ही वो उस ग्रह पर रहने लायक माहौल तैयार कर सकें, लाइफ सपोर्ट सिस्टम दे, कम्यूनिकेशंस-सोलर उपकरणों का बेहतर ढंग से इस्तेमाल कर सके और वैज्ञानिक शोध में मददगार साबित हो. सीधे शब्दों में कहें तो आयरनमैन से ज्यादा योग्य और बिना आदमी वाला रोबोट बनना चाहिए.

आपके हर ईशारे को बखूबी समझती है यह स्मार्ट शर्ट

नासा रोबोनॉट 5 (आर5) के लिए आवेदन करने वाली टीमों को वर्चुअल रोबोट तैयार करना होगा. इसके बाद सिमुलेशन के जरिये कई चुनौतीपूर्ण निर्धारित काम पूरे करने होंगे. 

कई चुनौतियों पर खरा उतरने वाला रोबोट तेज, फुर्तीला होना चाहिए और पृथ्वी के लिए डिजाइन किए जाने वाले रोबोट इस प्रतियोगिता के लिए खरे नहीं उतरेंगे क्योंकि तमाम गृहों पर मौजूद जमाने वाला ठंडा तापमान और कठिन मौसम उनके अस्तित्व पर खतरा खड़ा कर देगा. इसके लिए इन आर5 रोबोट्स के निर्माण में हाइड्रोलिक के बजाए इलास्टिक्स तकनीक का बेहद अच्छे ढंग से इस्तेमाल करना होगा. 

नासा के मुताबिक यह तकनीकी पृथ्वी पर भी लोगों के लिए मददगार साबित होगी क्योंकि यह रोबोट पृथ्वी पर मौजूद अत्यंत खतरनाक परिस्थितियों और पर्यावरणों में भी काम करने लायक होंगे.

'पोकमॉन गो' में चीट कोड डाला तो कंपनी कर देगी बैन

नासा और उसके सहयोगियों को विश्वास है कि लोग इस चुनौती को स्वीकार करेंगे और कई इन्नोवेटिव तकनीक पेश करेंगे. नासा द्वारा इस प्रतियोगिता का आयोजन स्पेस सेंटर ह्युस्टन और नाइन सिग्मा द्वारा किया जा रहा है. 

इस प्रतियोगिता का क्वॉलीफाइंग राउंड सितंबर के मध्य से लेकर मध्य नवंबर तक चलेगा. इसके बाद अगले चरण के प्रतिभागियों की घोषणा दिसंबर में की जाएगी. पहले चरण के विजेता जनवरी से लेकर जून 2017 तक अभ्यास में हिस्सा लेंगे. इसके बाद निर्णायक मुकाबला जून 2017 में आयोजित किया जाएगा और अंतिम सप्ताह में इसके विजेता की घोषणा की जाएगी. 

First published: 19 August 2016, 16:38 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी