Home » साइंस-टेक » NASA successfully tested world's strongest rocket booster
 

सबसे ताकतवर रॉकेट बूस्टर का नासा ने किया सफल परीक्षण

कैच ब्यूरो | Updated on: 30 June 2016, 17:26 IST

अंतरिक्ष की अनंत गहराइयों तक इंसान को भेजने के लिए नासा काफी वक्त से एक ताकतवर रॉकेट बनाने में जुटा हुआ था. अब नासा ने दुनिया के इस सबसे ताकतवर रॉकेट को बनाने में सफलता पा ली है और  इस रॉकेट बूस्टर का सफल परीक्षण भी किया. 

इस रॉकेट बूस्टर के दूसरे क्वॉलिफिकेशन ग्राउंड टेस्ट में नासा द्वारा स्पेस लॉन्च सिस्टम (एसएलएस) के जरिये यह सफल परीक्षण किया गया. इससे पहले मार्च 2015 में इसका परीक्षण किया गया था और यह इसका अंतिम फुल स्टेज परीक्षण था.

बीता माह बना अब तक का सबसे गर्म अप्रैलः नासा

संभावना जताई जा रही है कि एसएलएस के जरिये नासा द्वारा 2018 में पहली मानव रहित उड़ान भरी जाएगी. इस दौरान यह नासा के ओरियन स्पेसक्राफ्ट को मंगल ग्रह पर ले जाएगा. 

जमीन पर किए गए परीक्षण में इस रॉकेट बूस्टर ने केवल दो मिनट का वक्त लिया. इसे नासा के लिए बड़ी सफलता माना जा रहा है. इस परीक्षण से मिले डाटा की 82 मानकों पर जांच की जानी है.

पढ़ेंः पहली बार खिला अंतरिक्ष में फूल

बताया गया है कि इस पूरी प्रक्रिया के संपन्न हो जाने के बाद 2-5 सेगमेंट वाले बूस्टर और चार आरएस 25 इंजन एसएलएस को पावर देने लायक मान लिए जाएंगे. 

नासा के कॉन्ट्रैक्टर आर्बिटल एटीके द्वारा निर्मित इस सॉलिड रॉकेट बूस्टर, एसएलएस की उड़ान के शुरुआती दो मिनट तक सक्रिय रहेगा और ओरियन स्पेसक्राफ्ट के पृथ्वी के गुरुत्व से बाहर निकलने वाली ऊर्जा की 75 फीसदी आपूर्ति प्रदान करेगा.

ऐतिहासिक पल: इसरो एक साथ 20 सैटेलाइट लॉंन्च करके बनाएगा रिकॉर्ड

शुरुआती स्तर पर यह एसएलएस 77 टन भार के साथ उड़ान भरने की क्षमता रखने वाला होगा. जबकि इसके बाद अगले चरण में इसे बढ़ाकर 115 टन करने की योजना भी बनाई गई है. ज्यादा वजन ले जाने की क्षमता इसे ज्यादा बड़े अंतरिक्ष मिशन पूरा करने में सक्षम बनाएगी.

First published: 30 June 2016, 17:26 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी