Home » साइंस-टेक » Nitin Gadkari Announces starting pod taxi services soon starting delhi to Gurgaon Manesar in first phase
 

दिल्ली-गुड़गांव के बीच हवा में दौड़ेगी पॉड टैक्सी, इतना आएगा खर्च

कैच ब्यूरो | Updated on: 17 April 2018, 12:41 IST
(File Photo)

अब सफर करते वक़्त न तो आपको रेड सिग्नल मिलेगी और न ही ट्रैफिक जाम. क्यूंकि जल्द हीं दिल्ली के धौलाकुआं से मानेसर तक पॉड टैक्सी सेवा शुरू होने जा रही है. यह सेवा लगभग डेढ़ महीने में शुरू हो जाएगा. आपको बता दें की यह टैक्सी तारों के जरिए हवा में चलेगी. इसकी जानकारी केंद्रीय सड़क परिवहन मंत्री नितिन गडकरी ने गुड़गांव में एक निजी कार्यक्रम के दौरान दी. साथ ही उन्होंने यह भी कहा कि सरकार दिल्ली-जयपुर, दिल्ली-चंडीगढ़ रूट पर डबल डेकर बस चलाने पर भी विचार कर रहा है.

ये भी पढ़ें-इसरो ने नेविगेशन सैटेलाइट IRNSS-1 किया सफलतापूर्वक लॉन्च, अंतरिक्ष में एक और बड़ा कदम

क्या है पॉड टैक्सी?

पॉड टैक्सी एक 4 से 6 सीटर ऑटोमेटिक व्हीकल है, जिसे बिना ड्राइवर और कंडक्टर के ऑपरेट किया जाता है. गुड़गांव में ये एक तरह से ऑटो रिक्शा का काम करेगी. इस दौरान सफर में न तो आपको रेड सिग्नल मिलेगी और न ही ट्रैफिक जाम. इसके साथ हीं यह चार्जेबल बैटरी से चलती है यानी पेट्रोल-डीजल की जरूरत नहीं होगी. आमतौर पर पॉड टैक्सी दो तरह की होती है- एक ट्रैक रूट पर चलने वाली और दूसरी केबिल पर चलने वाली जिसे हैंगिग पॉड कहा जाता है.

यह टैक्सी पूरी तरह से कम्प्यूटर सिस्टम से चलती है. इसमें बैठने के बाद मुसाफिरों को ‘टचस्क्रीन’ पर उस जगह का नाम टाइप करना होता है जहां उन्हें जाना है. स्टेशन आते ही मेट्रो की तरह टैक्सी रुकती है और गेट अपने आप खुल जाते हैं.

ये भी पढ़ें-महिंद्रा की SUV XUV500 भारत में 18 तारीख को देगी दस्तक, ये हैं खूबियां

दिल्ली-गुड़गांव प्रोजेक्ट के लिए मोदी सरकार ने 5000 करोड़ का बजट तय किया है. जिसमें करीब 1100 पॉड चलाने का लक्ष्य है. पिछले साल नितिन गडकरी ने पिछले साल जापान की तर्ज पर इस प्रोजेक्ट का एलान किया था.

आखिर क्यों पड़ी पॉड टैक्सी की जरूरत? दिल्ली और गुड़गांव के बीच कनेक्टिविटी को बेहतर बनाने के लिए. क्यूंकि यहाँ के अंदरूनी इलाके बस और मेट्रो ट्रेन की पहुंच से दूर हैं, लेकिन पॉड टैक्सी शहर के कोने-कोने में पहुंच सकती है. जिससे पॉड टैक्सी के आने से यात्रियों को आगे बेहतर कनेक्टिविटी मिलेगी.

First published: 17 April 2018, 12:42 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी