Home » साइंस-टेक » Reliance JIO crossed record 50 million subscribers benchmark in shortest time, is it real?
 

क्या वाकई रिलायंस जियो ने पार कर लिया है 5 करोड़ ग्राहकों का आंकड़ा?

कैच ब्यूरो | Updated on: 10 February 2017, 1:39 IST

मुकेश अंबानी के स्वामित्व वाली रिलायंस इंडस्ट्रीज की टेलीकॉम सेवा 'जियो' ने आधिकारिक लॉन्चिंग के तीन माह के भीतर ही 5 करोड़ ग्राहकों तक पहुंच बनाने का जादुई आंकड़ा पार कर लिया. बताया जा रहा है कि वेल्कम ऑफर के अंतर्गत मुफ्त 4जी सेवा और मुफ्त वॉयस कॉलिंग-रोमिंग-मैसेज जैसी सेवाएं देकर देश में संचार क्रांति लाने वाले रिलायंस ने यह आंकड़ा छूकर एक इतिहास बना दिया है.

लेकिन क्या यह वाकई हकीकत है कि रिलायंस जियो ने इतने कम वक्त में यह ऐतिहासिक उपलब्धि हासिल कर ली. यूं तो यह स्पष्ट रूप से घोषित करना संभव नहीं है पर गूगल प्ले स्टोर पर दिए गए आंकड़ों के जरिये इस हकीकत को काफी हद तक समझा जा सकता है.

जानिए 7 कारण क्यों नहीं लेना चाहिए रिलायंस जियो सिम

लेकिन इससे पहले जानते हैं कि रिलायंस जियो की 4जी सर्विस और इससे जुड़े ग्राहकों को लेकर कंपनी ने क्या बताया है. समाचार एजेंसी पीटीआई ने सूत्रों के हिसाब से लिखा है, "जियो ने एक नया रिकॉर्ड बनाते हुए (5 सितंबर से) प्रति मिनट 1,000 और 6 लाख प्रतिदिन ग्राहक जोड़े. "

सूत्रों ने बताया, "जियो का दुनिया की सबसे तेज तरक्की करने वाली कंपनी बनने का सिलसिला जारी है और इसने 83 दिनों में रिकॉर्ड 50 मिलियन (पांच करोड़) सब्सक्राइबर्स जोड़ लिए हैं."

3जी स्मार्टफोन पर रिलायंस जियो 4जी सिम चलाने का आसान तरीका

एयरटेल ने यही आंकड़ा पाने में 12 साल का वक्त लिया था जबकि वोडाफोन और आइडिया ने इसे 13 साल में पाया था. रिलायंस जियो ने अपनी सेवाएं शुरू करने की आधिकारिक घोषणा वाले पहले महीने (सितंबर 2016 में) ही 1 करोड़ 60 लाख ग्राहक जोड़ लिए थे.

सूत्र ने बताया, "इंडस्ट्री के अनुमानों को तोड़ते हुए कंपनी ने औसतन प्रतिदिन 6 लाख ग्राहक जोड़े, यह व्हॉट्सऐप, फेसबुक और स्काइपी जैसी ग्राहकों पर आधारित (कस्टमर फेसिंग) कंपनियों की तुलना में किसी भी कंपनी के लिए अब तक की अभूतपूर्व वैश्विक उपलब्धि है."

दिसंबर 2017 तक रिलायंस जियो वेलकम ऑफर बढ़ाने का तरीका है गैरकानूनी

अगर 4G से 4G सेवा की ही तुलना करें तो जियो ग्राहकों की संख्या एयरटेल (1 करोड़) और आइडिया (30 लाख) की तुलना में क्रमशः पांच और 17 गुना ज्यादा हैं. 

क्या यह हकीकत है?

अब आते हैं असल मुद्दे पर. जैसा बताया जा रहा है कि जियो ने 5 करोड़ सब्सक्राइबर्स का आंकड़ा पार कर लिया है, तो इसकी हकीकत यह है कि अगर सर्वाधिक इस्तेमाल किए जाने वाले स्मार्टफोन यानी एंड्रॉयड ऑपरेटिंग सिस्टम के गूगल प्ले स्टोर को देखें तो यह आंकड़ें कुछ संदेहास्पद नजर आते हैं.

दरअसल, जियो 4जी सेवाओं के पूर्व के प्रीव्यू ऑफर और मौजूदा वेल्कम ऑफर को पाने के लिए रिलायंस जियो के 'माई जियो' ऐप को डाउनलोड-इंस्टॉल करना जरूरी है. जियो के कई ऐप्स का एक सिंगल प्लेटफॉर्म 'माई जियो' इससे जुड़ी सेवाओं, अकाउंट डिटेल्स, यूजेज समेत अन्य जानकारियां देता है.

रिलायंस जियो ला सकती है 1000 रुपये में सस्ता 4G स्मार्टफोन

हर जियो यूजर को इसे डाउनलोड-इंस्टॉल करना जरूरी होता है क्योंकि पहले तो इससे 'बार कोड' जनरेट होता है जिसे सिम लेते समय देना जरूरी होता है और बाद में अपनी सेवाओं के यूजेज देखने के लिए यह काम में आता है.

अब गूगल प्ले स्टोर को देखें तो इसमें मौजूद कोई भी ऐप जब इंस्टॉल किया जाता है तो यह कितने यूजर्स द्वारा डाउनलोड किया जा चुका है, कि संख्या नजर आती है.

मार्च 2017 तक बढ़ सकता है मुफ्त वेल्कम ऑफर 

'माई जियो' ऐप को अगर गूगल प्ले स्टोर पर देखें तो इसके डाउनलोड्स की संख्या फिलहाल 10 मिलियन (यानी 1 करोड़) ही नजर आ रही है. वैसे प्ले स्टोर के टॉप ऐप्स में देखें तो व्हॉट्सऐप और ओपेरा मिनी ब्राउजर के बाद तीसरे नंबर का  ऐप माई जियो ही नजर आता है. 

First published: 30 November 2016, 4:24 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी