Home » साइंस-टेक » Samsung introduces Graphene Ball Tech & says it's batteries can be fully charged in 12 minutes
 

केवल 12 मिनट में पूरी तरह चार्ज हो जाएगी Samsung की यह नई बैटरी

कैच ब्यूरो | Updated on: 29 November 2017, 19:17 IST

Samsung के शोधकर्ताओं ने बैटरी के एक नए मैटेरियल को विकसित किया है, जिसका नाम ग्रैफीन बॉल है. कंपनी का कहना है कि यह टेक्नोलॉजी बैटरी की क्षमता में 45 फीसदी बढ़ोतरी करने के साथ ही इसकी चार्जिंग स्पीड को पांच गुना बढ़ा देगी.

ग्रैफीन नाम का यह आश्चर्यजनक मैटेरियल, कार्बन का एक ऐलोट्रोप होता है और इसे कई वर्षों से सिलिकॉन और कार्बन के अन्य प्रारूपों के विकल्प के रूप में देखा जा रहा है, जिनका इस्तेमाल बैटरी बनाने में किया जाता है. हालांकि ऐसा लगता है कि Samsung ने इसके लिए एक प्रभावी चीज की खोज कर ली है.

Samsung ने एक प्रेस विज्ञप्ति में कहा कि ग्रैफीन बाल सेल बैटरी मैटेरियल का इस्तेमाल अगली पीढ़ी की सेकेंडरी बैटरी मार्केट में किया जा सकता है, यानी मोबाइल डिवाइसों और इलेक्ट्रिक वाहनों में. इस मैटेरियल का विकास सैमसंग एसडीआई और सियोल नेशनल यूनिवर्सिटी स्कूल ऑफ केमिकल एंड बायोलॉजिकल इंजीनियरिंग के संयुक्त तत्वावधान में सैमसंग एडवांस्ड इंस्टीट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी (सैट) में किया गया है.

कंपनी के मुताबिक सैद्धांतिक रूप से ग्रैफीन बाल आधारित बैटरियों को फुल चार्ज होने में केवल 12 मिनट का वक्त लगता है, जो मोबाइल डिवाइसों और इलेक्ट्रिक वाहनों के लिए एक आंदोलनकारी कदम हो सकता है. कंपनी ने आगे जोड़ा कि पारंपरिक लिथियम-ऑयन बैटरी की तुलना में ग्रैफीन बाल आधारित बैटरियां चलने में काफी कूल होती हैं और 60 डिग्री सेल्सियस का एक स्थायी तापमान बरकरार रख सकती हैं. बैटरी का स्थायी तापमान इलेक्ट्रिक वाहनों के मामले में काफी प्रमुख भूमिका निभा सकता है.

सैट की ओर से इस परियोजना का नेतृत्व करने वाले डॉ. सोन इन ह्युक कहते हैं कि हमारे शोध में सस्ती कीमत में कंपोजिट मैटेरियल ग्रैफीन का व्यापक संश्लेषण संभव हुआ है. इसके साथ ही हम लिथियम-ऑयन बैटरियों की क्षमता को भी पर्याप्त रूप से उन वातावरणों के लिए बढ़ाने में सक्षम हैं, जिन बाजारों में मोबाइल डिवाइसों और इलेक्ट्रिक वाहनों की बिक्री तेजी से बढ़ रही है. इन ट्रेंड्स को देखते हुए बैटरी की दूसरी तकनीकी की संभावनाओं की सतत खोज के लिए हम प्रतिबद्ध हैं.

सैट ने अमेरिका और कोरिया में ग्रैफीन बाल पेटेंट पाने के दो आवेदन पत्र भी जमा कर दिए हैं. 

First published: 29 November 2017, 19:17 IST
 
अगली कहानी