Home » साइंस-टेक » Say hello to Google's smart messaging app 'Allo', launched to compete whatsApp & other apps
 

व्हॉट्सऐप को टक्कर, गूगल का स्मार्ट मैसेजिंग ऐप 'ऐलो'

कैच ब्यूरो | Updated on: 21 September 2016, 14:37 IST

स्मार्टफोन यूजर्स द्वारा इस्तेमाल की जा  रहीं व्हॉट्सऐप, फेसबुक मैसेंजर, टेलीग्राम, हाइक, हैंगआउट्स, वाइबर, वीचैट समेत तमाम इंस्टैंट मैसेजिंग सेवाओं के बीच कुछ बहुत ज्यादा मशहूर हैं और कुछ कम. लेकिन लगता है इन सबके बीच भी जगह है जिसमें एक और इंस्टैंट मैसेजिंग ऐप को लाया जा सकता है और गूगल ने यही सोचते हुए अपने स्मार्ट मैसेजिंग ऐप 'ऐलो' को लॉन्च कर दिया है.

इस साल गूगल की बैठक आई/ओ के दौरान वीडियो चैट ऐप ड्युओ के साथ ही ऐलो की भी घोषणा की गई थी. फिलहाल पर्सनल मैसेजिंग के इस ऐप 'ऐलो' के जरिये पूर्ण सुरक्षित (इंक्रिप्टेड) चर्चा नहीं की जा सकती है लेकिन इस वजह से ही इसमें कई स्मार्ट फीचर्स का इस्तेमाल किया जा सकता है.

जानिए कार के शीशों से भाप (फॉग) हटाने के 2 आसान घरेलू उपाय

हालांकि अगर यूजर्स चाहें कि उनके संदेश पूरी तरह इंक्रिप्टेड रहें तो वे इसके लिए ऐलो के स्मार्ट फीचर्स रहित इनकॉग्निटो मोड का इस्तेमाल कर सकते हैं. जहां गूगल ड्युओ के लिए यूजर्स का मोबाइल नंबर इस्तेमाल होता है, ऐलो के लिए गूगल आईडी की जरूरत होती है. 

चूंकि गूगल ने अपने इस ऐप को इस तरह बनाया है कि यूजर्स को रिप्लाई करने, संदेश भेजने, टाइप करने आदि में कम से कम मेहनत करनी पड़े और दिमाग लगाना पड़े, इसलिए गूगल फिलहाल ऐलो केे मैसेजिंग के लॉग्स इकट्ठा कर रहा है. ताकि यूजर्स की टाइपिंग, सोचने का तरीका, मूड आदि को समझकर उसे संभावित विकल्प मुहैया कराए. इन लॉग्स से ही गूगल अपने ऐप के असिस्टेंट और स्मार्ट रिप्लाई फीचर्स को बेहतर कर सकेगा. 

जानिए कौन से ऐप्स हैं स्मार्टफोन की बैटरी के दुश्मन

गूगल के मुताबिक ऐलो एक स्मार्टर मैसेजिंग ऐप है जिसमें मशीन इंटेलीजेंस के साथ ही सर्च से मिलने वाले नेचुरल लैंग्वेज प्रोसेसिंग एडवांसेज शामिल हैं. 

ऐलो के फीचर्स

  • स्मार्ट रिप्लाई के जरिये बिना एक भी शब्द टाइप किए रिप्लाई की सुविधा. स्मार्ट रिप्लाई समय के साथ सीखता है और यूजर की स्टाइल, फोटोज-टेक्स्ट के मुताबिक सलाह देता है.
  • इंक ऐसा फीचर है जिसके जरिये तस्वीरों के ऊपर डूडलिंग या फ्रीहैंड टेक्स्ट लिखकर भेजी जा सकती है.
  • स्टिकर्स, गूगल ऐलो का एक ऐसा फीचर है जिसे दुनिया भर के स्वतंत्र कलाकारों और स्टूडियोज द्वारा डिजाइन किया जाता है. 
  • शाउट या विस्पर: अब अपना गुस्सा जाहिर करने के लिए ऑल कैप्स ऑन में टेक्स्ट लिखने की जरूरत नहीं है. ऊंची या धीमी आवाज को जाहिर करने के लिए केवल टेक्स्ट पर स्वाइप के जरिये यह कर सकते हैं.
  • पर्सनल गूगल असिस्टेंट: ऐलो में गूगल असिस्टेंट का प्रीव्यू एडिशन है. इसके जरिये नजदीकी रेस्त्रां, वीडियो शेयरिंग, सवालों के जवाब आदि को भी अपने दोस्तों से चर्चा के दौरान बिना ऐप से बाहर जाए खोजा जा सकता है. इसके लिए चर्चा के दौरान केवल @गूगल लिखकर असिस्टेंट की सेवाएं ली जा सकती हैं.
  • फिलहाल गूगल ऐलो केवल अंग्रेजी भाषा में ही उपलब्ध है.

First published: 21 September 2016, 14:37 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी