Home » साइंस-टेक » Scientist claim to find two planets like earth in universe
 

पृथ्वी जैसे दो ग्रह खोजने का वैज्ञानिकों ने किया दावा, जानिए कैसे हुई खोज

कैच ब्यूरो | Updated on: 20 June 2019, 15:11 IST
(प्रतीकात्मक फोटो)

हमारी पृथ्वी सौरमंडल का एक मात्र ऐसा ग्रह है जहां इंसान का जीवन सुरक्षित है. यहां की जलवायु इंसानों के माफिक है. इसके अलावा कोई ऐसा दूसरा ग्रह नहीं है जहां मानव जीवन की सभी जरूरतें पूरी हो सकें और इंसान जिंदा रह सके, लेकिन वैज्ञानिकों ने हाल ही में इस बात का दावा किया है कि उन्होंने सौरमंडल के बाहर दो ऐसेे ग्रहों को खोज निकाला है. पृथ्वी जैसे ही हैं. ऐसा माना जा रहा है कि इन ग्रहों पर पानी भी हो सकता है.जो मानव जीवन के लिए सबसे जरूरी है.

बता दें कि वैज्ञानिक साल 2016 के बाद से ही टेलिस्कोप के जरिये तारों के पास मौजूद ग्रहों पर जीवन की संभावनाएं तलाशने में जुटे हैं. वैज्ञानिकों ने दक्षिणी स्पेन के अलमेरिया स्थित कैलार ऑल्टो ऑब्जरवेटरी के दूरबीनों में इन ग्रहों की तस्वीरें कैद की गई हैं.

शोधकर्ताओं का कहना है कि हमारे सौर मंडल से लगभग 12.5 प्रकाश वर्ष दूर 'टीगार्डन स्टार' मिला है जो एक ठंडा लाल बौना तारा है. इस अध्ययन की सह लेखिला इग्नासी रेबास का कहना है कि टीगार्डन हमारे सूरज के द्रव्यमान का केवल आठ फीसद है. सूर्य की तुलना में यह बहुत छोटा और बेहद कम चमकीला है. उन्होंने कहा आश्चर्य की बात यह है कि पृथ्वी के करीब होने के बावजूद इसे अब तक खोजा नहीं जा सका. यह सूर्य की तुलना में 10 गुना छोटा है, इसलिए यह 1500 गुना कमजोर भी है.

बता दें कि तारे के मिलने के बाद वैज्ञानिकों ने डोप्लर तकनीक का इस्तेमाल किया. इसके माध्यम से किसी तारे के आसपास के ग्रहों का पता लगाने के लिए तारे के त्रिज्या-वेग माप का उपयोग किया जाता है. इससे दो ग्रहों टीगार्डन बी और टीगार्डन सी की पहचान हुई.

 

प्रतीकात्मक फोटो

वैज्ञानिकों का कहना है कि टीगार्डन बी का द्रव्यमान पृथ्वी के समान ही है और प्रत्येक 4 से 5 दिनों में यह तारे का चक्कर पूरा कर लेता है, जबकि दूसरा ग्रह परिक्रमा करने में 11 से 12 दिन का समय लेता हैवैज्ञानिकों का मानना था कि प्रोक्सिमा सेंचुरी पृथ्वी के सबसे निकट का ग्रह है और वहां जीवन की संभावना है. लेकिन अब टीगार्डन की की खोज से शोधकर्ताओं ने इसे पृथ्वी के सबसे नजदीक का गृह बताया है.

हिमालय पर मंडरा रहा बढ़ते तापमान का खतरा, दो गुनी गति से पिघल रहे ग्लेशियर

First published: 20 June 2019, 15:11 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी