Home » साइंस-टेक » Scientists found three lakes on Mars Buried under Red Planet Surface
 

मंगल ग्रह पर फिर मिले जीवन होने के संकेत, सतह के नीचे दबी मिली तीन झीलें

कैच ब्यूरो | Updated on: 29 September 2020, 23:57 IST

Scientists found three lakes on Mars: मंगल ग्रह (Mars) पर जीवन है या नहीं इस बात की खोज पिछले कई दशकों से की जा रही है. लेकिन अभी तक इसके पुख्ता सबूत नहीं मिले है. अब एक बार फिर से वैज्ञानिकों को इस बात के संकेत मिले हैं कि मंगल ग्रह पर जीवन हो सकता है. दरअसल, अमेरिकी अंतरिक्ष एजेंसी नासा (NASA) के वैज्ञानिकों (Scientist) ने मंगल ग्रह (Mars) पर सतह के नीचे दबीं तीन और झीलें (lakes) ढूंढ़ने का दावा किया है. वैज्ञानिकों ने दो साल पहले मंगल पर बर्फीली सतह के नीचे एक बड़े जलाशय की खोज की थी.

पर्यावरण मैग्जीन नेचर एस्ट्रोनॉमी (Nature Astronomy) के एक पेपर में दावा किया गया था कि शोधकर्ताओं ने पहले खोजे गए खारे पानी की झील के अलावा, अब मंगल की सतह के नीचे तीन झीलों को खोज निकाला है. इस खोज के लिए यूरोपीय अंतरिक्ष एजेंसी (ESA) के रडार डेटा का उपयोग किया है. इस रिपोर्ट में यूनिवरसिटी रोम के एलेना पेटिनेली (Elena Pettinelli) के पेपर का उल्लेख किया गया है. जिसमें लिखा है कि ‘बर्फीली सतह के नीचे एक जलाशय पाया लेकिन हमें इसके अलावा तीन अन्य झीलें भी मिली हैं. ये झीलें 75,000 वर्ग किलोमीटर में फैली हैं. इनमें से सबसे बड़ी झील, जो तीनों के बीच में स्थित है 30 किलोमीटर लंबी है, जबकि तीन छोटी झीलें कुछ ही किलोमीटर चौड़ी हैं.


आज से बरसेगा बहुत ही ज्यादा पानी, 18 सितंबर तक देश के कई इलाकों में जमकर बरसेंगे बादल

ऐसा माना जा रहा है कि यह खोज मंगल पर जीवन-निर्वाह की विशेषताओं को खोजने के लिए आधार तैयार कर सकती हैं. वैज्ञानिकों का मानना है कि इस तरह की झीलें मंगल पर जीवन के अस्तित्व की पुख्ता पुष्टि करती है. रिपोर्ट में कहा गया है कि ‘पहले की खोज 29 ‘ऑब्जर्वेशन’ को आधार मानते हुए 2012 से 2015 तक की गई. इसके विपरीत, नए अध्ययन ने व्यापक डेटा को ध्यान में रखा है और 2012 से 2019 के बीच 134 बिंदुओं को ध्यान में रखते हुए खोज की गई है.

World Ozone Day: जानिए क्यों मनाया जाता है विश्व ओजोन दिवस, क्या है इस साल की थीम

वहीं मोंटाना स्टेट यूनिवर्सिटी (Montana State University) के पर्यावरण वैज्ञानिक (environmental scientist) जॉन प्रिस्कू (John Priscu) के हवाले से इस रिपोर्ट में यह भी कहा गया है कि इन झीलों में प्रथ्वी के पानी से 20 गुना अधिक नमक मौजूद है. इसलिए इन जल निकायों को जीवन का आधार नहीं माना जा सकता.

Weather Alert: 48 घंटे तक घर से न निकलें बाहर, इन जिलों में भारी वज्रपात की आशंका

First published: 29 September 2020, 23:57 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी