Home » साइंस-टेक » Scientists invented lens which is 2000 times thinner than human hair
 

आदमी के बाल से भी दो हजार गुना महीन लेंस बनाया

कैच ब्यूरो | Updated on: 10 February 2017, 1:52 IST

क्या आपने कभी सोचा है कि कांच का लेंस आदमी के बाल इतना भी पतला हो सकता है. अगर नहीं तो आपने गलत सोचा है. ऑस्ट्रेलिया के वैज्ञानिकों ने इस हकीकत को मूर्त रूप देते हुए दुनिया का सबसे पतला लेंस बनाने का दावा किया है. बताया जा रहा है कि यह बाल से भी दो हजार गुना महीन है.


नेचर सीरियल जर्नल लाइटः साइंस एंड एप्लीकेशन में छपी रिपोर्ट में बताया गया है कि ऑस्ट्रेलिया राष्ट्रीय विश्वविद्यालय द्वारा हासिल की गई इस उपलब्धि में नैनो टेक्नोलॉजी का अहम योगदान है. विश्वविद्यालय के रिसर्चर यूरुई लैरी लू के नेतृत्व में शोध कर रहे दल ने इतना पतला लेंस बनाने में सफलता पाई है.

पढ़ेंः सावधानः दुनिया के 50 करोड़ एंड्रॉयड स्मार्टफोन पर मंडरा रहा खतरा

शोध दल के मुताबिक दुनिया के सबसे पतले लेंस की मोटाई मात्र 6.3 नैनोमीटर है. जबकि इससे पहले बनाया गया लेंस 50 नैनोमीटर मोटाई वाला था. इसे बनाने के लिए मोलीब्डेनम डाईसल्फाइड का विशेषरूप से इस्तेमाल किया गया है. 


इस शोध दल ने मोलीब्डेनम डाईसल्फाइड के अणुओं को परत दर परत अलग कर इस लेंस का विकास किया. इसके बाद वैज्ञानिकों द्वारा कहा गया कि यह सफलता चिकित्सा, विज्ञान और तकनीक के क्षेत्र में तमाम उल्लेखनीय परिवर्तन लाने में मददगार साबित होगी. इस लेंस के इतना पतला होने के चलते लचीली या मुड़ने वाली कंप्यूटर, मोबाइल स्क्रीन बनाई जा सकती है. 

पढ़ेंः जानिए क्या हैं दुनिया के 5 सबसे खतरनाक नशे

डॉ. लू के मुताबिक मोलीब्लेनम डाईसल्फाई एक अद्भुत क्रिस्टल है. जो बेहद उच्च तापमान में भी अपनी क्षमता नहीं खोता है. यह एक लुब्रिकैंट, बेहतर सेमीकंडक्टर और फोटॉन्स एमिशन करने वाला भी है.

First published: 12 March 2016, 6:18 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी