Home » साइंस-टेक » Tencent lost $ 34 billion within just two days of PUBG ban
 

चीन को झटका: PUBG बैन होने के महज दो दिन के भीतर टेनसेंट को 34 बिलियन डॉलर का नुकसान

कैच ब्यूरो | Updated on: 4 September 2020, 13:41 IST

भारत में PUBG बैन होने के बाद चीनी प्रौद्योगिकी कंपनी टेनसेंट को अपने मार्केट वैल्यू में जबरदस्त नुकसान उठाना पड़ा है. महज दो दिन में कंपनी को 34 बिलियन डॉलर का नुकसान हुआ है. ब्लूमबर्ग के अनुसार टेनसेंट के वैल्यूएशन में यह दूसरा सबसे बड़ा नुकसान है, इससे पिछले महीने अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने WeChat पर प्रतिबंध लगा दिया था, तब टेनसेंट को लगभग 66 बिलियन डॉलर का नुकसान हुआ था.

एक रिपोर्ट के अनुसार कंपनी ने एक बयान में कहा "Tencent यूजर्स की प्राइवेसी और डेटा की सुरक्षा को गंभीरता से लेता है. हमारे ऐप हमेशा भारत और अन्य बाजारों में लागू डेटा संरक्षण कानूनों का पालन करते हैं. कंपनी ने कहा "हम भारतीय डेटा को सुरक्षित रखने के लिए भारतीय अधिकारियों से बात करने के लिए तत्पर हैं." इससे पहले जब भारत ने टिकटॉक बैन किया था तो इसके स्वामित्व वाली कंपनी 'बाइटडांस' ने भी करोड़ों का नुकसान झेला था.   


भारत सरकार ने अपने ताजा फैसले में टेनसेंट के पबजी, चेस रन, लूडो वर्ड सहित 118 ऐप्स को बैन कर दिया है. भारतीय बाजार में यूजर्स के लिए पबजी सबसे पहले साल 2028 में पेश किया गया था. यह भारत में बेहद लोकप्रिय गेम बन गया और इसने तूफान मचा दिया. न केवल गेम डाउनलोड बल्कि PUBG- थीम वाले रेस्तरां से लेकर गेम के सिग्नेचर लेवल-थ्री हेलमेट तक की दुकानों पर बेचा जाता है. 29 जून को भारत द्वारा जारी प्रतिबंधित ऐप की पहली सूची में गेम के नाम के नही होने पर अधिकांश गेमर्स को राहत मिली थी. यह फैसला भारत में सुरक्षा के मद्देनजर चीन के साथ LAC पर तनाव के बाद लिया था, जहां 20 भारतीय सैनिक शहीद हो गए.

Gold Price Today: सोने की कीमतों में आयी गिरावट, जानिए आज दिल्ली, पटना और लखनऊ के दाम

हालांकि सितंबर में भारतीय और चीनी सैनिकों के बीच LAC पर एक और सामना हुआ. इस बार पैंगोंग त्सो झील के दक्षिणी किनारे के साथ यह तनाव पैदा हुआ. इसके तुरंत बाद भारत सरकार ने एक और सूची जारी की. इस नई लिस्ट में न सिर्फ PUBG बल्कि उसके कई सिस्टर ऐप्स जैसे PUBG मोबाइल लाइट और PUBG मोबाइल नॉर्डिक भी शामिल थे.

मोदी सरकार ने चीन को दिया एक और बड़ा झटका, अब दूसरे देशों के जरिए सामान नहीं भेज पाएगा भारत

First published: 4 September 2020, 13:29 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी