Home » साइंस-टेक » Tesla hoping to launch it's self driving electric car in India this year, says CEO Elon Musk
 

एलॉन मस्कः इस साल भारत में सेल्फ ड्राइविंग कार टेस्ला के लॉन्च होने की उम्मीद

कैच ब्यूरो | Updated on: 8 February 2017, 15:52 IST

इस साल यानी 2017 में भारत में सेल्फ ड्राइविंग कार टेस्ला के लॉन्च होने की उम्मीद है. कंपनी के सीईओ एलॉन मस्क द्वारा किया गया ताजा ट्वीट कम से कम इस बात की पुष्टि करता है. 

बताया जा रहा है कि टेस्ला भारत में अपने मॉडल 3 को पेश करेगी. हालांकि भारत में यह मॉडल इस साल के किस माह में लॉन्च किए जाएंगे इसकी जानकारी नहीं दी गई है.

देखें रॉल्स रॉयस द्वारा पेश सेल्फ ड्राइविंग की एक झलक

लेकिन उम्मीद जताई जा रही है कि इस साल की दूसरी छमाही में टेस्ला भारत में आ सकती है. अगर ट्विटर पर टेस्ला सीईओ के शब्दों पर गौर करें तो उनके उम्मीद (होपफुल) शब्द, से भी काफी कुछ पता चलता है.

पिछले साल भी एलॉन मस्क ने ट्वीट किया था कि वो अमेरिका में अपने नवीनतम मॉडल 3 के उत्पादन से पहले भारतीय बाजार में आ जाएगी.

जानिए कब लॉन्च होगी एप्पल की सेल्फ ड्राइविंग कार

एलॉन ने यह भी जाहिर किया कि टेस्ला पूरे भारत में सुपरचार्जर नेटवर्क स्थापित करना चाहती है और यह बताता है कि कंपनी भारतीय बाजार को लेकर कितना गंभीर है. 

हालांकि इसका मतलब यह नहीं है कि एलॉन द्वारा टेस्ला को भारतीय बाजार में लाना बहुत चौंकाने वाली बात है. 

मिलिए दुनिया की सबसे तेज रफ्तार, समझदार और सेल्फ ड्राइविंग कार से

दरअसल भारतीय ऑटोमोबाइल उद्योग बहुत तेजी से बढ़ रहा है और इसका मौजूदा कारोबार 74 बिलियन अमेरिकी डॉलर का है. हकीकत में भारत दुनिया का तीसरा सबसे बड़ा ऑटोमोटिव बाजार बनने के लिए तैयार है और यह बात टेस्ला के लिए बहुत उम्मीद वाली है.

हालांकि बिक्री के मामले में भारत में इलेक्ट्रिक कारें उस तेजी से नहीं दौड़ी हैं. भले ही हम बहुत बड़े ऑटो बाजार हैं लेकिन फिर भी इलेक्ट्रिक कारों के मामले में भारत में महिंद्रा e2O और महिंद्रा वेरिटो ही मौजूद हैं. वाहन निर्माताओं को हाइब्रिड कारें ज्यादा बेहतर नजर आ रही हैं और वे इस सेगमेंट में काफी दिलचस्पी दिखा रहे हैं.

बीएमडब्लू ने पेश की जेम्स बॉन्ड की फिल्म जैसी मोबाइल से चलने वाली कार

भारत सरकार भी इलेक्ट्रिक या हाइब्रिड कारों को लेकर काफी गंभीर है और फेम (फास्टर एडॉप्शन एंड मैन्यूफैक्चरिंग ऑफ हाइब्रिड एंड इलेक्ट्रिक व्हीकल्स इन इंडिया) की पहल भी इस दिशा में एक कदम है. 

हकीकत में भारत सरकार ने मेक इन इंडिया के लिए टेस्ला को कोई निमंत्रण नहीं भेजा है और मौजूदा स्थिति को देखते हुए कंपनी इस प्रस्ताव को मानने में देरी नहीं दिखाएगी.

टेस्ला की सेल्फ ड्राइविंग कार सेफ नहीं,

मीडिया के मुताबिक भारत में इलेक्ट्रिक कारों के लिए जरूरी संसाधन मौजूद नहीं हैं. चार्जिंग स्टेशंस इस दिशा में सबसे बड़ी समस्या हैं और यह एक कारण है कि क्यों भारत में मौजूद कंपनियां अपने ग्लोबल पोर्टफोलियो में इन कारों को शामिल करने के बावजूद भारत में लेकर नहीं आ रही हैं.

अब अगर बात करें टेस्ला के मॉडल 3 की तो यह कंपनी की सबसे वाजिब कीमत वाली कार है और भारत में यह टेस्ला की पहली सौगात होगी. इसकी कीमत करीब 35 हजार डॉलर (करीब 23 लाख रुपये) है. 

बेफिक्र होकर चलाएंः बीएमडब्लू की कभी न गिरने वाली बाइक

लेकिन जैसे टेस्ला भारत में अपनी कार लाने के बारे में सोच रही है, तो जाहिर है कि इस पर भारी इंपोर्ट ड्यूटी लगा दी जाएगी, जिससे इसकी कीमत काफी ज्यादा हो जाएगी और यह उतनी अफोर्डेबल नहीं रहेगी.

First published: 8 February 2017, 15:52 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी