Home » साइंस-टेक » The biggest challenge of Reliance Jio users & company itself
 

रिलायंस जियो यूजर्स की सबसे बड़ी परेशानी

अमित कुमार बाजपेयी | Updated on: 27 September 2016, 14:17 IST

इसमें कोई दो राय नहीं कि रिलायंस इंडस्ट्रीज ने अपनी जियो 4जी सेवा लाकर स्मार्टफोन यूजर्स को मुफ्त में इसे जांचने की सुविधा दी है. अब तक देश में किसी कंपनी ने ऐसा नहीं किया. लेकिन अगर आप रिलायंस जियो यूजर हैं या बनने वाले हैं, तो एक बात जानना बहुत जरूरी है कि जियो सेवा लेने वाले यूजर्स के सामने एक बड़ी परेशानी है.

अगर विस्तृत रूप से देखें तो यह परेशानी केवल जियो यूजर्स के लिए ही नहीं कंपनी के लिए भी है. क्योंकि आने वाले वक्त में यही परेशानी ग्राहकों के जरिये कंपनी को झेलनी पड़ेगी. 

जानिए क्यों फटते हैं स्मार्टफोन?

दरअसल रिलायंस जियो द्वारा केवल 4जी सेवा ही मुहैया कराई जा रही है. जबकि एयरटेल, वोडाफोन, आइडिया जैसी कंपनियां 2जी और 3जी सेवा भी देती हैं. जहां बाकी टेलीकॉम ऑपरेटर्स के ग्राहक वॉयस कॉलिंग के लिए बिना डाटा सेवा इस्तेमाल किए ही बातचीत कर लेते हैं, रिलायंस जियो में वॉयस कॉलिंग केवल 4जी इंटरनेट डाटा कनेक्टिविटी ऑन रहने पर ही मिल सकेगी.

इसका मतलब कि जब तक जियो यूजर्स का मोबाइल डाटा ऑन रहेगा, कॉलिंग की सुविधा मिलेगी और डाटा बंद होते ही यह संपर्क खत्म हो जाएगा. सीधे शब्दों में कहें तो हर जियो यूजर को अपने 4जी स्मार्टफोन का डाटा हर वक्त ऑन रखना पड़ेगा और डाटा कनेक्टिविटी का मतलब कि मोबाइल की बैटरी ज्यादा जल्दी खत्म होगी. 

जानिए कौन से ऐप्स हैं स्मार्टफोन की बैटरी के दुश्मन

इतना ही नहीं हर वक्त कनेक्टिविटी में बने रहने के लिए फोन की प्रोसेसिंग भी होती रहेगी जिससे यह गर्म होना शुरू हो जाएगा. जब भी यूजर वॉयस कॉलिंग करेगा यह गर्म फोन यूजर्स को परेशान (इरिटेट) करेगा. क्योंकि फोन का ईयरपीस जहां होता है उसके थोड़ा नीचे ही प्रोसेसर होता है और फोन की स्क्रीन सबसे ज्यादा यहीं पर गर्म होती है.

खैर इस समस्या का दूसरा समाधान तो हैंड्सफ्री ईयरफोन या ब्लूटूथ हो सकते हैं, लेकिन हर वक्त इनका इस्तेमाल करना भी परेशानी भरा सौदा है.

जानिए 'स्पोर्ट्स ब्रा' के पीछे छिपा विज्ञान

इसके अलावा आज के वक्त में जहां ज्यादातर प्रमुख कंपनियां अपने फोन की बैटरी क्षमता बढ़ाने के बजाए सामान्य ही रखते हुए केवल क्विक चार्ज या फास्ट चार्ज का विकल्प दे रही हैं, ऐसे में जियो 4जी यूजर्स को हर वक्त कनेक्टिविटी में बने रहने के लिए दिन में तीन-चार बार फोन बैटरी रिचार्ज करनी होगा. जबकि तमाम यूजर्स को हरवक्त पॉवर बैकअप के लिए पॉवरबैंक की जरूरत होगी. 

जानिए किस काम में कितनी बैटरी खर्च होती है

तमाम जियो यूजर्स की मानें तो,

  • 1 मिनट वीडियो कॉल में 1 पर्सेंट बैटरी खत्म हो जाती है.
  • 3 मिनट वॉयस कॉल में 1 पर्सेंट बैटरी कम हो जाती है.
  • 1 मिनट तक ऑनलाइन वीडियो स्ट्रीमिंग, लाइव टीवी, यूट्यूब देखने पर 1 फीसदी बैटरी खत्म हो जाती है.
  • बिना कुछ करे ही अगर दिन भर फोन 4जी से कनेक्ट रहे तो भी यह फोन की बैटरी की 60 फीसदी से ज्यादा खपत कर देता है.
  • अगर कम या बिना नेटवर्क वाले क्षेत्र में हैं तो बैटरी की खपत बहुत तेजी से बढ़ती है.

First published: 27 September 2016, 14:17 IST
 
अमित कुमार बाजपेयी @amit_bajpai2000

पत्रकारिता में एक दशक से ज्यादा का अनुभव. ऑनलाइन और ऑफलाइन कारोबार, गैज़ेट वर्ल्ड, डिजिटल टेक्नोलॉजी, ऑटोमोबाइल, एजुकेशन पर पैनी नज़र रखते हैं. ग्रेटर नोएडा में हुई फार्मूला वन रेसिंग को लगातार दो साल कवर किया. एक्सपो मार्ट की शुरुआत से लेकर वहां होने वाली अंतरराष्ट्रीय प्रदर्शनियों-संगोष्ठियों की रिपोर्टिंग.

पिछली कहानी
अगली कहानी