Home » साइंस-टेक » US research Engineers developed a temporary tattoo like integrated circuit for internet
 

अस्थायी टैटू चिपकाओ और बिना स्मार्टफोन के इंटरनेट का मजा उठाओ

कैच ब्यूरो | Updated on: 29 May 2016, 15:13 IST

इंटरनेट को एक्सेस करने के लिए डेस्कटॉप, लैपटॉप, टैबलेट, स्मार्टफोन की सीमाओं से परे जाने की तैयारियों में जुटे वैज्ञानिकों ने सफलता प्राप्त कर ली है. अमेरिकी वैज्ञानिकों के दल ने दुनिया का सबसे तेज फैलने वाला, पहने जाने युक्त इंटीग्रेटेड सर्किट (आईसी) विकसित किया है. जिसमें इंटरनेट इस्तेमाल के तरीकों को आंदोलनकारी रूप से बदलने की क्षमता है.

मीडिया रिपोर्टों के मुताबिक अमेरिका स्थित यूनिवर्सिटी ऑफ विस्कॉन्सिन-मैडिसन में ज्हेनकियांग 'जैक मा' के नेतृत्व में इंजीनियरिंग शोधकर्ताओं के एक दल ने लचीले और एक-दूसरे में गुथे टेलीफोन केबल से प्रेरणा लेते हुए इंटीग्रेटेड सर्किट विकसित किया है.

पढ़ेंः इस साल गूगल दे देगा पासवर्ड से आजादी

यह फैलने वाले लचीले आईसी अन्य की तुलना में 40 गीगाहर्ट्ज जैसी रेडियो फ्रीक्वेंसी लेवल्स पर भी काम कर सकते हैं. इसके साथ ही यह नए विकसित सर्किट अन्य लचीली ट्रांसमिशन लाइंस की तुलना में बेहद पतले हैं और इनकी चौड़ाई महज 25 माइक्रोमीटर के आसपास है.

एडवांस्ड फंकश्नल मैटेरियल्स जर्नल में छपे शोध लेख में बताया गया है कि यह आईसी इतने छोटे और बेहद उच्च कार्यक्षमता वाले हैं कि इन्हें त्वचा पर अन्य तमाम एप्लीकेशन के साथ इलेक्ट्रॉनिकस सिस्टम की तरह इस्तेमाल किया जा सकता है. 

देखेंः कैदी के पेट से निकला मोबाइल फोन

आम बोलचाल में कहें तो इनका इस्तेमाल पहनने लायक तकनीक बनाने वाले निर्माताओं को एक ऐसा मंच देगा जिससे मानव शरीर की त्वचा में ही 5G जैसी सेवाओं के इस्तेमाल करने योग्य सर्किट को बेहद आसानी से सेट किया जा सकेगा.

इस तकनीक को अस्थायी टैटू के रूप में मानव शरीर की त्वचा से चिपकाया जा सकेगा और इसके जरिये इंटरनेट का लुत्फ लिया जा सकेगा. 

जानेंः टर्मिनेटर जैसी इंसानी आंखें बनाने में जुटा गूगल

चूंकि सर्किट में वायरलेस स्पीड को बढ़ाने की क्षमता भी है इसलिए इसका इस्तेमाल चिकित्सा क्षेत्र में भी किया जा सकेगा. जहां स्वास्थ्य कर्मी दूर से ही मरीजों पर नजर रख सकेंगे और इसके लिए किसी केबल या तार की भी जरूरत नहीं होगी.

First published: 29 May 2016, 15:13 IST
 
अगली कहानी