Home » साइंस-टेक » Want in on a Facebook Group? Be prepared to answer a three-question quiz
 

फेसबुक ग्रुपः चाहिए बस तीन सवालों के जवाब, एडमिन कर सकेंगे सही सदस्यों का चुनाव

कैच ब्यूरो | Updated on: 14 May 2017, 10:29 IST

फेसबुक पर ट्रॉल्स को किसने ग्रुप का हिस्सा बनने दिया? खैर, इन ट्रॉल्स को फिल्टर करने के लिए फेसबुक कोई कसर नहीं छोड़ रहा है. इसके लिए फेसबुक ने ग्रुप एडमिन को अधिकार दिया है कि वह तीन सवालों का क्विज करवा कर अपने योग्य सदस्यों का चयन कर सकता है.

फेसबुक यह कवायद इसलिए कर रहा है, ताकि प्राइवेट ग्रुप में से उन लोगों को हटाया जा सके जो अपशब्दों का इस्तेमाल करते हैं. साथ ही ऐसे ट्रॉल भी जो आपत्तिजनक पाए जाएं. कुल मिलाकर कम्पनी अच्छा 'सोशल ग्रुप' बनाने के अपने सीईओ मार्क जुकरबर्ग के वादे पर खरा उतरने के लिए एडमिन टूल्स में सुधार कर रही है और कुछ नए टूल्स अपना रही है.

कुछ सवालों के जरिये एडमिन के लिए यह तय करना आसान हो जाएगा कि कौन से सदस्य उसके ग्रुप के लिए सही हैं और कौन सिर्फ स्पैम के लिए ही ग्रुप में हैं! फेसबुक का यह नया फीचर दुनिया भर में आ चुका है और एडमिन इसका उपयोग कर सकते है.

 

फेसबुक अगले महीने शिकागो में अपने ग्रुप एडमिन के लिए पहला कम्युनिटी शिखर सम्मेलन आयोजित करेगा.

ग्रुप एडमिन को इसके लिए ग्रुप के सैटिंग मेन्यू में एक विकल्प मिलेगा 'आस्क पेंडिंग मैम्बर्स क्वेश्चन्स'. इस पर क्लिक करते ही उनके सामने होंगे तीन सवाल, जो वे ग्रुप में शामिल होने वाले शख्स से पूछ सकते हैं. संभावित सदस्य हर सवाल का जवाब 250 अक्षरों में दे सकता है. उसके बाद ग्रुप एडमिन और उसके कुछ साथी ही इन सवालों के जवाब देख सकते हैं या पढ़ सकते हैं. जो भी यूजर किसी ग्रुप विशेष में शामिल होना चाहता है, वह इन सवालों का जवाब दे सकता है. जिन्हें इसके लिए इनवाइट किया गया है, उन्हें इन सवालों के फॉर्म का लिंक मिलेगा. वे चाहें तो समीक्षा होने से पहले-पहले अपने जवाब में बदलाव कर सकते हैं.

फिलहाल यह क्विज तैयार करने का विकल्प केवल 'ओपन' और 'क्लोज्ड' ग्रुप के एडमिन के पास है. 'सीक्रेट' समूह के एडमिन के पास यह विकल्प नहीं होता क्योंकि वे पहले ही अपने सदस्यों की स्क्रीनिंग कर चुके होते हैं. जुकरबर्ग ने फरवरी में एक प्रपत्र में लिखा था, "ग्रुप एडमिन के फेसबुक टूल्स अब काफी सरल हो गए हैं. हम मोनिस (बखारी) जैसे कम्यूनिटी लीडर को और अधिकार देना चाहते हैं जो बर्लिन में एक शरणार्थी सहायता समूह चला रहे हैं. ताकि वे अपने मनमुताबिक अपना ग्रुप चला सकें, जैसे हम अपने पेज चला रहे हैं."

यह क्विज फीचर आने से पहले ग्रुप एडमिन केवल एक फेसबुक संदेश के जरिये ही अपने संभावित सदसय की स्क्रीनिंग कर सकते थे, जो संभवतः उनके 'अदर' इनबॉक्स में चला जाता था और शायद ही यूजर उसे देख पाता होगा. फेसबुक अगले महीने शिकागो में अपने ग्रुप एडमिन के लिए पहला कम्युनिटी शिखर सम्मेलन आयोजित करेगा.

उम्मीद है कि मार्क जुकरबर्ग इस सम्मेलन में बहुत सी घोषणाएं करें, जैसे सब ग्रुप बनाना, एडमिन और उसकी टीम को और टूल्स देना और ग्रुप्स के बारे में ज्यादा विश्लेषणात्मक जानकारी देना. यह क्विज ग्रुप से ट्रॉल्स और अपशब्दों का इस्तेमाल करने वाले सदस्यों की छुट्टी करने के प्रयासों में पहला कदम है. उम्मीद है जुकरबर्ग इस लड़ाई को अगले महीने तक और धार दे दें. 

'आस्क पेंडिंग मेंबर्स क्वेश्चन्स'

मार्क जुकरबर्ग

ग्रुप एडमिन को इसके लिए ग्रुप के सैटिंग मेन्यू में एक विकल्प मिलेगा 'आस्क पेंडिंग मेंबर्स क्वेश्चन्स'. इस पर क्लिक करते ही उनके सामने होंगे तीन सवाल, जो वे ग्रुप में शामिल होने वाले शख्स से पूछ सकते हैं. संभावित सदस्य हर सवाल का जवाब 250 अक्षरों में दे सकता है. उसके बाद ग्रुप एडमिन और उसके कुछ साथी ही इन सवालों के जवाब देख सकते हैं या पढ़ सकते हैं. जो भी यूजर किसी ग्रुप विशेष में शामिल होना चाहता है, वह इन सवालों का जवाब दे सकता है. जिन्हें इसके लिए इनवाइट किया गया है, उन्हें इन सवालों के फॉर्म का लिंक मिलेगा. वे चाहें तो समीक्षा होने से पहले-पहले अपने जवाब में बदलाव कर सकते हैं.

फिलहाल यह क्विज तैयार करने का विकल्प केवल 'ओपन' और 'क्लोज्ड' ग्रुप के एडमिन के पास है. 'सीक्रेट' समूह के एडमिन के पास यह विकल्प नहीं होता क्योंकि वे पहले ही अपने सदस्यों की स्क्रीनिंग कर चुके होते हैं. जुकरबर्ग ने फरवरी में एक प्रपत्र में लिखा था, "ग्रुप एडमिन के फेसबुक टूल्स अब काफी सरल हो गए हैं. हम मोनिस (बखारी) जैसे कम्यूनिटी लीडर को और अधिकार देना चाहते हैं जो बर्लिन में एक शरणार्थी सहायता समूह चला रहे हैं. ताकि वे अपने मनमुताबिक अपना ग्रुप चला सकें, जैसे हम अपने पेज चला रहे हैं."

 

फिलहाल यह क्विज तैयार करने का विकल्प केवल 'ओपन' और 'क्लोज्ड' ग्रुप के एडमिन के पास है.

यह क्विज फीचर आने से पहले ग्रुप एडमिन केवल एक फेसबुक संदेश के जरिये ही अपने संभावित सदसय की स्क्रीनिंग कर सकते थे, जो संभवतः उनके 'अदर' इनबॉक्स में चला जाता था और शायद ही यूजर उसे देख पाता होगा. फेसबुक अगले महीने शिकागो में अपने ग्रुप एडमिन के लिए पहला कम्युनिटी शिखर सम्मेलन आयोजित करेगा.

उम्मीद है कि मार्क जुकरबर्ग इस सम्मेलन में बहुत सी घोषणाएं करें, जैसे सब ग्रुप बनाना, एडमिन और उसकी टीम को और टूल्स देना और ग्रुप्स के बारे में ज्यादा विश्लेषणात्मक जानकारी देना. यह क्विज ग्रुप से ट्रॉल्स और अपशब्दों का इस्तेमाल करने वाले सदस्यों की छुट्टी करने के प्रयासों में पहला कदम है. उम्मीद है जुकरबर्ग इस लड़ाई को अगले महीने तक और धार दे दें.

First published: 14 May 2017, 8:56 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी