Home » साइंस-टेक » WhatsApp co-founder Brain Acton says on Twitter that it is time to delete Facebook
 

WhatsApp के सह-संस्थापकः यह वक्त है Facebook को डिलीट करने का

कैच ब्यूरो | Updated on: 21 March 2018, 13:32 IST

कैंब्रिज एनालिटिका द्वारा एकत्रित डाटा के दुरुपयोग को अनुमति देने के लिए दुनिया की प्रमुख सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म Facebook को आलोचनाओं का सामना करना पड़ रहा है. इस बीच प्रमुख इंस्टैंट मैसेजिंग प्लेटफॉर्म WhatsApp के सह-संस्थापक ब्रायन एक्टन ने Twitter पर अपने फॉलोअर्स से कहा कि अपना Facebook अकाउंट डिलीट कर दें.

ब्रायन एक्टन ने जैन कौम के साथ पार्टनरशिप में WhatsApp की स्थापना की थी और एक नई संस्था बनाने के लिए बीते साल कंपनी को छोड़ दिया था. गौरतलब है कि Facebook द्वारा 16 बिलियन अमेरिकी डॉलर (करीब 1 लाख 4 हजार 300 करोड़ रुपये) में WhatsApp पर अधिपत्य जमाए जाने के तीन साल बाद एक्टन का इस मैसेजिंग प्लेटफॉर्म से साथ छूटा है.

एक्टन ने बुधवार को माइक्रो ब्लॉगिंग साइट Twitter पर एक पोस्ट की, जिसमें लिखा था, "It is time. #deletefacebook" (यह वक्त है फेसबुक को डिलीट करने का). मालूम हो कि #deletefacebook हैशटैग पिछले कुछ दिनों से सोशल मीडिया पर सामने आया है और इस अभियान के पक्ष में अपनी आवाज देने वालों में से एक्टन सबसे नए जुड़ाव हैं.

मालूम हो कि सोशल मीडिया पर #deletefacebook अभियान उस वक्त सामने आया जब कैंब्रिज एनालिटिका के पास यूजर डाटा का एक्सेस होने का पता चला, जिसके चलते अमेरिका और ब्रिटेन ने Facebook से इस संबंध में जवाब मांगे.

मंगलवार को Facebook ने कहा कि वो इस सप्ताह कैंब्रिज एनालिटिका द्‌वारा हासिल डाटा के संबंध में फेडरल ट्रेड कमिशन (एफटीसी) के सवालों का सामना करेंगे. कंपनी ने कहा कि उन्हें औपचारिक जांच के संबंध में कोई संकेत नहीं है.

कहा जा रहा है कि एफटीसी यह देखेगी कि क्या Facebook ने 2011 को हुए गोपनीयता की शर्तों पर सहमति के फैसले का उल्लंघन किया था. Facebook का शेयर पिछले माह हमेशा के उच्चतम स्तर से 15 फीसदी नीचे है.

यहां पर ध्यान देने वाली बात यह है कि एक्टन ही Facebook के एकमात्र ऐसे पूर्व-कर्मचारी नहीं हैं जिन्होंने कंपनी छोड़ने के बाद इसके बारे में नकारात्मकता व्यक्त की है. पिछले साल Facebook के उपाध्यक्ष (यूजर ग्रोथ, मोबाइल एंड इंटरनेशनल) चमथ पलिहापितिया ने भी ऐसे टूल्स बनाने के लिए 'बहुत ज्यादा अपराधबोध' व्यक्त किया था जो समाज के कामकाज को सामाजिक रूप से अलग कर रहे हैं.

बता दें कि पिछले माह एक्टन ने Signal में 50 मिलियन अमेरिकी डॉलर का निवेश किया था. Signal एक एनक्रिप्टेड मैसेजिंग ऐप है जिसे WhatsApp को टक्कर देने के लिए डिजाइन किया गया है. 46 वर्षीय कंप्यूटर प्रोग्रामर एक्टन ने सिक्योरिटी रिसर्चर Moxie Marlinspike के साथ मिलकर Signal Foundation का गठन किया था, ताकि ओपन सोर्स प्राइवेसी टेक्नोलॉजी डेवलप की जाए जो "मुक्त अभिव्यक्ति की रक्षा करता हो और सुरक्षित वैश्विक संचार को सक्षम करता हो."

First published: 21 March 2018, 13:32 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी