Home » साइंस-टेक » Catch Hindi: world first fully robot farming in japan by spread
 

जापान में एक फार्म में बस रोबोट करेंगे किसानी

रंजन क्रास्टा | Updated on: 31 January 2016, 11:25 IST
लेटस उगाने वाली जापानी कंपनी स्प्रेट को भरोसा है कि भविष्य में रोबोट खेती-किसानी का काम संभाल लेंगे. कंपनी दुनिया का पहला पहला ऐसा फार्म बना रही है जिसमें केवल रोबोट खेती करेंगे.

स्प्रेड ये फार्म 2017 में अपने पुराने फार्म के अंदर ही खोलेगी. मौजूदा फार्म में कंपनी हर रोज 21 हजार लेटस(सलाद पत्ता) उगाती है. जिसमें कुछ किसान काम करते हैं. अब कंपनी ने नई आटोमेटेड तकनीकी से बड़े पैमाने पर खेती करने का निर्णय लिया है.

टेकइनसाइडर वेबसाइट के अनुसार, "इस फार्म में रोबोट बुआई, सिंचाई, निराई और कटाई का काम कर सकेंगे. आदमी का बस इतना काम होगा कि वो ये सुनिश्चित करे की बीज अंकुरित हुए है कि नहीं. इस तरह खेती में कंपनी मानवीय श्रम में 50 प्रतिशत और ऊर्जा लागत में 30 प्रतिशत तक कमी कर सकेगी."

कंपनी का मकसद हर रोज 30 हजार लेटस पत्ते उगाना है जिससे पहले साल एक अरब येन का कारोबार होगा

नया फार्म 4400 वर्ग मीटर में फैला होगा. इसकी लागत करीब दो अरब येन रहने का अनुमान है. इतनी बड़ी लागत से ये स्टार्ट-अप शुरू करने पर हैरान न हों. कंपनी का मकसद हर रोज 30 हजार लेटस पत्ते उगाना है जिससे पहले साल एक अरब येन का कारोबार होगा. कंपनी अगले पांच साल में हर रोज 50 हजार लेटस उगाने का इरादा रखती है.

फार्म में पौधों के विकास के लिए आदर्श मौसम स्थिति तैयार की जाएगी. यानी इस तरह की खेती पर मौसम की भी मार नहीं पड़ेगी. नई तकनीकी पर्यावरण अनुकूल भी है.  फार्म में प्रयोग किए जाने वाले 98 प्रतिशत जल को रिसाइक्ल कर लिया जाएगा.

कंपनी को उम्मीद है कि इस तरीके से लेटस का उत्पादन धीरे-धीरे किफायती हो जाएगा. कंपनी के प्रवक्ता ने टेकइनसाइडर को बताया, "हमारा मिशन टिकाऊ समाज बनाना है जिसमें आने वाली पीढ़ियों को खाद्य सुरक्षा के बारे में न सोचना पड़ेगा. इसके लिए हमें इसे सबके लिए सुलभ बनाना होगा. इसकी शुरुआत हम बुनियादी खाद्य पदार्थों को उपजाने से कर सकते हैं. "

First published: 31 January 2016, 11:25 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी