Home » खेल » Ajaya Shirke told, my work finish in BCCI
 

सुप्रीम कोर्ट से बर्खास्तगी पर बोले अजय शिर्के- 'मुझे कोई दिक्कत नहीं, BCCI में मेरा काम खत्म'

कैच ब्यूरो | Updated on: 2 January 2017, 15:12 IST
(एजेंसी)

सुप्रीम कोर्ट द्वारा बर्खास्त हुए भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड (बीसीसीआई) के सचिव अजय शिर्के ने सोमवार को कहा कि कोर्ट द्वारा उन्हें पद से हटाये जाने के फैसले से उन्हें कोई दिक्कत नहीं है.

इसके साथ ही अजय शिर्के ने कहा कि उन्हें उम्मीद है कि बीसीसीआई में कोर्ट के फैसले बाद होने वाले प्रशासनिक बदलाव का असर अंतरराष्ट्रीय स्तर पर बीसीसीआई की स्थिति पर नहीं पड़ेगा.

शिर्के ने कोर्ट के फैसले के बाद कहा,"इस फैसले पर मेरी कोई प्रतिक्रिया नहीं है. यदि यह कोर्ट का फैसला है कि मैं सचिव नहीं रहूं तो इससे सरल क्या हो सकता है. बीसीसीआई में मेरा काम खत्म हो गया है."

यह पूछने पर कि बोर्ड अगर लोढ़ा समिति के सुझावों को लागू कर देता तो क्या इस स्थिति से बचा जा सकता था, शिर्के ने कहा कि इस मसले से दूसरी तरह से निपटने का कोई सवाल ही नहीं था.

उन्होंने कहा, "आखिर में बीसीसीआई सदस्यों से ही बनती है. यह मेरे या अध्यक्ष की बात नहीं थी बल्कि यह सदस्यों की बात थी."

शिर्के इस समय लंदन में हैं और उन्होंने वहां से कहा, "इतिहास में जाने की कोई वजह नहीं है. लोग अलग-अलग तरीके से बीते समय का आकलन कर सकते हैं. सचिव के पद से मेरा कोई निजी लगाव नहीं है. पहले भी मैंने इस्तीफा दिया है. मेरे पास करने के लिये बहुत कुछ है. बोर्ड में जगह थी तो मैं आया और निर्विरोध चुना गया. मुझे इससे कोई दिक्कत नहीं है और कोई पछतावा भी नहीं है."

शिर्के ने उम्मीद जताई कि बोर्ड वैश्विक स्तर पर अपनी मजबूत स्थिति को बनाये रखेगा. बीसीसीआई में नये पदाधिकारियों के बारे में उन्होंने कहा,"मुझे उम्मीद है कि नये पदाधिकारी बीसीसीआई का अच्छा काम जारी रखेंगे. उम्मीद है कि बोर्ड वैश्विक स्तर पर अपना रुतबा बरकरार रखेगा. उम्मीद है कि भारतीय टीम भी खेल के तीनों प्रारूपों में अपना दबदबा कायम रखेगा."

इस बीच पूर्व भारतीय गेंदबाज बिशन सिंह बेदी की अगुवाई में क्रिकेट जगत ने कोर्ट के इस फैसले की सराहना की है.

बेदी ने कहा, "कोर्ट का यह ऐतिहासिक फैसला है. भारतीय क्रिकेट के लिये यह अच्छा है और इससे क्रिकेट ढर्रे पर आ जायेगा. फैसले के लिए हम सुप्रीम कोर्ट के शुक्रगुजार हैं. मैं बहस में नहीं पड़ना चाहता. यह अंतिम और सर्वमान्य है. भारतीय खेलों और क्रिकेट के लिये यह अच्छी खबर है."

First published: 2 January 2017, 15:12 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी