Home » खेल » Dharamsala Test: Team India won Border Gavaskar trophy defeated Australia by 8 wickets
 

धर्मशाला में धमाल: बॉर्डर-गावस्कर ट्रॉफी पर भारत का कब्जा, कंगारुओं की करारी हार

कैच ब्यूरो | Updated on: 28 March 2017, 12:52 IST
(ट्विटर)

ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ धर्मशाला टेस्ट जीतकर टीम इंडिया ने बॉर्डर-गावस्कर ट्रॉफी पर कब्जा कर लिया है. इसके साथ ही भारत ने इस सीजन का अंत लगातार चौथी सीरीज़ जीत के साथ किया है. चौथे दिन टीम इंडिया ने जीत के लिए जरूरी 106 रन के लक्ष्य को दो विकेट खोकर लंच से पहले ही हासिल कर लिया. 

केएल राहुल 51 और कप्तान अजिंक्य रहाणे 38 रन बनाकर नॉट आउट रहे. विराट कोहली के चोट लगने की वजह से बाहर होने के बाद इस मैच में टीम की कप्तानी रहाणे कर रहे थे. टीम इंडिया ने चौथे दिन के पहले सेशन में काफी तेजी से खेलते हुए महज 23.5 ओवर में जीत की इबारत लिख दी. टीम इंडिया ने चार टेस्ट की सीरीज को 2-1 से अपने नाम कर लिया.

2-1 से जीती सीरीज़

टीम इंडिया ने धर्मशाला टेस्ट जीतने के साथ ही चार टेस्ट मैचों की सीरीज 2-1 से अपने नाम कर ली. भारत ने सीरीज़ में पिछड़ने के बाद जोरदार वापसी की. पुणे में खेले गए पहले टेस्ट में हार के बाद बेंगलुरु टेस्ट जीतकर सीरीज़ 1-1 से बराबर कर दी. रांची में खेला गया तीसरा टेस्ट ड्रॉ रहा. वहीं धर्मशाला टेस्ट में टीम इंडिया ने ऑस्ट्रेलिया के पहली पारी में 300 रन के जवाब में 332 रन बनाकर 32 रन की बढ़त हासिल की. 

मैच के तीसरे दिन कंगारुओं की दूसरी पारी महज 137 रनों पर सिमट गई थी. जिसके बाद भारत को जीत के लिए 106 रन का आसान टारगेट मिला था. दूसरी पारी में मुरली विजय 8 रन बनाकर कमिंस की गेंद पर आउट हो गए. वहीं चेतेश्वर पुजारा बगैर खाता खोले रन आउट हो गए. तीसरे विकेट के लिए केएल राहुल और रहाणे ने 60 रनों की साझेदारी करते हुए टीम इंडिया की जीत सुनिश्चित कर दी.

रवींद्र जडेजा को मैन ऑफ द मैच और मैन ऑफ द सीरीज दोनों अवॉर्ड मिला. (एजेंसी)

कोहली की कप्तानी में सातवीं सीरीज़ जीत

भारत ने आखिरी बार बॉर्डर-गावस्कर ट्रॉफी साल 2012-13 में 4-0 से जीती थी. 2014 में ऑस्ट्रेलियाई ज़मीन पर खेली गई सीरीज में भारत 2-0 से हार गया था. तभी से ट्रॉफी कंगारुओं के पास ही थी.

बॉर्डर-गावस्कर ट्रॉफी की शुरुआत 1996-97 में हुई थी. अब तक 13 सीरीज में से 7 टीम इंडिया, जबकि 5 ऑस्ट्रेलिया के नाम रहीं. वहीं 2003-04 की सीरीज ड्रॉ रही थी.

विराट कोहली की कप्तानी में भारतीय टीम की यह लगातार सातवीं सीरीज़ जीत है. श्रीलंका के खिलाफ 2015 में सीरीज जीत (2-1) से इसकी शुरुआत हुई थी. इसके बाद टीम इंडिया ने दक्षिण अफ्रीका (3-0), वेस्टइंडीज (2-0), न्यूजीलैंड (3-0), इंग्लैंड (4-0) और फिर बांग्लादेश (1-0) को टेस्ट सीरीज में शिकस्त दी. 

रवींद्र जडेजा मैन ऑफ द सीरीज़

हालांकि पूर्वानुमानों को झुठलाते हुए ऑस्ट्रेलिया की टीम ने भारत को कड़ी टक्कर दी. कप्तान स्टीव स्मिथ ने सीरीज में तीन शतक (कुल 499 रन) ठोके. वहीं भारत के लिए रवींद्र जडेजा ने इस टेस्ट में भी ऑलराउंड प्रदर्शन किया. जडेजा ने 63 रन बनाने के बाद गेंद से भी पहली पारी में एक और दूसरी पारी में तीन विकेट झटके.

बीसीसीआई ट्विटर

विराट: अब तक की बेस्ट सीरीज़ जीत

तेज गेंदबाज उमेश यादव और रविचंद्रन अश्विन ने भी जीत में अहम भूमिका निभाई. रवींद्र जडेजा को मैन ऑफ द सीरीज़ और मैन ऑफ द मैच दोनों अवॉर्ड दिया गया. जडेजा ने इस सीरीज़ में 25 विकेट झटकने के साथ ही 127 रन महत्वपूर्ण रन बनाए, जिसमें दो अर्धशतक शामिल हैं. 

मैच खत्म होने के बाद कप्तान विराट कोहली ने कहा कि मुझे लगता है कि यह हमारी अब तक की बेस्ट टेस्ट सीरीज़ जीत है. वहीं धर्मशाला में खेला गया ये पहला टेस्ट मैच था. इससे पहले यहां 3 वनडे और 8 टी20 मैच हो चुके थे. टीम इंडिया ने इनमें से दो वनडे जीते हैं, जबकि इकलौते टी20 में उसे दक्षिण अफ्रीका से शिकस्त झेलनी पड़ी थी.

बीसीसीआई ट्विटर
First published: 28 March 2017, 11:03 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी