Home » खेल » Do you know some interesting information about Iceland football team?
 

इंग्लैंड को धूल चटाने वाली आइसलैंड टीम से जुड़ी कुछ दिलचस्प जानकारी

सुधाकर सिंह | Updated on: 1 July 2016, 16:57 IST
(यूएफा)

यूएफा यूरो 2016 में पहली बार खेल रही आइसलैंड की टीम ने खिताब की दावेदार मानी जा रही इंग्लैंड की टीम को हराकर सबको चौंका दिया है. सिर्फ तीन लाख 23 हजार की जनसंख्या वाले इस देश ने यूरो कप में दुनिया की दिग्गज टीमों को हराते यूरो कप के क्वार्टर फाइनल में प्रवेश किया.

आइसलैंड की टीम ने अब तक यूरो कप में सभी की उम्मीदों से बढ़कर प्रदर्शन किया है. भारत के किसी तहसील क्षेत्र की जनसंख्या से भी कम इस टीम के जज्बे से भारत को काफी कुछ सीखने को मिल सकता है.

आइये जानते हैं आइसलैंड और उसकी फुटबॉल की टीम की बारें मे कुछ रोचक तथ्य

  • आपको ये जानकर हैरानी होगी की आइसलैंड का राष्ट्रीय खेल फुटबॉल नहीं हैंडबाल है. वहां के लोग इस खेल के बेहद शौकीन है.
  • आइसलैंड की टीम ने यूरो कप में पहली बार क्वालिफाई किया.
  • देश की कुल जनसंख्या में से 6.3 प्रतिशत (21,000) लोग फुटबॉल खेलते हैं. 
  • चौंकाने वाली बात ये है कि देश की लगभग 8 प्रतिशत जनसंख्या इंग्लैंड को 2-1 से हराने वाली आइसलैंड की टीम के मैच को देखने के लिए 28 जून को नीस स्टेडियम में मौजूद थी. 
  • साल 2010 में आइसलैंड की टीम वर्ल्ड रैंकिंग में 112वें स्थान पर थी और आज ये टीम 34वें स्थान पर है.

टीम में कोई डेंटिस्ट तो कोई फिल्म डाइरेक्टर

आइसलैंड की टीम के गोलकीपर हेंस हेल्डरसन एक फिल्म डॉयरेक्टर हैं. उन्होंने साल 2012 में कंट्री यूरो विजन एंट्री नाम से एक वीडियो भी बनाया था.

टीम के डेंटिस्ट गोलकीपर हेंस हेल्डरसन (यूएफा)

यूरो 2016 में आइसलैंड की टीम एकमात्र ऐसी टीम है जिसके पास दो कोच हैं. टीम के पहले मैनेजर और कोच हीमिर हालग्रीमसन पेशे से एक डेंटिस्ट है और फुटबॉल कोचिंग पार्ट टाइम के तौर पर करते हैं.

कोच हीमिर हालग्रीमसन अपने क्लिनिक में (पॉल ग्रोवर)

हॉलग्रीमसन का कहना है कि अगर आप जिंदगी में सबसे बेस्ट चाहते हैं तो आपको मौकों के लिए तैयार रहना होगा. ये सच्चाई है और जो मौका हमें मिला था वो बहुत बड़ा था, ये खिलाड़ियोंं की जिंदगी बदल सकता है.

टीम के कोच लार्स लैगरबैक और हीमिर हालग्रीमसन (यूएफा)

वहीं टीम के दूसरे कोच लार्स लैगरबैक को 2011 में जब आइसलैंड की टीम का मैनेजर नियुक्त किया गया तब से वे पूरी टीम को विश्व स्तर तक ले जाने के लिए हरसंभव कोशिश कर रहे हैं.

उन्होंने टीम की हर छोटी से छोटी चीज पर ध्यान दिया. खिलाड़ियों के लिए प्राइवेट शेफ से लेकर संतुलित भोजन तक की व्यवस्था कराई. इसके अलावा बाहर होने वाले मैचों के लिए टीम को चार्टड प्लेन की सुविधा मुहैया कराई गई.

67 वर्षीय लार्स लैगरबैक, हीमिर हालग्रीमसन के साथ मिलकर आइसलैंड की टीम के प्रशिक्षण की जिम्मेदारी संभाल रहे हैं. लैगरबैक इससे पहले अपने देश स्वीडन की टीम को 9 साल तक कोचिंग दे चुके हैं. 

टीम की वेल्यू फ्रांस की टीम दो खिलाड़ियो से भी कम

आइसलैंड की टीम यूरो कप क्वालीफायर में विश्व कप की तीन बार की उप-विजेता हॉलैंड को दो बार हरा चुकी है, जिसकी वजह से हॉलैंड की टीम इस बार यूरो कप के लिए क्वालीफाई तक नहीं कर सकी.

आइसलैंड की पूरी टीम की वेल्यू 33.56 मिलियन यूरो है, जो फ्रांस की टीम के पोग्बा और ग्रिजमैन जैसे खिलाड़ियो की वेल्यू से 19 मिलियन यूरो कम है. वहीं आइसलैंड की पूरी टीम की वेल्यू फ्रांस की टीम की वेल्यू से 332 मिलियन यूरो कम है.

15 साल से कर रहा था तैयारी

जनसंख्या के लिहाज से टूर्नामेंट में खेलने वाले सबसे छोटे देश आइसलैंड का यूरो कप-2016 में रुतबा कायम करने का यह प्रयास एक या दो नहीं बल्कि पूरे 15 साल तक की गई तैयारी का नतीजा है.

फुटबॉल के जुनूनी इस देश ने 15 साल पहले खुद के लिए वर्ल्ड लेवल पर फुटबॉल की शक्ति के रूप में पहचान बनाने का प्रयास शुरू किया.

यूएफा

आइसलैंड ठंडी जलवायु वाला एक देश है. गर्मियों के महीनों में भी वहां का तापमान केवल 10-13 डिग्री सेंटीग्रेट होता है. वहीं दिसबंर के महीने में तो इस देश में 20 घंटे की रात होती है, जो किसी भी लिहाज से फुटबॉल के अभ्यास के लिए सही नहीं है. 

इसी को देखते हुए पिछले 15 साल में देश के अलग-अलग 150 जगह पर आर्टिफीशियल इंडोर स्टेडियम तैयार किए गए. इन स्टेडियमों में जूनियर लेवल पर प्रतिभाशाली खिलाड़ी चुनकर साइंटिफिक ट्रेनिंग शुरू कराई.

इंडोर स्टेडियम (पॉल ग्रोवर)

हर इंडोर स्टेडियम में इंटरनेशनल लेवल की सुविधाएं उपलब्ध कराई गई. साइंटिफिक तरीके से ट्रेनिंग के साथ ही फिटनेस और खानपान पर भी फोकस किया गया.

इंडोर स्टेडियम का दृश्य (यूएफा)

कोचिंग पर खासा ध्यान देते हुए 650 से ज्यादा विश्व स्तरीय फुटबॉल कोच नियुक्त किए गए. आइसलैंड में तकरीबन 825 खिलाडिय़ों पर एक कोच है, जबकि इंग्लैंड जैसे देश में 11 हजार खिलाडियों पर एक कोच है.

इंडोर स्टेडियम में ट्रेनिंग लेते बच्चे (पॉल ग्रोवर)

रहने के लिहाज से आइसलैंड बेस्ट

आइसलैंड या आइसलैण्ड गणराज्य उत्तर पश्चिमी यूरोप में उत्तरी अटलांटिक में ग्रीनलैंड, फ़रो द्वीप समूह और नार्वे के बीच बसा एक द्विपीय देश है. आइसलैण्ड का क्षेत्रफल लगभग 1 लाख 2 हजार वर्ग किमी है और इसकी जनसंख्या महज 2 लाख 13 हजार है.

यह यूरोप में ब्रिटेन के बाद दूसरा और विश्व में अठारहवां सबसे बड़ा द्वीप है. यहां की राजधानी है रेक्जाविक और देश की आधी जनसंख्या यहीं निवास करती है.

बीसवीं सदी के शुरुआत में आइसलैण्ड के लोगों ने अपने देश के विकास पर पुरजोर ध्यान दिया और देश के आधारभूत ढांचे को सुधारने और अन्य कई कल्याणकारी कामों पर ध्यान दिया जिसके परिणामस्वरूप आइसलैण्ड, संयुक्त राष्ट्र के जीवन गुणवत्ता सूचकांक के आधार पर विश्व का सर्वाधिक रहने योग्य देश बना.

First published: 1 July 2016, 16:57 IST
 
अगली कहानी