Home » खेल » former hockey captain mohammad shahid pass way today
 

ओलंपिक में आखिरी गोल्ड दिलाने वाले हॉकी दिग्गज मोहम्मद शाहिद नहीं रहे

कैच ब्यूरो | Updated on: 20 July 2016, 18:55 IST
(एजेंसी)

ओलंपियन और पूर्व भारतीय हॉकी कप्तान मोहम्मद शाहिद का 56 साल की उम्र में गुड़गांव के मेदान्ता अस्पताल में निधन हो गया.  शाहिद 1980 के मॉस्को ओलंपिक में हॉकी का स्वर्ण पदक जीतने वाली भारतीय टीम का हिस्सा थे. उसके बाद से भारत अब तक ओलंपिक में हॉकी का स्वर्ण नहीं जीत सका है.

शाहिद लम्बे समय से लीवर और किडनी की गंभीर समस्या से जूझ रहे थे. मोहम्मद शाहिद का जन्म उत्तर प्रदेश के वाराणसी में 14 अप्रैल 1960 को हुआ था.

पिछले महीने पेट दर्द के बाद उन्हें वाराणसी से सर सुंदर लाल अस्पताल में भर्ती कराया गया था. हालत में सुधार न होने पर उन्हें गुड़गांव के मेदांता अस्पताल रेफर किया गया था.

तंगहाली से जूझ रहे थे शाहिद

हॉकी में उनके विशिष्ट योगदान को देखते हुए भारत सरकार ने उन्हें साल 1981 में अर्जुन अवॉर्ड और साल 1986 में पद्मश्री से सम्मानित किया था. मेदान्ता अस्पताल के मुताबिक उनका लिवर ट्रांसप्लांट होना था, लेकिन उससे पहले ही शाहिद का इंतकाल हो गया.

रेलवे में नौकरी करने वाले शाहिद इतनी तंगहाली में थे कि वो अपने इलाज का खर्च भी नहीं उठा पा रहे थे. पूर्व हॉकी कप्तान धनराज पिल्ले ने मोदी सरकार से उनके इलाज का खर्चा उठाने की अपील की थी.

सरकार से मिली थी इलाज में मदद

इसके बाद रेलवे ने उनके उपचार में लगे सारे खर्चे की जिम्मेदारी ली थी और खेल मंत्रालय ने भी 10 लाख रुपये की मदद देने की घोषणा की थी.

वहीं उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने भी मोहम्मद शाहिद को पांच लाख रुपये की आर्थिक सहायता देने की घोषणा की थी.

धनराज पिल्ले ने अपनी प्रतिक्रिया में कहा था, ''मैं शाहिद भाई के उपचार के लिए तुरंत सहायता मुहैया कराने और समर्थन के लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, खेल मंत्री जितेंद्र सिंह, भारतीय रेलवे और रेल मंत्री सुरेश प्रभु, उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री अखिलेश यादव का शुक्रिया अदा करता हूं.''

ड्रिबलिंग के बादशाह थे शाहिद

मोहम्मद शाहिद 1980 में मॉस्को ओलंपिक खेलों में गोल्ड मेडल विजेता भारतीय हॉकी टीम के सदस्य थे. इसके अलावा 1982 के एशियन गेम्स में सिल्वर और 1986 के एशियाड खेलों में कांस्य पदक जीतने वाली भारतीय हॉकी टीम का भी वो हिस्सा थे.

हॉकी की दुनिया में ड्रिबलिंग के बादशाह माने जाने वाले मोहम्मद शाहिद लगातार तीन ओलंपिक 1980, 1984 और 1988 में भारतीय टीम में शामिल थे.

First published: 20 July 2016, 18:55 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी