Home » खेल » ICC Champions Trophy 2017, India Vs Pakistan Pakistan lose before match
 

Champions Trophy 2017: मैच से पहले ही टीम इंडिया से चित हुआ पाकिस्तान

कैच ब्यूरो | Updated on: 4 June 2017, 10:50 IST

आईसीसी चैंपियंस ट्रॉफी में मुकाबले से पहले ही पाकिस्तान के समर्थकों ने हार मान ली है. पाकिस्तान के पूर्व हरफनमौला खिलाड़ी शाहिद आफरीदी का मानना है कि चार जून को भारत और पाकिस्तान के बीच होने वाले आईसीसी चैंपियंस ट्राफी के अहम मुकाबले में टीम इंडिया का पलड़ा भारी है.

इंग्लैंड की मेजबानी में एक जून से शुरू हुई आईसीसी चैंपियंस ट्राफी में भारत ग्रुप-बी के मुकाबले में एजबेस्टन में चार जून को चिरप्रतिद्वंद्वी पाकिस्तान के खिलाफ मुकाबले से अपने खिताब बचाओ अभियान की शुरूआत करेगा.

आईसीसी के कॉलम में लिखी मन की बात

आफरीदी ने अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट परिषद (आईसीसी) के कॉलम में लिखा कि जुनूनी पाकिस्तानी समर्थक के तौर पर यह सामान्य ही है कि मैं चाहूंगा कि मेरी टीम जीत दर्ज करे, खासकर भारत के खिलाफ.

हालांकि, हाल के इतिहास और भारतीय टीम की गहराई से, इस मैच में गत चैंपियन भारत का पलड़ा भारी है. भारत और पाकिस्तान ने पिछले तीन वर्षाें में मात्र दो एकदिवसीय अंतररष्ट्रीय मैच ही खेले हैं. लेकिन, ओवरऑल रिकॉर्ड की बात करें तो भारत और पाकिस्तान अब तक 127 बार आमने-सामने हो चुके हैं. इनमें से पाकिस्तान ने 72 और भारत ने 51 मैच जीते हैं. चार मैचों का कोई परिणाम नहीं रहा है.

कप्तान विराट कोहली की बल्लेबाजी की तारीफ

पाकिस्तान के लिए 398 वनडे खेलने वाले आफरीदी ने कहा कि कप्तान विराट कोहली की अगुवाई में भारत का बल्लेबाजी क्रम काफी मजबूत है. इसकी बदौलत वह किसी भी गेंदबाजी आक्रमण को तहस नहस कर सकते हैं.

विराट की शीर्ष क्रम के बल्लेबाज के तौर पर काबिलियत सभी को पता है और उन्होंने वनडे में कई शानदार पारियां खेली हैं. अगर पाकिस्तान विराट को सस्ते में आउट कर देता है तो इससे उसकी भारत को कम स्कोर पर समेटने की उम्मीद काफी बढ़ जाएगी.

आफरीदी का मानना है कि भारत के पास भी अपने मजबूत बल्लेबाजी लाइन अप की तरह ही गेंदबाजी में भी शानदार आक्रमण है.

गेंदबाजी आक्रमण को संतुलित बताया

37 वर्षीय आफरीदी ने कहा कि हालांकि बल्लेबाजी भारत की पारंपरिक मजबूती रही है, इसका गेंदबाजी आक्रमण भी काफी संतुलित है.

ऑफ स्पिनर रविचंद्रन अश्विन की अगुवाई में कुछ बेहतरीन गेंदबाज शामिल हैं. उन्होंने भारत की तीन प्रारूपों में हालिया सफलताओं में काफी अहम योगदान दिया है.

पूर्व ऑलराउंडर ने डेथ ओवरों के यार्कर स्पेशलिस्ट तेज गेंदबाज जसप्रीत बुमराह की तारीफ करते हुए कहा कि मैं युवा गेंदबाज बुमराह की योग्यता और मानसिकता से बेहद प्रभावित हुआ हूं. वह वो गेंद करते हैं जिसे मैं पाकिस्तानी यॉर्कर कहता हूं. वह मुझे हमारे उन गेंदबाजों की याद दिलाते हैं जिन्होंने खासकर 90 के दशक में इस गेंद में महारत हासिल की थी.

First published: 4 June 2017, 10:50 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी