Home » खेल » indian Badminton Player Jwala Gutta Joins The MeToo Movement and Says She Was 'Mentally Harassed'
 

खेलों पर भी #Metoo अभियान का साया, इस बैडमिंटन खिलाड़ी ने लगाया मानसिक उत्पीड़न का आरोप

कैच ब्यूरो | Updated on: 10 October 2018, 13:12 IST

वर्तमान समय में सोशल मीडिया पर #Metoo बहुत ही ट्रेंड कर रहा है, इस अभियान ने बॉलीवुड के दिग्गज कलाकारों का नाम आ रहा है. अब इस कड़ी में खेल जगत भी अछूता नहीं रहा है, भारतीय बैडमिंटन खिलाड़ी ज्वाला गुट्टा ने भी अपनी आपबीती बताई है. गुट्टा ने अपने साथ हुए मानसिक उत्पीड़न को लेकर अपने ट्विटर पर एक पोस्ट की है. इस पोस्ट में उन्होंने उस व्यक्ति का नाम नहीं बताया है.

ज्वाला ने अपने ट्विटर पर लिखा, "शायद मुझे भी #Metoo के जरिए अपने साथ हुए मानसिक उत्पीड़न के बारे में बात करनी चाहिए. साल 2006 में यह व्यक्ति चीफ बना था. इसने मुझे राष्ट्रीय टीम से चैंपियन होने के बावजूद बाहर निकाल दिया. पिछले सालों के दौरान जब मैं रियो से लौटी तो मुझे फिर से टीम से निकाल दिया गया. यही एक वजह रही कि मैंने खेलना बंद कर दिया."

"जब यह व्यक्ति मेरा सीधेतौर पर कुछ नहीं बिगाड़ पा रहा था तो उसने मेरे पार्टनर्स को धमकी दी और परेशान किया. वह चाहता था कि मैं अकेली पड़ जाऊं. रियो के बाद जिसके साथ मुझे मिक्स्ड खेलना था, उसे धमकी दी गई और मुझे टीम से बाहर निकाल दिया गया."

ये भी पढे़ं: रोहित और धोनी हुए आमने-सामने, अब मैदान पर एक दूसरे के खिलाफ खेलेंगे!

 

बता दें कि ज्वाला को बैडमिंटन में अर्जुन अवॉर्ड से सम्मानित किया गया है, साल 2010 में दिल्ली में हुए कॉमनवेल्थ गेम्स में उन्होंने महिलओं की डबल स्पर्धा में गोल्ड जीता था. 

First published: 10 October 2018, 13:11 IST
 
अगली कहानी