Home » खेल » Indian Chess star Soumya Swaminathan Says No to Headscarf Pulls out of Iran Event
 

इस मुस्लिम देश में हिजाब अनिवार्य होने पर भारतीय खिलाड़ी ने खेलने से किया इंकार

कैच ब्यूरो | Updated on: 13 June 2018, 17:00 IST

भारत की शतरंज स्टार सौम्या स्वामीनाथन ईरान के हमदान में होने वाले शतरंज चैंपियनशिप का हिस्सा नहीं होंगी. सौम्या इस्लामिक देश इरान में महिलाओं के लिए सिर पर स्कार्फ (हिजाब) पहनने के नियमों के चलते ये कड़ा फैसला लियाबता दें कि सौम्या को एशियन नेशनल कप चैस चैंपियनशिप में भाग लेना था.

यह ईवेंट 26 जुलाई से 4 अगस्त के बीच ईरान में होना है. इस्लामिक देश होने की वजह से सभी महिलाओं के लिए यह नियम है कि वे सिर पर स्कार्फ पहन कर ही खेल सकती हैं. इसी को लेकर सौम्या ने खेलने से इंकार कर दिया. सौम्या ने इस नियम को उनके निजी अधिकार का उल्लंघन बताया है.

भारत की नंबर 5 महिला शतरंज खिलाड़ी 29 वर्षीय सौम्या ने फेसबुक पर लिखा, 'मैं जबरदस्ती स्कार्फ या बुरका नहीं पहनना चाहती. मुझे लगता है कि ईरानी कानून के तहत जबरन स्कार्फ पहनाना मेरे बुनियादी मानवाधिकार का सीधा उल्लंघन है. यह मेरी अभिव्यक्ति की आजादी और विचारों की आजादी सहित मेरे विवेक और धर्म का उल्लंघन है. ऐसी परिस्थितियों में मेरे अधिकारों की रक्षा के लिए मेरे पास एक ही रास्ता है कि मैं ईरान न जाऊं.”

सौम्या ने लिखा कि हर बार जब वह राष्ट्रीय टीम में चुनी जाती हैं और भारत का प्रतिनिधित्व करती हैं तो बेहद गौरवान्वित महसूस करती हैं. उन्होंने कहा, 'मुझे बेहद अफसोस है कि मैं इस तरह के एक महत्वपूर्ण चैंपियनशिप में भाग लेने में असमर्थ हूं.' सौम्या ने कहा कि एक खिलाड़ी खेल को अपनी जिंदगी में सबसे पहले रखता है और इसके लिए कई तरह के समझौते करता है लेकिन कुछ चीजें ऐसी होती हैं जिनके साथ समझौता नहीं किया जा सकता.

सौम्या स्वामीनाथन ने यह भी कहा कि आयोजकों की नजर में नेशनल टीम के लिए ड्रेस कोड लागू करना गलत है. खेलों में किसी तरह का धार्मिक ड्रेस कोड लागू नहीं किया जा सकता.बता दें कि खेल शख्सियतों के लिए सिर पर स्कार्फ पहनने को लेकर विश्व खेल जगत में अनेक विवाद हो चुके हैं. कुछ देशों ने इसके खिलाफ कहा तो ईरान जैसे कुछ देशों ने महिलाओं के लिए इसे अनिवार्य बना दिया.

ये भी पढ़ें- दोनों हाथों से विकलांग लेकिन उनकी स्पिन के आगे टिक नहीं पाए अफगानी बल्लेबाज

First published: 13 June 2018, 17:00 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी