Home » खेल » Interesting facts about indian mens cricket team new head coach anil kumble
 

टीम इंडिया के कोच अनिल कुंबले के अनूठे कारनामे

कैच ब्यूरो | Updated on: 24 June 2016, 15:51 IST
(पीटीआई)

भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड (बीसीसीआई) ने गुरुवार को भारतीय टीम के पूर्व कप्तान अनिल कुंबले को टीम इंडिया का मुख्य कोच नियुक्त किया है. सचिन तेंदुलकर, सौरभ गांगुली, वीवीएस लक्ष्मण की क्रिकेट सलाहकार समिति ने दस उम्मीदवारों के इंटरव्यू के बाद कुंबले के नाम पर मुहर लगाई है.

45 वर्षीय कुंबले फिलहाल आईसीसी क्रिकेट समिति के अध्यक्ष हैं, उन्हें पिछले महीने दूसरी बार इस पद के लिए चुना गया. दाएं हाथ के लेग स्पिनर कुंबले ने 18 साल के अपने अंतरराष्ट्रीय करियर में कई ऐसी उपलब्धियां हासिल की है, जो दूसरे गेंदबाजों के लिए एक मिसाल है.

आंकड़ों के हिसाब से वे भारत के सबसे सफल गेंदबाज हैं. टेस्ट और वनडे, दोनों में ही वे भारत के लिए सर्वाधिक विकेट लेने वाले गेंदबाज रहे हैं. पेशे से इंजीनियर रहे कुंबले ने अंतरराष्ट्रीय करियर की शुरुआत 1990 में इंग्लैंड के खिलाफ मैनचेस्टर टेस्ट में की.

एक नजर कुंबले के रिकॉर्ड्स पर:

टेस्ट में तीसरे सबसे ज्यादा विकेट लेने वाले खिलाड़ी

टेस्ट क्रिकेट में सबसे ज्यादा विकेट लेने के मामले में कुंबले तीसरे नंबर पर हैं. उन्होंने 132 टेस्ट में 619 विकेट लिए हैं. उनसे आगे सिर्फ श्रीलंकाई गेंदबाज मुथैया मुरलीधरन (800 विकेट) और ऑस्ट्रेलियाई दिग्गज (708 विकेट) हैं. कुंबले अलावा किसी भी भारतीय गेंदबाज ने अब तक 500 विकेट का आंकड़ा पार नहीं किया है.

एक पारी में दस विकेट लेने वाले दूसरे गेंदबाज

7 फरवरी 1999 को दिल्ली के फिरोजशाह कोटला मैदान में पाकिस्तान के खिलाफ दूसरी पारी में कुंबले ने 10 विकेट लेकर अनोखा रिकॉर्ड बनाया. ऐसा करने वाले वह पहले भारतीय गेंदबाज बने, जिन्होंने यह उपलब्धि हासिल की हो. कुंबले से पहले सिर्फ जिम लेकर ने ही एक पारी सभी 10 विकेट लेने का कारनामा किया था.

वनडे में भारत के सबसे सफल गेंदबाज

वनडे में सबसे ज्यादा विकेट चटकाने के मामले में कुंबले नौवें नंबर पर हैं. उन्होंने 271 वनडे मैच में 337 विकेट लिए है. हालांकि, उन्होंने भारत की ओर से ज्यादा सबसे ज्यादा विकेट लिए हैं. उनके बाद तेज गेंदबाज जवागल श्रीनाथ का नंबर आता है. वनडे में कुंबले का बेस्ट प्रदर्शन 12 रन देकर 6 विकेट लेने का है.

जबड़ा टूटने पर की गेंदबाजी

2002 में वेस्टइंडीज दौरे पर कुंबले का जुझारूपन देखने को मिला. एंटीगुआ टेस्ट के दौरान बल्लेबाजी के दौरान कुंबले का बाउंसर से जबड़ा टूट गया. इसके बावजूद टीम की जरूरत को देखते हुए कुंबले अगले दिन पूरे चेहरे पर पट्टी बांधकर मैदान पर उतरे. चोटिल कुंबले ने विपक्षी टीम के सबसे मजबूत खिलाड़ी ब्रायन लारा का विकेट भी हासिल किया.

35 बार पारी में पांच विकेट

कुंबले ने टेस्ट क्रिकेट में 35 बार एक पारी में पांच विकेट लिए हैं और आठ बार एक मैच में दस या उससे ज्यादा विकेट लेने का कारनामा किया है. उनसे आगे सिर्फ मुरलीधरन (67 बार) और शेन वार्न (33 बार) है. टेस्ट क्रिकेट में 149 देकर 14 विकेट कुंबले का सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन रहा.

500 विकेट और शतक बनाने वाले इकलौते क्रिकेटर

कुंबले टेस्ट क्रिकेट में एकमात्र ऐसे क्रिकेटर हैं, जिन्होंने 500 से अधिक विकेट लेने के साथ ही टेस्ट मैच में शतक बनाया है. 2007 में राहुल द्रविड़ की कप्तानी में टीम इंडिया इंग्लैंड के दौरे पर गई, तो ओवल टेस्ट के दौरान कुंबले ने 110 रन बनाए. साथ ही, पांच विकेट लेकर मैच ड्रॉ कराने में अहम भूमिका निभाई.

First published: 24 June 2016, 15:51 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी