Home » खेल » ISL: FC Goa fined Rs 11 crore, co-owners suspended
 

आईएसएल: एफसी गोवा पर 11 करोड़ का जुर्माना

कैच ब्यूरो | Updated on: 6 May 2016, 13:30 IST

इंडियन सुपर लीग की फुटबॉल टीम एफसी गोवा पर 11 करोड़ रुपए का जुर्माना लगाया गया है. इसके अलावा एफसी गोवा के सह मालिकों पर भी प्रतिबंध लगाया गया है.

श्रीनिवास डेम्पो और दत्ताराज सलगांवकर को टूर्नामेंट की छवि खराब करने के लिए दो और तीन सत्र के लिए प्रतिबंधित कर दिया गया है. इस अवधि के दौरान वो स्टेडियम में भी दाखिल नहीं हो पाएंगे.

टूर्नामेंट की छवि पर असर

न्यायमूर्ति डी ए मेहता (सेवानिवृत्त) की अध्यक्षता वाले पांच सदस्यीय आयोग ने सुनवाई में एफसी गोवा को आईएसएल के नियमों के उल्लंघन का दोषी पाया. 

आईएसएल के नियामक आयोग ने मुंबई में चेन्नईयन एफसी के ब्राजीली खिलाड़ी इलानो ब्लूमर और एफसी गोवा के अधिकारियों के बीच विवाद के मामले में ये फैसला सुनाया है.

पिछले साल दिसंबर में मडंगाव में हुए आईएसएल के दूसरे सत्र के फाइनल के बाद दोनों के बीच हाथापाई हो गई थी.

पढ़ें:प्रशंसकों के लिए अपने मेडल्स, ट्रॉफियों की नीलामी करेंगे पेले

आयोग ने एफसी गोवा पर 11 करोड़ रुपए का जुर्माना भी लगाया है. जुर्माने के साथ-साथ आयोग ने यह भी कहा कि एफसी गोवा की टीम के अगले सीजन में 15 अंक काटे जाएंगे.

इसी के साथ आयोग ने ये भी कहा कि टीम और टीम के मालिकों ने टूर्नामेंट की छवि को नुकसान पहुंचाया है.

न्यायमूर्ति डी ए मेहता (सेवानिवृत्त) की अध्यक्षता में आईएसएल के 5 सदस्यीय नियामक आयोग ने पिछले 3 दिन से चल रही बैठक के बाद ये फैसला किया. 

पढ़ें:2015: दुनिया भर के खेल मैदानों से कुछ दुर्लभ पल

क्या था पूरा मामला

20 दिसंबर को हुए विवाद के बाद आयोग ने सभी पार्टियों को नोटिस दिया था. इसमें एफसी गोवा से पूछा गया था कि आप पर मैच के बाद पुरस्कार समारोह का बायकॉट करने के लिए एक्शन क्यों ना लिया जाए.

चेन्नईयन एफसी ने पिछले साल 20 दिसंबर को हुए फाइनल में एफसी गोवा को 3-2 से हरा दिया था. फाइनल हारने के बाद दत्ताराज सालगांवकर ने आरोप लगाया था कि चेन्नईयन के इलानो ब्लमर ने उनके साथ हाथापाई की है.

पढ़ें:फीफा ने महासचिव जेरोम वाल्के को बर्खास्त किया

इतना ही नहीं दत्ताराज ने एफआईआर दर्ज कराई. इलानो को गिरफ्तार कर लिया गया और एक दिन बाद छोड़ा गया.

एफसी गोवा को 11 और 12 अप्रैल को अपना मामला आयोग के सामने रखने को कहा गया था, लेकिन वो आयोग के सामने हाजिर नहीं हुए.

First published: 6 May 2016, 13:30 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी