Home » खेल » Kapil Dev supported agression of Virat Kohli
 

कपिल देवः भारतीय क्रिकेट के लिए अच्छा है विराट कोहली का आक्रामक रवैया

कैच ब्यूरो | Updated on: 12 March 2017, 17:47 IST

यूं तो भारतीय क्रिकेट टीम के मौजूदा कप्तान विराट कोहली के आक्रामक रवैये को लेकर तमाम लोग कुछ न कुछ कहते रहते हैं. लेकिन पूर्व कप्तान कपिल देव की मानें तो उन्हें विराट के रवैये में कुछ भी गलत नहीं लगता.

हाल ही में ऑस्ट्रेलिया के कप्तान स्टीव स्मिथ के साथ हुए विवाद के बाद चर्चा का केंद्र बने विराट को लेकर कपिल देव ने कहा कि उन्हें किसी भी खिलाड़ी के आक्रामक रवैये में कुछ भी गलत नजर नहीं आता. यह वक्त की मांग है और भारतीय क्रिकेट के लिए भी अच्छा है.

कपिल शनिवार को ग्रेटर नोएडा स्थित जेपी ग्रींस गोल्फ कोर्स में आयोजित एडमिरल्स कप गोल्फ टूर्नामेंट के 15वें संस्करण में शामिल होने पहुंचे थे. इस दौरान उन्होंने कहा, "डीआरएस को लेकर जो चल रहा है, उससे क्या दुखी होना है. हमें समय के साथ बदलना होगा. हर कोई सचिन तेंदुलकर, राहुल द्रविड़ नहीं हो सकता. हर किसी का अपना स्वभाव है. अगर धोनी कप्तान के तौर पर शांत थे तो विराट आक्रामक हैं. सौरव आक्रामक थे तो धोनी शांत थे. ऐसे में अगर कोहली आक्रामक हैं तो उनकी तुलना या आलोचना मत कीजिए."

 

1983 वर्ल्ड कप विजेता टीम के कप्तान कपित का मानना है कि कप्तानों का आक्रामक होना जरूरी है लेकिन यह तभी अच्छा है जब तक वे अपनी सीमाओं में रहते हैं. अगर एक सिरीज में दोनों कप्तान आक्रामक हैं तो यह क्रिकेट के लिए अच्छा है. यह अच्छी प्रतिस्पर्धा को जन्म देगा. लेकिन यह तब तक ही अच्छा है जब तक दोनों अपनी सीमाओं को न लांघें. उन्हें क्रिकेट की गरिमा का ख्याल रखना चाहिए. इसके अलावा खेल में सब जायज है.

वहीं, डीआरएस के बारे में कपिल ने कहा, "अगर सारी दुनिया डीआरएस ले रही है तो ठीक है. इसमें कोई बुराई नहीं है. अगर क्रिकेट में बदलाव की जरूरत है तो हमें उसे स्वीकार करना चाहिए. हम उसे कैसे नकार सकते हैं. हां, हमें किसी को मौका नहीं देना चाहिए कि वह हमारे फैसलों पर सवाल खड़ा करे. हां, यह एक नई चीज है और वक्त के साथ हमारे खिलाड़ी और कप्तान इसे लेकर परिपक्व होंगे. हमें यह देखना होगा कि डीआरएस से कैसे विश्व क्रिकेट को फायदा हो रहा है. हमें सिर्फ भारतीय क्रिकेट के बारे में नहीं सोचना चाहिए क्योंकि क्रिकेट वैश्विक खेल है इसका वैश्विक विकास ही सबसे हित मे है."

First published: 12 March 2017, 17:47 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी