Home » खेल » Kidambi Srikanth: Thanks to Gopi sir, it was not possible to make it without him.
 

गुरु गोपीचंद को शिष्य श्रीकांत का सलाम- उनके बिना यहां पहुंचना असंभव

कैच ब्यूरो | Updated on: 27 June 2017, 13:22 IST
(श्रीकांत के कोच गोपीचंद )

एक हफ्ते के अंदर दो सुपर सीरीज़ खिताब जीतकर इतिहास रचने वाले बैडमिंटन प्लेयर किदांबी श्रीकांत ने अपनी जीत का श्रेय अपने कोच को दिया है. उन्होंने अपने कोच को सलाम करते हुए कहा, "शुक्रिया गोपी सर आपके बिना ये करना संभव नहीं था. आज मैं जो कुछ भी हूं आपकी वजह से हूं."

लगातार तीन फाइनल खेलने वाले श्रीकांत ने कहा कि उनके लिए हर मैच कठिन होता है और वो हर मैच से कुछ सीखते हैं. उन्होंने कहा कि लगातार कठिन मेहनत की वजह से वो यहां तक पहुंचे हैं.

श्रीकांत ने रविवार को ऑस्ट्रेलियन ओपन सुपर सीरीज़ के ख़िताबी मुक़ाबले में चीन के चेन लोंग को 22-20, 21-16 से सीधे सेटों में हराया. ऑस्ट्रेलियन ओपन सुपर सीरीज़ के फ़ाइनल में श्रीकांत ने वो करिश्मा कर दिखाया, जो वो पहले कभी नहीं कर पाए थे. चेन लोंग के साथ ये उनका छठा मुक़ाबला था और श्रीकांत पहली बार उनसे कोई मुक़ाबला जीत पाए.

इससे सात दिन पहले इंडोनेशियाई सुपर सीरीज़ का ख़िताब जीतने वाले के श्रीकांत का ये लगातार दूसरा सुपर सीरीज़ ख़िताब है. हालांकि श्रीकांत के करियर का ये चौथा सुपर सीरीज़ ख़िताब है. उन्होंने 2014 में चाइना ओपन और 2015 का इंडिया ओपन सुपर सीरीज़ का ख़िताब जीता था.

के श्रीकांत सुपर सीरीज़ मुक़ाबलों में साइना नेहवाल के बाद सबसे कामयाब भारतीय खिलाड़ी भी बन गए हैं. साइना ने अभी तक आठ सुपर सीरीज़ मुकाबले जीते हैं और इनमें से तीन इंडोनेशिया ओपन का ख़िताब है.

First published: 27 June 2017, 13:22 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी