Home » खेल » know about michael phelps records
 

ओलंपिक के बादशाह हैं माइकल फेल्प्स

कैच ब्यूरो | Updated on: 9 August 2016, 9:20 IST
(पीटीआई)

अमेरिका के महान तैराक माइकल फेल्प्स ने रिकॉर्ड 19वां स्वर्ण पदक अपने नाम किया है. रियो ओलंपिक के चार गुणा 100 मीटर फ्रीस्टाइल रिले में अमेरिकी टीम ने स्वर्ण पदक हासिल किया और इस टीम की अगुवाई फेल्प्स ने की. 31 वर्षीय फेल्प्स ओलंपिक के इतिहास में सबसे ज्यादा स्वर्ण पदक जीतने वाले खिलाड़ी हैं.

नाथन ऐड्रियन, सैलाब ड्रेसेल, रयान हेल्ड और फेल्प्स की अमेरिकी टीम ने तीन मिनट 09.92 सेकेंड का समय निकालकर फ्रांस के वर्चस्व को समाप्त किया. फ्रांस को इस बार रजत से ही संतोष करना पड़ा जबकि कांस्य पदक ऑस्ट्रेलिया के नाम रहा.

ओलंपिक में अब तक 23 पदक

19 स्वर्ण समेत रिकार्ड 23 ओलंपिक पदक जीत चुके फेल्प्स का यह पांचवां ओलंपिक है. माइकल फेल्‍प्‍स के जबर्दस्त प्रदर्शन की बदौलत अमेरिका ने 2012 में तैराकी में 16 स्वर्ण, नौ रजत और छह कांस्य जीते थे. इसमें फेल्प्स ने खुद चार स्वर्ण पदक और दो रजत पदक जीते.

फेल्प्स ने बीजिंग ओलंपिक 2008 में आठ स्वर्ण पदक और 2004 एथेंस ओलंपिक में छह स्वर्ण जीते थे. एथेंस में उन्हें दो कांस्य पदक भी मिला. महज 15 साल की उम्र में पहला ओलंपिक खेलने वाले फेल्प्स सिडनी ओलंपिक 2000 में कोई भी पदक जीतने में नाकाम रहे थे.

फेल्प्स के 'अतिरिक्त बांह'

बाल्टीमोर में पैदा हुए फेलप्स ने तैराकी की शुरुआत सात साल की उम्र में की. पंद्रह साल नौ महीने की उम्र में विश्व तैराकी रिकार्ड तोडने वाले वो सबसे युवा खिलाड़ी बने जब उन्होंने 200 मीटर बटरफ्लाई में नया रिकार्ड बना डाला.

2003 में हुई विश्व चैंपियनशिप में वो एक ही प्रतिस्पर्धा में पांच रिकार्ड तोड़ने वाले पहले खिलाड़ी बने. बीबीसी में छपी एक खबर के अनुसार फेलप्स की बांहो का फैलाव उनकी लंबाई यानी छह फुट चार इंच से तीन इंच ज्यादा हैं. एक आम इंसान की बांहो को फैलाव उनकी लंबाई जितना होता हैं लेकिन फेलप्स को इस अतिरिक्त फैलाव का फायदा मिलता हैं और वो अपने प्रतिद्वंद्वियों से ज्यादा ताकत लगा पाते हैं.

ओलंपिक इतिहास में अन्य खिलाड़ियों से मीलों आगे

फेल्प्स के बाद सोवियत जिमनास्ट लार्वसा लतिनीना हैं, जिन्होंने 1956, 1960 और 1964 के ओलंपिक में 16 मेडल जीते हैं. लतिनीना ने नौ स्वर्ण, पांच रजत और चार कांस्य पदक जीते हैं.

स्वर्ण पदकों के मामले में फेल्प्स के नजदीक कोई नहीं है. और उनका रिकॉर्ड तोड़ पाना असंभव सा प्रतीत होता है. फेल्प्स ने कई देशों से भी ज्यादा स्वर्ण पदक जीते हैं. भारत की बात करें तो उसने ओलंपिक में अब तक 9 स्वर्ण पदक मिलाकर कुल 26 पदक जीते हैं.

फेल्प्स भारत के पदकों की संख्या से केवल तीन कदम दूर हैं. फेल्प्स के प्रदर्शन को देखते हुए लगता है कि इस ओलंपिक में उनके पदकों की संख्या भारत से भी ज्यादा हो सकती है.

संन्यास लिया और फिर धमाकेदार वापसी

2012 में लंदन ओलंपिक के बाद फेल्प्स ने संन्यास लेने का ऐलान कर दिया था लेकिन 2014 में वो रिटायरमेंट से वापस आ गए. हालांकि उसी साल फेल्प्स विवादों में भी रहे. अक्टूबर, 2014 में शराब पीकर ड्राइविंग करने के लिए तो उन्हें जेल की हवा भी खानी पड़ी थी. इसके लिए उन्हें छह महीने का प्रतिबंध भी झेलना पड़ा था.

फेल्प्स का जादू सिर्फ ओलंपिक में नहीं चलता है बल्कि विश्व चैंपियनशिप में भी उनके रिकॉर्ड का सिक्का चलता है. उन्होंने विश्व चैंपियनशिप में 26 स्वर्ण, छह रजत और एक कांस्य सहित 33 पदक अपने नाम किए हैं. इसके अलावा फेप्ल्स ने पेन पेसीफिक में 16 स्वर्ण पदक जीते हैं.

First published: 9 August 2016, 9:20 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी