Home » खेल » Lodha Panel urges Supreme Court to act on BCCI's flouting recommendations
 

लोढ़ा कमेटी पर सुप्रीम कोर्ट: 'बीसीसीआई भगवान नहीं है, हमें आता है आदेश मनवाना'

कैच ब्यूरो | Updated on: 11 February 2017, 6:42 IST

लोढ़ा कमेटी ने सुप्रीम कोर्ट में बुधवार को अपनी रिपोर्ट सौंप दी. समिति ने अपनी रिपोर्ट में कहा है कि बीसीसीआई लोढ़ा कमेटी की सिफारिशों को लागू नहीं करना चाहता है.

इसके अलावा रिपोर्ट में कहा गया है कि भारतीय बोर्ड बदलावों को लागू करने के लिए भी तैयार नहीं है. लोढ़ा कमेटी ने सुप्रीम कोर्ट के आदेशों का पालन नहीं करने के लिए बीसीसीआई प्रमुख अनुराग ठाकुर को भी पद से हटाने की मांग की है. 

बीसीसीआई को कड़ी फटकार

सुप्रीम कोर्ट द्वारा गठित लोढा कमिटी ने अपनी रिपोर्ट में कहा है कि बीसीसीआई अपने कामकाम में सुधार के लिए न तो कमेटी की सिफारिशें मान रहा है, न ही शीर्ष अदालत के आदेश का सम्मान कर रहा है.

बीसीसीआई को फटकार लगाते हुए चीफ जस्टिस टीएस ठाकुर ने कहा कि बीसीसीआई खुद को कानून से ऊपर न समझे, और उसे सुप्रीम कोर्ट के आदेशों का पालन करना ही होगा.

टीएस ठाकुर ने कहा, “बीसीसीआई को लगता है कि वो खुद कानून है. हमें पता है कि आदेश पालन कैसे करवाया जाता है. बीसीसीआई को लगता है कि वो भगवान है. आप (बीसीसीआई) या तो बात मानें या हम मनवा लेंगे. बीसीसीआई का बर्ताव काफी खराब है."

6 अक्तूबर तक जवाब दे बोर्ड

कमेटी ने चीफ जस्टिस टीएस ठाकुर से गुहार की है कि इस मामले की जल्द सुनवाई की जाए. इस पर चीफ जस्टिस ने कहा है कि हम मामले की सुनवाई करेंगे. 

कोर्ट ने बीसीसीआई को जवाब दाखिल करने के लिए 6 अक्तूबर तक का वक्त दिया है, और उसी दिन इस मामले में आगे की सुनवाई होगी.

सुप्रीम कोर्ट ने 2013 आईपीएल स्पॉट फिक्सिंग और सट्टेबाजी मामले के बाद बीसीसीआई में बड़े बदलावों के लिए पूर्व प्रधान न्यायाधीश आरएम लोढा के नेतृत्व में लोढ़ा समिति का गठन किया था.

First published: 28 September 2016, 1:28 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी