Home » खेल » Raonic halts Roger Federer to proceed to Wimbledon finals
 

विंबलडन: फेडरर को हराकर राओनिक ने किया बड़ा उलटफेर, फाइनल में मरे से भिड़ंत

कैच ब्यूरो | Updated on: 9 July 2016, 16:24 IST
(विबंलडन)

रोजर फेडरर का रिकॉर्ड 18वां ग्रैंड स्लैम खिताब जीतने का सपना शुक्रवार को एक बार फिर चकनाचूर हो गया. मिलोस राओनिक विंबलडन सेमीफाइनल में सात बार के चैम्पियन रोजर फेडरर को पांच सेट में हराकर ग्रैंडस्लैम पुरुष एकल फाइनल में जगह बनाने वाले कनाडा के पहले खिलाड़ी बने.

छठे वरीय राओनिक ने मैराथन मुकाबले में तीसरे वरीयता प्राप्त फेडरर को 6-3, 6-7, 4-6, 7-5, 6-3 से हराया. 25 साल के राओनिक की यह 12 मैचों में फेडरर पर तीसरी जीत है.

फाइनल में होगी एंडी मरे से टक्कर

पहली बार किसी ग्रैंड स्लैम के खिताबी मुकाबले में पहुंचे छठी वरीयता राओनिक की रविवार को भिड़ंत 2013 के चैम्पियन और दूसरे वरीयता वाले ब्रिटेन के एंडी मरे से होगी. एंडी मरे ने दूसरे सेमीफ़ाइनल में चेक गणराज्य के टॉमस बर्डिच को 6-3, 6-3, 6-3 से सीधे सेटों में हराया.

इस हार के साथ फेडरर का रिकॉर्ड आठवां विंबलडन और कुल 18वां ग्रैंडस्लैम खिताब जीतने की उम्मीद भी टूट गई. राओनिक ने इसके साथ ही 2014 विंबलडन सेमीफाइनल में फेडरर के हाथों मिली हार का बदला भी चुकता कर दिया.

34 वर्षीय फेडरर पिछले चार वर्ष से कोई मेजर खिताब नहीं जीत पाए हैं. फेडरर ने सातवां विम्बलडन खिताब चार साल पहले जीता था.

मैच के बाद राओनिक को बधाई देते रोजर फेडरर (विबंलडन)

'विंबलडन अहम लेकिन सब कुछ नहीं'

इस मुकाबले में फेडरर की शुरुआत अच्छी नहीं रही और वह पहला सेट आसानी से गंवा बैठे, लेकिन इसके बाद स्विट्जरलैंड का यह खिलाड़ी हावी रहा. चौथे सेट में हालांकि वे मजबूत स्थिति में नजर आए, लेकिन फेडरर ने बड़ी गलती की और फिर इससे उबर नहीं पाए.

राओनिक ने इस मैच के दौरान 23 एस और 75 विनर शॉट लगाए, जबकि फेडरर नौ ब्रेक प्वाइंट में से सिर्फ एक का ही फायदा उठा पाए, जिसका खामियाजा उन्हें मैच गंवाकर उठाना पड़ा.

फेडरर ने हार के बाद कहा, "मैं यहां वापसी करूंगा. मैं आप लोगों को धन्यवाद देने के लिए सेंटर कोर्ट को देख रहा था. मैने यह कतई नहीं सोचा कि यह मेरा आखिरी विम्बलडन है."

उन्होंने कहा, "यहां आठवां खिताब जीतना मेरा सपना है, लेकिन मैं सिर्फ इसी के लिये टेनिस नहीं खेल रहा . ऐसा होता तो मैं फ्रीज बॉक्स में चला जाता और अगले साल विम्बलडन के समय ही बाहर निकलता. विंबलडन अहम है लेकिन सब कुछ नहीं है."

राओनिक ने मैच के बाद कहा, "मुझे मौका मिला और मैंने इसका पूरा फायदा उठाया. कनाडा के लिए इसका बड़ा असर होगा. उम्मीद करता हूं कि अगर मैं रविवार को जीता, तो असर और बड़ा होगा."

First published: 9 July 2016, 16:24 IST
 
अगली कहानी