Home » खेल » Rio olympics 2016: I'm really sorry to have let you down, said Vikas Krishan after quaterfinal loss
 

रियो ओलंपिक: विकास कृष्ण भी हारे, बॉक्सिंग में भारत की चुनौती समाप्त

कैच ब्यूरो | Updated on: 16 August 2016, 14:01 IST

एशियाई खेलों के स्वर्ण पदक विजेता भारतीय बॉक्सर विकास कृष्ण 75 किलोग्राम भार वर्ग के क्वार्टर फाइनल में दूसरे वरीयता बेक्तेमिर मेलिकुजिएव से हारकर रियो ओलंपिक से बाहर हो गये. उनकी हार के साथ ही ओलंपिक खेलों में मुक्केबाजी में आठ वर्षों में पहली बार भारत का अभियान पदक के बिना समाप्त हो गया.

शिवा थापा 56 किलोग्राम और मनोज कुमार 64 किलोग्राम भार वर्ग में पहले ही हारकर बाहर हो चुके हैं. विकास की हार के साथ ही इस ओलंपिक में भारतीय मुक्केबाजों की चुनौती समाप्त हो गई.

मुकाबले के बाद मांगी माफी

क्वार्टर फाइनल में हार के साथ ओलंपिक पदक जीतने का अपना सपना टूटने से हताश भारतीय मुक्केबाज विकास कृष्णन ने कहा कि वह इससे बेहतर प्रदर्शन नहीं कर सकते थे, जो उन्होंने उजबेकिस्तान के बेक्तेमिर मेलिकुजिएव के खिलाफ किया. भारत के लिये ओलंपिक पदक से एक जीत दूर विकास को उजबेकिस्तान के बेक्तेमिर मेलिकुजिएव ने 3-0 से हराया.

मुकाबले के बाद विकास ने कहा, "मैं माफी चाहता हूं कि मैंने आप सभी को निराश किया. मैंने पहले दौर में बढत बनाने की कोशिश की, लेकिन पहला दौर गंवाने के बाद वापसी मुश्किल थी और मैने उम्मीद छोड़ दी." 

1992 के बाद खाली हाथ लौटने का खतरा

70वें स्वतंत्रता दिवस के दिन एक जीत विकास का पदक सुनिश्चित कर देती. अब भारत पर बार्सिलोना में 1992 ओलंपिक के बाद पहली बार बिना पदक के ओलंपिक से लौटने का खतरा मंडरा रहा है.

विकास ने कहा, "मैं हमेशा से भारत के लिये पदक जीतना चाहता था, लेकिन मैं नाकाम रहा. मुझे माफ कर दीजिये, मैं इससे बेहतर नहीं कर सकता था. मैं बायें और दाहिने ओर पंच लगाने की कोशिश कर रहा था लेकिन कामयाबी नहीं मिली."

First published: 16 August 2016, 14:01 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी