Home » खेल » Rio Olympics 2016: Indian hockey team return to olympics after 36 years with medal hopes
 

रियो से उम्मीदें: 36 साल का सूखा खत्म करने उतरेगी हॉकी टीम, शूटिंग से भी बड़ी उम्मीदें

कैच ब्यूरो | Updated on: 6 August 2016, 8:01 IST
(कैच न्यूज)

रियो ओलंपिक से पहले दमदार प्रदर्शन से उत्साहित भारतीय पुरूष हाकी टीम 5 अगस्त से शुरू हो रहे ओलंपिक में 36 साल पुराना पदक का इंतजार खत्म करने के इरादे से उतरेगी.

आठ बार की ओलंपिक चैम्पियन भारतीय टीम ने आखिरी बार ओलंपिक स्वर्ण 1980 में मास्को में जीता था. इसके बाद से टीम पदक के करीब भी नहीं पहुंची और बीजिंग ओलंपिक 2008 में तो जगह भी नहीं बना सकी.

चार साल पहले भारत ने क्वालीफाई किया लेकिन आखिरी स्थान पर रहा. इस बार चैम्पियंस ट्राफी में ऐतिहासिक रजत पदक जीतने वाली पीआर श्रीजेश की अगुवाई वाली भारतीय टीम पिछले खराब प्रदर्शन का कलंक मिटाने के इरादे से आई है. भारत का सामना कल पहले मैच में आयरलैंड से होगा.

महिला टीम ने 36 साल बाद खेलों के इस महासमर के लिये क्वालीफाई किया है. मास्को में 1980 में आखिरी बार भारतीय महिला हाकी टीम ओलंपिक में नजर आई थी. भारत का पहले मैच में जापान से सामना होगा जिसे उसने विश्व हाकी लीग में हराकर ओलंपिक के लिये क्वालीफाई किया.

जीतू पर है सबकी नजर

हॉकी के अलावा सितारों से सजा भारतीय निशानेबाजी दल भी 5 अगस्त से ही अपने अभियान का आगाज करेगा. सभी की नजरें फार्म में चल रहे जीतू राय पर होंगी, जबकि बीजिंग ओलंपिक स्वर्ण पदक विजेता अभिनव बिंद्रा भी अपने सुनहरे कैरियर को शानदार तरीके से अलविदा कहना चाहेंगे.

लंदन ओलंपिक के छह पदक से बेहतर प्रदर्शन की भारत की उम्मीदों का दारोमदार निशानेबाजों पर ही है. जीतू और बिंद्रा के अलावा गगन नारंग, मानवजीत सिंह संधू, हीना सिद्धू और अपूर्वी चंदेला भी पदक के दावेदार हैं.

बिंद्रा के बाद भारत को दूसरा स्वर्ण पदक दिलाने के प्रबल दावेदार जीतू कल 10 मीटर एयर पिस्टल में उतरेंगे. वह 50 मीटर पिस्टल में विश्व चैम्पियन हैं और दोनों स्पर्धाओं में चुनौती पेश करेंगे.

First published: 6 August 2016, 8:01 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी