Home » खेल » Rio Olympics 2016: Michael Phelps beats Ryan Lochte to win 22nd gold in 200m individual medley
 

रियो ओलंपिक 2016: माइकल फेल्प्स और भारत के कुल पदकों की संख्या हुई बराबर

कैच ब्यूरो | Updated on: 10 February 2017, 1:47 IST
(मिरर डॉट कॉम)

रियो ओलंपिक खेलों में अपना जलवा बरकरार रखते हुए अमेरिका के तैराक माइकल फेल्प्स ने शुक्रवार को 200 मीटर की व्यक्तिगत स्पर्धा में स्वर्ण पदक जीतकर 22वां गोल्ड मेडल अपने नाम कर लिया. इस मेडल के जीतने के साथ ही एक ही व्यक्तिगत स्पर्धा में लगातार चार ओलंपिक में खिताब जीतने वाले फेल्प्स तीसरे खिलाड़ी बन गए हैं.

इसके अलावा फेल्प्स 200 मीटर की व्यक्तिगत स्पर्धा में रेयान लोशेट को हराकर एक इवेंट में लगातार चौथा ओलंपिक गोल्ड मेडल जीतने वाले पहले तैराक बन गए हैं. फेल्प्स ने 1 मिनट 54.66 सेकंड में स्पर्धा पूरी की. जापान के कोसुके हैगिनो ने सिल्वर और चाइना के शुन वांग ने ब्रॉन्ज मेडल जीता.

अपना पांचवां और आखिरी ओलंपिक खेल रहे फेल्प्स से पहले चक्काफेंक में अल ओर्टर (1956 से 1968 ) और लंबी कूद में कार्ल लुईस (1984 से 1996 ) लगातार चार खिताब जीत चुके हैं. 

रियो ओलंपिक में फेल्प्स का ये चौथा स्वर्ण पदक है. फेल्प्स ने यहां दो व्यक्तिगत पदकों के साथ ही दो रिले गोल्ड मेडल भी प्राप्त किए. 

माइकल फेलेप्स ओलंपिक इतिहास के सबसे सफल खिलाड़ी हैं, वे अब तक कुल 26 पदक जीत चुके हैं. फेल्प्स ने एथेंस ओलंपिक में 6, बीजिंग में 8 और लंदन में 4 गोल्ड जीते थे. इसके अलावा फेल्प्स ओलंपिक में दो रजत और दो कांस्य पदक भी जीत चुके हैं. उन्होंने व्यक्तिगत स्पर्धाओं में 12 एवं टीम स्पर्धा में 14 मेडल जीते हैं.

आंकड़ों की बात करे तो अकेले फेल्प्स ने ओलंपिक में पदक जीतने के मामले में भारत की बराबरी कर ली है. भारत ओलंपिक में अब तक 9 स्वर्ण पदक मिलाकर कुल 26 पदक जीते हैं.  फेल्प्स के प्रदर्शन को देखते हुए लगता है कि इस ओलंपिक में उनके पदकों की संख्या भारत से भी ज्यादा हो सकती है.

इससे पहले फेल्प्स ने 200 मीटर बटरफ्लाई प्रतियोगिता में तय दूरी को 1 मिनट 53.36 सेकेंड में पूरा कर अपना 21वां गोल्ड मेडल जीता था. माइकल फेल्प्स रियो ओलंपिक में 100 मीटर बटरफ्लाई में शनिवार को हिस्सा लेंगे. इसमें भी उनके गोल्ड मेडल जीतने की पूरी संभावना है.

जीत के बाद  फेल्प्स ने कहा ,‘‘ यह अद्भुत है लेकिन हर दिन मेरे लिये सपना सच होने जैसा है. बचपन से मैं ऐसा कुछ करना चाहता था जो किसी ने नहीं किया हो और मुझे इसमें मजा आ रहा है .’’ 

First published: 12 August 2016, 4:01 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी