Home » खेल » Rio Olympics: Indian Hockey team entered knock out round after 36 years
 

चक दे इंडिया: भारत 36 साल बाद ओलंपिक हॉकी के नॉकआउट में

कैच ब्यूरो | Updated on: 10 August 2016, 10:59 IST
(हॉकी इंडिया)
QUICK PILL
  • 1980 के मॉस्को ओलंपिक में भारतीय टीम आखिरी बार प्लेऑफ में खेली थी, तब भारत ने गोल्ड मेडल भी जीता था.
  • भारत ने 7 साल बाद अर्जेंटीना को हराया. इससे पहले 2009 में भारत ने उसे शिकस्त दी थी.

भारतीय हॉकी टीम ने 36 साल बाद ओलंपिक के नॉकआउट दौर में प्रवेश किया है. ग्रुप मैच में भारत ने अर्जेंटीना को 2-1 से शिकस्त देकर यह उपलब्धि हासिल की.

भारत ने 35वें मिनट तक 2-0 की बढ़त बना ली थी, लेकिन अर्जेंटीना ने 49वें मिनट में पहला गोल करने के बाद भारतीय रक्षा पंक्ति पर हमलों की झड़ी लगा दी. 

49वें मिनट तक 2-0 की बढ़त

ऐसा लग रहा था कि अंतिम समय में कहीं अर्जेंटीना, जर्मनी वाले मैच की कहानी न दोहरा दे, लेकिन कप्तान और गोलकीपर श्रीजेश के साथ ही डिफेंडरों ने जबरदस्त प्रदर्शन किया.

भारत ने चिंगलेनसाना सिंह के 8वें मिनट में पेनल्टी कॉर्नर पर पहला गोल किया. कोठाजीत सिंह ने 35वें मिनट में मैदानी गोल दागकर भारत को 2-0 से आगे कर दिया. यह टूर्नामेंट में भारत का पहला मैदानी गोल है.

हॉकी इंडिया

आखिरी 12 मिनटों में हमलों की झड़ी

2-0 की बढ़त के बाद ऐसा लग रहा था कि विश्व रैंकिंग में पांचवें नंबर की भारतीय टीम सातवीं रैंकिंग के अर्जेंटीना के खिलाफ यह मुकाबला आसानी से जीत जाएगी. लेकिन आखिरी 12 मिनटों में अर्जेंटीना ने भारतीय खिलाड़ियों और कोच रोलैंट ओल्टमैंस के माथे पर पसीना ला दिया. 

अर्जेंटीना को 49वें मिनट में मैच का पहला पेनल्टी कॉर्नर मिला और गोंजालो पिलेट ने श्रीजेश को छकाने में कोई गलती नहीं की. 

डिफेंडरों-गोलकीपर का शानदार प्रदर्शन

इसके बाद 52वें मिनट में अर्जेंटीना को अगला पेनल्टी कॉर्नर मिला जो बेकार गया, लेकिन अंपायर ने फाउल का हवाला देते हुये अर्जेंटीना को पेनल्टी कॉर्नर दे दिया.

भारत ने रेफरल मांगा और यह पेनल्टी कॉर्नर खारिज किया गया, लेकिन अगले ही मिनट में अर्जेंटीना को रेफरल पर एक और पेनल्टी कॉर्नर मिल गया. इससे पहले भारत ने अपने मैच में आयरलैंड को 3-2 से हरा दिया था, जबकि ओलंपिक चैंपियन जर्मनी से उसे कड़े मुकाबले के दौरान 2-1 से मात मिली थी.

भारत को अभी नीदरलैंड्स और कनाडा के खिलाफ ग्रुप मैच खेलने हैं.

हॉकी इंडिया
First published: 10 August 2016, 10:59 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी