Home » खेल » Sachin Tendulkar helping 560 poor tribal children in education and catering
 

सचिन तेंदुलकर बने 560 गरीब आदिवासी बच्चों के लिए मसीहा, उठा रहे शिक्षा और खानपान की जिम्मेदारी

कैच ब्यूरो | Updated on: 14 September 2020, 11:11 IST

Sachin Tendulkar: देश के पूर्व दिग्गज क्रिकेटर सचिन तेंदुलकर 560 गरीब आदिवासी बच्चों के लिए मसीहा बनकर सामने आए हैं. क्रिकेट से संन्यास के 7 बाद भी तेंदुलकर मैदान के बाहर अपनी छवि बनाए रखने में कायम रहे हैं. सचिन अकसर जरूरमंदों के लिए सबसे आगे खड़े रहते हैं. उन्होंने अब आर्थिक रूप से कमजोर 560 आदिवासी बच्चों के शिक्षा और भरण पोषण का जिम्मा लिया है. 

एक गैर सरकारी संगठन के साथ मिलकर सचिन इन आर्थिक रूप से कमजोर 560 आदिवासी बच्चों की सहायता कर रहे हैं. सचिन जो नेक कार्य कर रहे हैं, उसकी उन्होंने किसी को खबर तक नहीं होने दी थी. वह परिवार नामक एनजीओ के जरिए इन बच्चों की सहायता कर रहे हैं. इस एनजीओ ने ही सचिन तेंदुलकर के इस नेक काम के बारे में जानकारी दी है.

एनजीओ ने बताया कि सचिन मध्य प्रदेश के आदिवासी बच्चों के लिए मसीहा बने हैं. वह कुपोषण जैसी गंभीर समस्या और अशिक्षा से जूझ रहे बच्चों का जीवन सुधारने पर काम करे रहे हैं. सचिन ने संकल्प लिया है कि मध्य प्रदेश के सीहोर जिले के आसपास और दूर के गांवों में रहने वाले ये बच्चे अपना जीवन अच्छे से जी सकें.

सचिन के इस कदम की वजह से मध्य प्रदेश के सीहोर जिले के बीलपति, खापा, सेवानिया, जामुनझील तथा नयापुरा गांव के बच्चों को शिक्षा तथा पौष्टिक भोजन की व्यवस्था कराई जा रही है. ये बच्चे बरेला भील और गोंड जनजातियों से आते हैं. ये आदिवासी समुदाय की जनजातियां हैं.

बता दें कि सचिन तेंदुलकर को यूनिसेफ ने सद्धभावना दूत के रूप में चुना है. वह बच्चों के प्रारंभिक विकास जैसे जरूरी विषयों पर हमेशा अपनी बात रखते हैं. आदिवासी बच्चों का जीवन स्तर सुधारने के जरिए उन्होंने एक बार फिर साबित किया है कि आखिर क्यों उन्हें क्रिकेट में भगवान का दर्जा दिया जाता है.
 
 
First published: 14 September 2020, 10:59 IST
 
पिछली कहानी