Home » खेल » #Setback to Boxer Mary Kom, Shiv Thapa gets Olympic Ticket
 

बॉक्सर मैरी कॉम की ओलंपिक की राह मुश्किल

कैच ब्यूरो | Updated on: 31 March 2016, 17:42 IST
QUICK PILL

पांच बार की वर्ल्ड चैंपियन भारतीय बॉक्सर एमसी मैरी कॉम के लिए ब्राजील में इस साल होने वाले ओलंपिक की राह मुश्किल हो गई है. एशियन ओलंपिक क्वालीफाइंग के 51 किलोग्राम वर्ग के सेमीफाइनल मुकाबले में मैरी कॉम हार गई हैं.

अगर मैरी कॉम फाइनल में पहुंच जातीं तो उनका रियो ओलंपिक का टिकट पक्का हो जाता. लंदन ओलंपिक की ब्रॉन्ज मेडल विजेता मैरी कॉम को तीन बार की वर्ल्ड चैंपियन चीन की रेन कैनकैन ने मात दी.

पढ़ें: मैरी कॉम से मिली पाकिस्तानी महिला मुक्केबाजों को प्रेरणा

मई में मैरी कॉम के पास आखिरी मौका

हार की वजह से मैरी कॉम को केवल ब्रॉन्ज मेडल से संतोष करना पड़ेगा. प्रतियोगिता में गोल्ड और सिल्वर हासिल करने वाले को ही ओलंपिक में एंट्री मिलनी थी. इससे पहले भी कैनकैन 2010 एशियन गेम्स में मैरी कॉम को हरा चुकी हैं.

हालांकि मैरी कॉम के पास रियो ओलंपिक का टिकट हासिल करने का अभी एक और मौका है. मई में होने वाली वर्ल्ड चैंपियनशिप में बेहतर प्रदर्शन करके वो ओलंपिक के लिए जगह बना सकती हैं.

अभी उनकी कैटेगरी में चार और मुक्केबाजों को ओलंपिक में एंट्री मिलनी है. ऐसे में प्रशंसकों को उम्मीद है कि वो रियो का टिकट हासिल कर सकती हैं.

शिव थापा को ओलंपिक का टिकट

हालांकि भारत के लिए एक खुशखबरी भी है. 56 किलोग्राम पुरुष कैटेगरी में बॉक्सर शिव थापा ने रियो ओलंपिक का टिकट पक्का कर लिया है. फाइनल में पहुंचने के साथ ही थापा रियो ओलंपिक का टिकट पाने वाले पहले बॉक्सर बन गए हैं.

शिव ने सेमीफाइनल में कजाकिस्तान के बॉक्सर कैरात येरालियेव को मात दी. येरालियेव 2013 की वर्ल्ड चैंपियनशिप के ब्रॉन्ज मेडलिस्ट हैं. इसके साथ ही 22 साल के युवा बॉक्सर ने लगातार दूसरी बार ओलंपिक के लिए क्वालीफाई किया है.

अपनी कामयाबी पर थापा ने कहा है कि ये उनके लिए बहुत अहम मुकाबला था. मुकाबले के बाद शिव थापा ने कहा कि इस मैच के लिए उन्होंने काफी मेहनत की थी

हालांकि एक और बॉक्सर एल देवेंद्रो सिंह 49 किलोग्राम वर्ग के सेमीफाइनल में हार गए. उन्हें मंगोलिया के शीर्ष वरीयता प्राप्त बॉक्सर रोजेन लैडन ने मात दी.

First published: 31 March 2016, 17:42 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी