Home » खेल » Shah Rukh Khan is the Don of IPL business
 

आईपीएल: 'रईस' की टीम मुनाफा कमाने में सबसे आगे

कैच ब्यूरो | Updated on: 9 May 2016, 17:09 IST

दो बार इंडियन प्रीमियर लीग (आईपीएल) का खिताब जीतने वाली कोलकाता नाइटराइडर्स (केकेआर) की टीम मुनाफा कमाने के मामले में अन्य टीमों से आगे है.

2014-15 में अभिनेता शाहरुख खान की टीम केकेआर का राजस्व और मुनाफा अन्य टीमों से ज्यादा रहा है. आईपीएल के सातवें संस्करण (2014) में केकेआर के राजस्व में 30 फीसदी और मुनाफे में 54 फीसदी की बढ़ोत्तरी दर्ज की गई थी.

2014 में लोकसभा चुनाव के चलते आईपीएल के आधे मैच देश के बाहर संयुक्त अरब अमीरात में हुए थे. कोलकाता नाइटराइडर्स ने किंग्स इलेवन पंजाब को तीन विकेट से हराकर दूसरी बार खिताब पर कब्जा जमाया था. इससे पहले कोलकाता 2012 में भी आईपीएल खिताब अपने नाम कर चुकी है.

कोलकाता को चलाने वाली नाइट राइडर्स प्राइवेट लिमिटेड का 2014-15 में राजस्व 168.71 करोड़ रुपये रहा. इससे पिछले वर्ष में टीम का राजस्व 128.81 करोड़ रुपये का था. 2014-15 में इसका मुनाफा 14.15 करोड़ रुपये का था, जो इससे पिछले वर्ष में 9.18 करोड़ रुपये दर्ज किया गया था.

पहले तीन आईपीएल में केकेआर को हुआ नुकसान

आईपीएल के पहले और दूसरे संस्करण में कोई भी टीम मुनाफे कमाने में असफल रही. आईपीएल के पहले सत्र में केकेआर के नुकसान के आंकड़ा उपलब्ध नहीं है. दूसरे सत्र में केकेआर को 5.85 करोड़ रुपये का नुकसान हुआ था जबकि तीसरे सत्र में उसे 11.28 करोड़ रुपये का नुकसान उठाना पड़ा था.

पहली बार टीम 2012 में चैंपियन बनी और 2012-13 में उसे 10.4 करोड़ रुपये का मुनाफा है. इसके बाद 2013-14 में भी टीम ने 6.3करोड़ रुपये की कमाई की.

2014-15 में मुनाफे कमाने में पंजाब दूसरे नंबर पर

मुनाफे के मामले मे दूसरे स्थान पर किंग्स इलेवन पंजाब की टीम रही थी. टीम का मुनाफा 12.76 करोड़ रुपये रहा था. हालांकि, इससे पिछले वर्ष में टीम को 4.35 करोड़ रुपये का घाटा हुआ था. 2014-15 में किंग्स इलेवन पंजाब का राजस्व 26 फीसदी बढ़कर 130.05 करोड़ रुपये रहा, जो इससे पिछले वर्ष में 103.21 करोड़ रुपये का था.

मुंबई इंडियंस और आरसीबी की नहीं हो रही है कमाई

एक आंकड़ें के अनुसार अरबपति कारोबारी मुकेश अंबानी की टीम मुंबई इंडियंस और रॉयल चैलेंजर्स बेंगलुरू की टीम पहले सात आईपीएल में मुनाफा नहीं कमा पाई है.

कंपनी मामलों के मंत्रालय में दाखिल किए गए आंकड़ों के मुताबिक वर्ष 2008-09 में मुंबई, चेन्नई और हैदराबाद ने न तो घाटा और न ही मुनाफा दिखाया जबकि पांच अन्य टीमों कोलकाता, राजस्थान, पंजाब, बेंगलुरु और दिल्ली ने घाटा दिखाया, लेकिन 2009-10 में सभी टीमों ने पांच करोड़ से लेकर 87 रुपये तक का घाटा दिखाया था.

कैसे होती है टीमों की कमाई

आईपीएल की कमाई का पूरा हिस्सा एक पूल में जाता है.  इसमें से 40 फीसदी आईपीएल को, 54 फीसदी टीम मालिकों को और छह फीसदी प्राइज मनी पर खर्च होता है.

टीमों को ब्रॉडकास्टिंग राइट्स और स्पॉन्सरशिप से मिलने वाली धनराशि से हिस्सा मिलता है. इससे अलावा स्टेडियम की टिकट ब्रिकी से टीमों को 40 फीसदी हिस्सा मिलता है. इसके अलावा विज्ञापनों से टीमों की कमाई होती है.

आईपीएल से होती है बीसीसीआई को सबसे ज्यादा कमाई

मार्च महीने में बीसीसीआई ने सुप्रीम कोर्ट में अपने पांच साल का खर्च और कमाई का ब्यौरा दाखिल किया था. इसके अनुसार बीसीसीआई की सबसे ज्यादा कमाई आईपीएल से होती है.

पिछले महीने खबर आई थी कि श्रीलंका, दक्षिण अफ्रीका और न्यूजीलैंड के क्रिकेट बोर्डों ने अपने खिलाड़ियों को रिलीज करने पर 10 लाख डॉलर से अधिक की कमाई की है.

श्रीलंका को एक करोड़ 60 लाख रुपये, दक्षिण अफ्रीका को चार करोड़ 20 लाख रुपये और न्यूजीलैंड क्रिकेट को एक करोड़ 10 लाख रुपये का भुगतान किया गया है.

आपको बता दें कि आईपीएल के छठे संस्करण (2013) में बीसीसीआई को 385 करोड़ 36 लाख रुपये का मुनाफा हुआ जबकि 2012 में यह मुनाफा 174 करोड़ 73 लाख रुपये था.

बीसीसीआई ने भी 2008-09 में कोई मुनाफा नहीं दिखाया था, लेकिन 2009-10 में उसने 14.86 करोड़ रुपये का मुनाफा दिखाया था.

First published: 9 May 2016, 17:09 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी