Home » खेल » Vijender wants to play at Rio Olympics
 

रियो ओलंपिक में हिस्सा लेना चाहते हैं पेशेवर मुक्केबाज विजेंदर

कैच ब्यूरो | Updated on: 7 June 2016, 15:08 IST

बीजिंग ओलंपिक (2008) में कांस्य पदक जीतने वाले भारतीय पेशेवर मुक्केबाज विजेंदर सिंह रियो ओलंपिक में हिस्सा लेना चाहते हैं.

मंगलवार को स्विट्जरलैंड के लुसाने में हुई अंतरराष्ट्रीय मुक्केबाजी संघ (एआईबीए) की बैठक में फैसला लिया गया था कि पेशेवर मुक्केबाज आगामी रियो ओलंपिक में भाग ले सकते हैं.

विजेंदर पिछले साल से पेशेवर मुक्केबाजी में हिस्सा ले रहे हैं. उन्होंने अब तक छह मुकाबले खेले हैं और सभी में जीत हासिल की है.

ओलंपिक दावेदारी विवाद: सुशील कुमार की याचिका खारिज

तीन ओलंपिक में हिस्सा ले चुके विजेंदर का अगला मुकाबला दिल्ली में 16 जुलाई को एशिया पेसेफिक सुपर मिडिलवेट चैंपियनशिप खिताब के लिए ऑस्ट्रेलिया के कैरी होप से होने वाला है. अगर होप के खिलाफ विजेंदर खिताब जीत जाते हैं, तो यह उनका पहला पेशेवर खिताब होगा.

पिछले साल ओलंपिक में भाग लेने से इनकार करने वाले विजेंदर ने कहा है कि पेशेवर मुक्केबाजों को भी रियो ओलंपिक में भाग लेने का अवसर मिल रहा है, तो फिर मैं क्यों पीछे रहूं.

फ्रेंच ओपन: सेरेना का सपना टूटा, 22 वर्षीय मुगुरुजा बनीं विजेता

हालांकि, कहा जा रहा है कि विजेंदर के प्रमोटर उनके ओलंपिक में खेलने का विरोध कर सकते हैं. विजेंदर को 16 जुलाई को होप के खिलाफ रिंग में उतरना है जबकि ओलंपिक क्वालिफिकेशन टूर्नामेंट तीन से आठ जुलाई तक  वेनेजुएला में होने वाला है.

यह क्वालीफाइंग प्रतियोगिता उन मुक्केबाजों के लिए होगी जो अंतरराष्ट्रीय मुक्केबाजी संघ (एआईबीए) की विश्व मुक्केबाजी सीरीज और एआईबीए प्रो मुक्केबाजी लीग में हिस्सा ले रहे हैं. ये दोनों सेमी प्रोफेशनल लीग हैं.

विजेंदर ने कहा है कि उनके प्रमोटर उनके ओलंपिक में खेलने की बात का विरोध नहीं करेंगे. कहा जा रहा है कि एआईबीए के पेशेवर मुक्केबाजों के लिए फैसले के बावजूद ज्यादातर पेशेवर मुक्केबाजों के लिए क्वालीफाइंग टूर्नामेंट में हिस्सा लेने में काफी देर हो गई है.

जब मोहम्मद और मुक्के के संगम से दुनिया की आंखें चुंधिया गई

भारत की ओर से मुक्केबाजी में केवल शिव थापा ने ही रियो का टिकट कटाया है. विश्व चैम्पियनशिप के कांस्य पदक विजेता थापा ने 56 किलोग्राम वर्ग में मार्च में एशियाई ओलंपिक क्वालीफायर के जरिये रियो में भाग लेना सुनिश्चित किया है.

हालांकि, अब भी एल देवेंद्रो सिंह और विकास कृष्णा के लिए ओलंपिक में खेलने का मौका है. राष्ट्रमंडल खेलों के रजत पदक विजेता देवेंद्रो (49 किग्रा) और एशियाई खेलों के कांस्य पदक विजेता विकास कृष्ण (75 किग्रा) अजरबेजान के बाकू में 16 जून से शुरू हो रहे एआईबीए विश्व ओलंपिक क्वालीफाइंग टूर्नामेंट में अगुआई करेंगे.

विश्व क्वालीफायर भारतीय मुक्केबाजों के पास अगस्त में होने वाले रियो खेलों के लिए क्वालीफाई करने का अंतिम मौका है.

First published: 7 June 2016, 15:08 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी