Home » खेल » Zinedine Zidane regrets headbutting Marco Materazzi in World Cup final
 

10 साल बाद जिदान को अफसोस

कैच ब्यूरो | Updated on: 11 June 2016, 12:13 IST

फ्रांस के महान फुटबॉल खिलाड़ी जिनेदिन जिदान मुंबई दौरे पर हैं. इस बीच जिदान ने शुक्रवार को मुंबई में पत्रकारों से मुलाकात की. 

इटली के डिफेंडर मार्को माटेराज्जी को हेडबट मारने के 10 साल बाद संन्यास ले चुके फ्रांस के महान फुटबॉलर जिनेदिन जिदान ने 2006 वर्ल्ड कप फाइनल में हुई इस घटना पर अफसोस जताया. इसके कारण उन्हें लाल कार्ड दिखा दिया गया था.

पढ़ें: फुटबॉल: यूरो-2016 की उल्टी गिनती शुरू

43 साल के जिदान ने प्रेस कॉन्फ्रेंस के दौरान कहा, "2006 में जो कुछ हुआ, उस पर मुझे गर्व नहीं है. मैं किसी भी खिलाड़ी को इस तरह का बर्ताव करने की सलाह नहीं दे रहा हूं." बतौर खिलाड़ी वो फाइनल मुकाबला इस महान फ्रांसीसी फुटबॉलर का अंतिम मुकाबला था.

फीफा वर्ल्ड कप फाइनल में इटली ने फ्रांस को 1-0 से हराकर खिताब पर कब्जा किया था.

'खुद पर काबू रखें'

जिदान ने 1998 में ब्राजील के खिलाफ फाइनल में दो गोल करके फ्रांस को पहली बार विश्व कप ट्रॉफी दिलाई थी. जिनेदिन जिदान अपनी पत्नी वेरोनिके के साथ गुरुवार को मुंबई पहुंचे थे.

वह कनाकिया पेरिस के ‘वेलनेस एम्बेसडर’ हैं, जो बांद्रा-कुर्ला परिसर में बनने वाली फ्रांस की थीम पर आधारित आवासीय योजना है.

पढ़ें:यूरो 2016: आज से दुनिया महीने भर के लिए फुटबॉल के जुनून में खो जाएगी

तीन बार के ‘फीफा प्लेयर ऑफ द ईयर’ से जब यह पूछा गया कि वह मशहूर स्पेनिश क्लब रियाल मैड्रिड के मैनेजर होने के नाते खिलाड़ियों को ऐसे हालात में क्या सलाह देंगे, तो उन्होंने कहा, "मैं उन्हें कहूंगा कि खुद पर काबू रखो क्योंकि प्रतिद्वंद्वी खिलाड़ी आपको उकसायेंगे ही. लेकिन गलतियां करना जिंदगी का हिस्सा होता है. लेकिन आपको अपनी गलतियों से सीख लेनी होती है."

पढ़ें: यूरो कप से पहले मुंबई पर छाया जिदान का जादू

जिदान ने अपने मार्गदर्शन में रियाल मैड्रिड को इस साल यूएफा चैम्पियंस लीग खिताब दिलाया है. बतौर मैनेजर यह उनका क्लब के साथ पहला ही साल है.

First published: 11 June 2016, 12:13 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी