Home » राज्य » 8 Train Coaches runing 30 km Without Engine at tanakpur in Uttarakhand.
 

Video: बिना इंजन के 30 किलोमीटर तक दौड़ी ट्रेन, टला बड़ा हादसा

Hemraj | Updated on: 12 July 2017, 11:26 IST

उत्तराखंड में रेलवे विभाग की लापरवाही के चलते बड़ा हादसा होते-होते टल गया. मंगलवार को यहां टनकपुर से खटीमा के लिए एक मालगाड़ी चली. हैरान करने वाली बात ये थी कि इस ट्रेन में न तो कोई इंजन था और न ही कोई ड्राइवर. ये ट्रेन बिना इंजन के करीब 30 किलोमीटर तक चली.  

जानकारी के मुताबिक टनकपुर से मालगाड़ी के आठ डिब्बे बिना इंजन के ही खटीमा तक आ गये. बिना इंजन की दौड़ रही मालगाड़ी ने खटीमा के पास नदन्ना बतवेपदह पर एक ट्रैक्टर को चपेट में लिया. हालांकि ट्रैक्टर चला रहे ड्राइवर की समझदारी से उसकी जान बच गई.

ट्रैक्टर के ड्राइवर सरबजीत सिंह ने बताया कि वह रोज की तरह ट्रैक्टर-ट्रॉली से पत्थर ढुलाई कर रहे थे. अचानक उनको फोन कर बताया गया कि बिना इंजन की ट्रेन आ रही है और आप हट जाओ. इतना सुनते ही मुझे सामने से ट्रेन दिखाई दी और मैं रेलवे ट्रैक पर फंसे ट्रक्टर को छोड़कर वहां से कूद गया. 

बिना इंजन की चल रही मालगाड़ी से भले ही किसी व्यक्ति की जान न गई हो, लेकिन मवेशियों को जान गंवानी पड़ी. मालगाड़ी की चपेट में आने से आधा दर्जन बकरियों और एक बछड़े की मौत हो गई.

बताया जा रहा है कि इन डिब्बो में किसी तरह हल्का से धक्का लग गया और ये बिना इंजन और ड्राइवर के पटरी पर दौड़ पड़ी. गौरतलब है कि भोजीपुरा से टनकपुर तक रेलवे लाइन पर काम चल रहा है. इसमें मझोला तक छोटी लाइन को बड़ी लाइन करना है. रेलवे स्टाफ की सूझ-बूझ से खटीमा पर मालगाड़ी को रोक दिया गया. यहां  ट्रेन के पहियों में पटरी डालकर डिब्बों पर काबू पाया गया.

First published: 12 July 2017, 11:26 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी