Home » राज्य » Char dham yatra: 17 pilgrims dies in 19 days
 

चार धाम यात्रा: 19 दिनों में 17 श्रद्धालुओं की मौत

कैच ब्यूरो | Updated on: 17 May 2017, 11:48 IST

चार धाम की यात्रा पर निकले श्रद्धालु लगातार हादसे का शिकार हो रहे हैं. बीते 19 दिनों में 17 श्रद्धालुओं की मौत हो चुकी है. इनमें 16 श्रद्धालुओं की मौत दिल की धड़कनें रुकने से हुई है. भक्तों का आरोप है कि यात्रा के दौरान मुहैया करवाई जाने वाली स्वास्थ्य सेवाओं में कमी के चलते मरने वालों की संख्या बढ़ रही है. उन्होंने इसके लिए राज्य सरकार को भी ज़िम्मेदार ठहराया है.

एक श्रद्धालु ने बताया कि उन्हें स्थानीय लोगों ने आस-पास के अस्पतालों की सुविधाओं के बारे में जानकारी दी थी. उन्हें बताया गया था कि स्थानीय अस्पतालों में कार्डियोलॉजिस्ट नहीं हैं. हर किसी को चार धाम यात्रा पर जाने से पहले वहां की स्वास्थ्य सेवाओं के बारे में सोचना चाहिए.

उत्तराखंड में हृदय रोग विशेषज्ञों की भारी कमी है. एक रिपोर्ट के मुताबिक राज्य में हृदय रोग का एक भी विशेषज्ञ मौजूद नहीं है, जबकि इसके 23 स्वीकृत पद खाली पड़े हैं. फिलहाल राज्य में दो हृदय रोग विशेषज्ञ हैं, जिन्होंने एमबीबीएस के बाद डिप्लोमा किया है ना कि एमएस या एमडी. रिपोर्ट कहती है कि दोनों डॉक्टरों ने वीआरएस के लिए भी आवेदन कर रखा है.

राज्य सरकार की डॉक्टर तृप्ति बहुगुणा ने कहा है कि ज़्यादातर उन श्रद्धालुओं की मौत होती है, जो 60 साल की आयु पार कर चुके हैं. इनमें से ज़्यादातर उच्च रक्तचाप, मधुमेह और श्वास संबंधी समस्यायों का शिकार होते हैं.

First published: 17 May 2017, 11:48 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी