Home » राज्य » Coolie clears civil services Exam use Railway Free Wi Fi to his study at Ernakulam Railway Station in Kerla
 

कुली ने पास की सिविल सर्विस की परीक्षा, रेलवे स्टेशन पर ऐसे की फ्री Wi-Fi से पढ़ाई

कैच ब्यूरो | Updated on: 9 May 2018, 10:03 IST

इंटरनेट आज हर इंसान की जिंदगी का अहम हिस्सा बन गया है. कुछ लोग इसका इस्तेमाल अपनी जिंदगी में बदलाव के लिए करते हैं, तो कुछ लोग सिर्फ टाइम पास करने के लिए इंटरनेट का यूज करते हैं. केरल के एर्नाकुलम में भी कुछ ऐसा ही देखने को मिला, जहां एक कुली ने इंटरनेट का इस्तेमाल कर केरल लोक सेवा आयोग की परीक्षा पास कर ली. हालांकि अभी उनका इंटरव्यू होना बाकी है. अगर वे इंटरव्यू पास कर लेते हैं तो उन्हें भू-राजस्व विभाग में ग्राम सहायक का पद मिल सकता है.

केरल के मुन्नार के रहने वाले श्रीनाथ पिछले पांच साल से एर्नाकुलम रेलवे स्टेशन पर कुली का काम करते हैं. श्रीनाथ का पूरी आजीविका कुली के पेशे पर ही निर्भर है. लेकिन उनके अंदर कुछ अच्छा कर गुजरने का सपना दिन-रात हिलोरें मारता रहता. इसी सपने ने श्रीनाथ का जुनूनी बना दिया.

उन्होंने रेलवे स्टेशन पर उपलब्ध फ्री वाई-फाई का लाभ लेना शुरु कर दिया. इसी वाई-फाई के माध्यम से श्रीनाथ इंटरनेट से पढ़ाई करने लगे और इसी के सहारे केरल लोक सेवा आयोग की परीक्षा पास कर ली. अब श्रीनाथ को उम्मीद है कि वे इंटरव्यू में भी सफलता पा लेंगे और उन्हें सरकारी नौकरी मिल जाएगी.

श्रीनाथ ने परीक्षा पास करने के लिए किताबों का सहारा नहीं लिया. बल्कि मुफ्त वाई-फाई का सहारा लेकर इंटरनेट से पढ़ाई की और सिविल सेवा की परीक्षा पास कर ली. श्रीनाथ अपने कुलीगिरी के काम के दौरान ही अपने मोबाइल फोन पर पढ़ने की सामग्री, शिक्षकों के लेक्चर इत्यादि को चालू कर लेते और ईयरफोन को अपने कान में लगा लेते.

इस दौरान वे अपने शिक्षकों से बातचीत भी कर लेते और अपनी शंकाएं भी दूर कर लेते. चलते-फिरते, लोगों का सामान इधर से उधर ढोते वक्त श्रीनाथ अपनी पढ़ाई पूरी कर लेते. जिससे उन्हें पैसा भी मिलता और पढ़ाई भी हो जाती. श्रीनाथ बताते हैं कि वे पहले तीन बार परीक्षा में बैठ चुके हैं. लेकिन इस बार उन्होंने पहली बार स्टेशन के वाई-फाई का उपयोग अपनी पढ़ाई के लिए किया.

श्रीनाथ बताते हैं कि वे अपने ईयरफोन कान में लगाकर अपनी पठन सामग्री सुनते रहते और लोगों का सामान इधर-उधर पहुंचाते. इस दौरान ने अपने दिमाग में सवाल हल करते. इस तरह उन्होंने काम के साथ-साथ पढ़ाई की. इसके बाद जब रात को उन्हें समय मिलता तो दिन में की गई पढ़ाई को दोहरा लेते.

श्रीनाथ कहते हैं कि स्टेशन पर उपलब्ध वाई-फाई सेवा ने उनके लिए अवसरों के नए द्वार खोले. पहले उन्होंने इस बारे में सोचा भी नहीं, लेकिन इससे उन्हें अपने अभ्यास प्रश्नपत्रों को सुलझाने एवं परीक्षा के ऑनलाइन आवेदन इत्यादि करने में तो मदद मिली ही, साथ ही किताबें खरीदने पर होने वाला उनका एक बड़ा खर्च भी बच गया.

श्रीनाथ ने इसके अलावा भी डी ग्रुप की रेलवे की कई सरकारी नौकरियों के लिए आवेदन किया है. श्रीनाथ अपनी पसंद की नौकरी उसे बताते हैं जिससे उन्हें कुछ अधिकार मिलें और उनसे वे अपने गांव में बदलाव ला सकें.

ये भी पढ़ें- कर्नाटक विधासभा चुनाव: चुनाव प्रचार में PM मोदी की तारीफ कर बैठे CM सिद्धारमैया

First published: 9 May 2018, 10:03 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी