Home » राज्य » Vardah claims 10 life in Tamil Nadu cyclone weakens now
 

तमिलनाडु में तबाही मचाने के बाद कमज़ोर पड़ा 'वरदा', 10 की मौत

कैच ब्यूरो | Updated on: 13 December 2016, 9:21 IST
(पीटीआई)

तमिलनाडु में वरदा चक्रवात से बड़े पैमाने पर तबाही हुई है. राज्य में तूफान की चपेट में आकर 10 लोगों को जान गंवानी पड़ी है. तटीय इलाकों में भारी तबाही का अंदेशा जताया जा रहा है.

तमिलनाडु के मुख्यमंत्री ओ पन्नीरसेल्वम ने मृतकों के परिजनों को राज्य आपदा राहत कोष से 4 लाख रुपये के मुआवजे का एलान किया है.

सोमवार को टकराया था वरदा

सैकड़ों बिजली के पोल और पेड़ इस दौरान उखड़ गए. इसके अलावा आंध्र प्रदेश के दक्षिणी इलाके में भी वरदा की जद में आने से कई कारें और टैंकर पलट गए. सोमवार दोपहर भारी बारिश और तूफानी हवाओं के साथ वरदा चक्रवात चेन्नई के तट से टकराया.

इस दौरान 100 किलोमीटर से भी ज्यादा तेज रफ्तार से हवाएं चलीं. हालात से निपटने के लिए एनडीआरएफ और नेवी को अलर्ट रखा गया था. खासकर आंध्र और तमिलनाडु के तटीय इलाकों में चेतावनी जारी की गई थी. 

चेन्नई में चार की मौत

मौसम विभाग के मुताबिक तमिलनाडु और आंध्र प्रदेश में विनाशलीला के बाद वरदा अब कमजोर पड़ गया है. अब यह तमिलनाडु से पश्चिम-दक्षिण की ओर बढ़ गया है.

एनडीएमए के मुताबिक तमिलनाडु में वरदा से 10 लोगों की मौत हुई है. इनमें से चेन्नई में चार, कांचीपुरम और तिरुवल्लूर में दो-दो, जबकि विलुपुरम और नागापट्टनम में में एक-एक मौत हुई है.

3400 बिजली के खंभे उखड़े

राष्ट्रीय आपदा प्रबंधन प्राधिकरण (एनडीएमए) ने जानकारी दी है कि वरदा के चलते 30 ट्रांसफार्मर को नुकसान पहुंचा है. इसके अलावा 312 रास्ते ब्लॉक हो गए थे. इनमें से 100 को बहाल कर लिया गया है. 

इसके अलावा 4200 से ज्यादा पेड़ चक्रवात की चपेट में आकर धराशाई हो गए. जबकि 3400 इलेक्ट्रिक पोल भी उखड़ गए. इसके अलावा एनडीआरएफ के कैंपों में 11899 लोगों को सुरक्षित निकालकर लाया गया. एनडीएमए के मुताबिक 14581 फूड पैकेटों की सप्लाई की गई.

16 हजार लोगों को निकाला गया

सोमवार को वरदा के असर को देखते हुए चेन्नई एयरपोर्ट पर देर रात तक सभी उड़ाने रद्द कर दी गईं. नौसेना के प्रमुख पीआरओ कप्तान डीके शर्मा के मुताबिक 'वरदा' से निपटने के लिए तमिलनाडु और आंध्र प्रदेश में 19 टीमें मुस्तैद हैं. एयरफोर्स को भी अलर्ट किया गया.

वरदा से प्रभावित तटीय इलाकों से 16 हजार से से ज्यादा लोगों को सुरक्षित जगहों पर पहुंचाया गया है. तूफान से मकानों, संचार सुविधाओं, रेलवे ट्रैक, सड़क और उड़ानों पर बुरा असर पड़ा है. तमिलनाडु में राजधानी चेन्नई के साथ ही तिरुवल्लूर और कांचीपुरम में भी इसका खासा असर देखा गया.

वरदा तूफ़ान इतना शक्तिशाली था कि चेन्नई में एक पांच सितारा होटल की दीवार में लगे कांच के शीशे टूट गए. वहीं आंध्र प्रदेश में भी तेल ले जा रहा एक टैंकर सड़क पर पलट गया.

कर्नाटक होते हुए गोवा से गुजरेगा

केंद्रीय गृह मंत्री राजनाथ सिंह ने दोनों राज्यों में फ़ोन करके नुकसान का ब्यौरा जाना. उन्होंने यह भी कहा कि किसी तरह की मदद के लिए केंद्र सरकार तैयार है. 

राहत और बचाव कार्य में मदद के लिए नेवी, एयरफोर्स और सेना की टीमें भी मुस्तैद थीं. पांच हज़ार लोगों के लिए खाना, पानी और डॉक्टरों की टीम के साथ नेवी के दो जहाज़ तैयार रखे गए. वरदा तूफ़ान आज कर्नाटक पहुंच रहा है और 14 दिसंबर को यह दक्षिणी गोवा के तट से टकराएगा.

First published: 13 December 2016, 9:21 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी